भ्रम से बचने का प्रयास करें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

19 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (383 बार पढ़ा जा चुका है)

भ्रम से बचने का प्रयास करें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में पड़ा हुआ मनुष्य यह सोचता है कि जो मैं सोच रहा हूं या जो कर रहा हूं वही सही है शेष पूरा समाज गलत है | भ्रम का पर्दा इतना मोटा होता है कि मनुष्य को पर्दे के उस पार की सच्चाई नहीं दिखाई पड़ती है | यह भ्रम कभी-कभी किसी की बात सुनकर या किसी के बरगलाने पर मनुष्य के हृदय में प्रकट हो जाता है | किसी के द्वारा किसी भी विषय पर यदि भ्रम पूर्ण स्थिति उत्पन्न की जाती है तो मनुष्य को सर्वप्रथम उस विषय के जड़ तक जाने का प्रयास करना चाहिए | जब मनुष्य उस विषय की जड़ तक पहुंचता है तब उसे लगता है कि सही क्या है और गलत क्या है ? परंतु अधिकतर मनुष्य सच्चाई को ना जान कर के भ्रम में पड़कर ऐसे कृत्य करने लगते हैं , जिसके कारण उन्हें बाद में पश्चाताप भी होता है , परंतु पश्चाताप उनके द्वारा किए गए कुकृत्यों को कृत्यों में नहीं परिवर्तित कर सकता है | त्रैलोक्य विजयी रावण की प्रजा एवं उनके सैनिक इस भ्रम में रहे कि हमारे महाराज ने देवताओं को भी जीत लिया है तो बंदर भालू की सेना को भला कैसे नहीं जीत सकते हैं ? इस भ्रम का क्या परिणाम हुआ यह इतिहास में वर्णित है | जीवन में पश्चाताप न करना पड़े इसके लिए आवश्यक है कि प्रत्येक मनुष्य किसी भी चर्चा या अफवाह को सुनने के बाद उस विषय की गहराई में जाने का प्रयास करें जिससे कि भ्रम की स्थिति उत्पन्न न हो |*


*आज हमारे देश भारत में जिस प्रकार हिंसक प्रदर्शन देखने को मिल रहा है वह मात्र कुछ राजनीतिक दलों के द्वारा फैलाए गए भ्रम का ही परिणाम है | विषय की गहराई एवं सच्चाई के विपरीत जाकर के जन समुदाय किसी असंवैधानिक आवाहन पर एकजुट होकर जो प्रदर्शन कर रहा है उसका परिणाम राष्ट्रीय संपत्तियों की छति के रूप में देखने को मिल रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह विचार करता हूं इस देश को चलाने का दम भरने वाले कुछ राजनीतिक दल अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए देश की जनता को बरगला कर देश की क्षति कर रहे हैं वे राजनीतिक दल देश को कैसे चलायेंगे ? मेरा मानना है कि आम जनमानस को इन राजनीतिक दलों के मंतव्य को समझते हुए भ्रम पूर्ण स्थिति से बाहर निकलने का प्रयास करना चाहिए | यह तभी हो पाएगा जब हम उस तथाकथित विषय को समझने का प्रयास करेंगे | ऐसा करने वालों को एक बार यह विचार करना चाहिए कि जिस सरकारी संपत्ति का उनके द्वारा विनाश किया जा रहा है उसका उपयोग उनके द्वारा भी किया जाता रहा है | कहने का तात्पर्य है कि किसी के कहने पर अपने ही घर को जलाना बुद्धिमत्ता नहीं कही जा सकती है | भ्रम की स्थिति में आम जनमानस जल रहा है और राजनीतिक दलों की स्वार्थ पूर्ति हो रही है | आज भारत के नागरिक इतने पढ़े लिखे होने के बाद भी इस राजनीतिक मंशा को नहीं समझ पा रहे हैं तो यह देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा | कुछ हताश - निराश राजनौतिक दल आज युवा छात्रों को बरगला कर राष्ट्र की सम्पत्तियों का विनाश करवा रहे हैं उनको भी यह विचार करना चाहिए कि कल उनको भी इसी देश पर शासन करना है | भ्रम की स्थिति में पड़कर आज पूरे देश में हिंसा का जो दौर चल रहा है उस भ्रम से निकलने की आवश्यकता है |*


*समस्त देशवासियों से यही निवेदन है जिस विषय को लेकर विरोध प्रदर्शन एवं उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं उस विषय को समझने का प्रयास करें जिस दिन विषय को समझ लिया जाएगा उस दिन यह भ्रमपूर्ण स्थिति स्वयं दूर हो जाएगी |*

अगला लेख: रामराज्य की कल्पना कैसे फलीभूत होगी ?? :- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
*इस धरती पर मानव समाज में वैसे तो अनेकों प्रकार के मनुष्य होते हैं परंतु इन सभी को यदि सूक्ष्मता से देखा जाय तो प्रमुखता दो प्रकार के व्यक्ति पाए जाते हैं | एक तो वह होते हैं जो समाज की चिंता करते हुए समाज को विकासशील बनाने के लिए निरंतर प्रगतिशील रहते हैं जिन्हें सभ्य समाज का प्राणी कहा जाता है ,
21 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में मनुष्य को क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए यह सारा मार्गदर्शन हमारे ऋषियों ने शास्त्रों में लिख दिया है | क्या करके मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है और क्या करके उसका पतन हो सकता है इसका मार्गदर्शन एवं उदाहरण हमारे पुराण में भरा पड़ा है | जिनके अनुसार मनुष्य सत्कर्म करके सफलत
16 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
07 दिसम्बर 2019
*इस धरा धाम पर जितने भी जीव उपस्थित है सबको ही परमात्मा ने शरीर की अन्न संरचना के साथ साथ पेट भी प्रदान किया है , पेट की आवश्यकता होती है भोजन | बिना भोजन के उदर पूर्ति नहीं हो सकती और बिना उदर पूर्ति के जीव का जीवित रह पाना थोड़ा कठिन है | मानव समाज में भोजन का कितना महत्व है यह बताने की आवश्यकता न
07 दिसम्बर 2019
09 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण विश्व में प्रारंभ से ही भारत देश अपने क्रियाकलापों एवं दूरदर्शिता के लिए जाना जाता रहा है | विश्व के समस्त देशों की अपेक्षा भारत की सभ्यता , संस्कृति एवं आपसी सामंजस्य एक अनुपम उदाहरण प्रस्तुत करता रहा है | यहां पूर्व काल में एक दूसरे के सहयोग से दुष्कर से दुष्कर कार्य मनुष्य करता रहा है
09 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x