छात्र शक्ति राष्ट्र शक्ति :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

19 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (396 बार पढ़ा जा चुका है)

छात्र शक्ति राष्ट्र शक्ति :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*किसी भी देश का भविष्य युवाओं को कहा जाता है | युवा शक्ति राष्ट्र शक्ति के रूप में जानी जाती है | भारत के संपूर्ण जनसंख्या का एक चौथाई हिस्सा आज युवा वर्ग है | छात्रों को राष्ट्र का भविष्य एवं भाग्यविधाता कहा जाता है छात्र समाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं | विद्यालय में रहकर सामाजिकता , नैतिकता , न्याय , सहयोग एवं अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करना छात्रों में देखने को मिलता है | समय-समय पर देश के नव निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले छात्रों ने समयानुकूल आंदोलन चलाकर के देश की दिशा एवं दशा को भी परिवर्तित कर दिया है | छात्र शक्ति को राष्ट्रशक्ति इसलिए कहा जाता है क्योंकि यही जीवन का वह समय होता है जब एक युवा छात्र के मस्तिष्क में नए-नए विचार , नए-नए आविष्कार एवं नई सोच का जन्म तो होता ही है साथ ही कुछ भी कर डालने की महत्वाकांक्षा युवाओं को विशेष बना देती है | किसी भी देश का युवा जिधर मुड़ जाता है उधर की ओर पूरा देश मुड़ने पर विवश हो जाता है | छात्र शक्ति स्वयं मैं वह शक्ति है जो देश के निर्माण में अनेकों प्रकार से योगदान करती है | हमारे देश भारत को स्वतंत्र कराने में युवाओं का महत्वपूर्ण स्थान रहा है , यदि युवा शक्ति ना होती तो शायद आज हम स्वतंत्र ना होते | इसीलिए युवा शक्ति , छात्र शक्ति को राष्ट्र शक्ति कहा जाता है | भारत के नवनिर्माण में युवाओं एवं छात्रों के महत्त्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता |*


*आज छात्रशक्ति दिग्भ्रमित सी दिख रही है , अपनी संगठन शक्ति का नकारात्मक प्रयोग करके देश को अंधकार की ओर ले जाने का कार्य आज छात्रों के द्वारा किया जा रहा है | आज हम जिस परिवेश में जीवन जी रहे हैं वह ऐसा समय है जहां छात्रों ने अपनी शक्ति का नकारात्मक प्रयोग करना प्रारंभ कर दिया है | विषय को जाने बिना किसी राजनीतिक दल के बहकावे में आकर आंदोलन कर देना या हिंसात्मक विरोध करना आज के युवाओं की परिणिति बनती जा रही है | किसी आतंकवादी के मृत्युदण्ड पर देश में आंदोलन चलाना एवं देश के संविधान के विरोध में हिंसात्मक कार्य करना आज के छात्रों का विषय विशेष बनता दिख रहा है | आज देश की जो स्थिति है उसमें यही देखने को मिल रहा है कि आज भारत का युवा जो कि भविष्य का निर्माता है किस तरह सड़कों पर तांडव कर रहा है | कुछ राजनीतिक दल युवाओं की असीम शक्तियों का दुरुपयोग बड़ी ही सावधानी एवं चतुरता से कर रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अपने देश के भविष्य कहे जाने वाले छात्रों से यही पूछना चाहता हूं कि आपने विद्या अर्जित की है , जीवन के अनेक क्षेत्रों में अनेक विषयों का ज्ञान अर्जन किया है , आप विश्वविद्यालय के छात्र हैं तो आप में इतना विवेक तो होना ही चाहिए कि अपना भविष्य एवं देश की दिशा एवं दशा को पहचान सकें | आज छात्र जिस प्रकार अंधी भीड़ का हिस्सा बनते जा रहे हैं उससे आने वाले समय में इन छात्रों का भविष्य क्या होगा यह कहना बड़ा कठिन है | जो छात्र शक्ति किसी भी देश की दिशा दशा को परिवर्तित करने में सक्षम है वही छात्र शक्ति आज कुछ चंद लोगों के इशारों पर नाच रही है और अपना स्वयं का भविष्य अंधकार में कर रही है जो कि हमारे देश भारत के लिए चिंता का विषय है |*


*अपने ज्ञान एवं एकता की शक्ति से दूसरों को नचा देने वाले छात्र आज बिना विषय की गहराई को जाने कुछ राजनीतिक दलों के इशारे पर नाच रहे हैं और देश संपत्तियों की छति कर रहे हैं जो कि कदापि उचित नहीं कहा जा सकता है |*

अगला लेख: रामराज्य की कल्पना कैसे फलीभूत होगी ?? :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
19 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में
19 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में मनुष्य को क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए यह सारा मार्गदर्शन हमारे ऋषियों ने शास्त्रों में लिख दिया है | क्या करके मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है और क्या करके उसका पतन हो सकता है इसका मार्गदर्शन एवं उदाहरण हमारे पुराण में भरा पड़ा है | जिनके अनुसार मनुष्य सत्कर्म करके सफलत
16 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x