विश्व के महान शासक नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन-परिचय

23 दिसम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (837 बार पढ़ा जा चुका है)

विश्व के महान शासक नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन-परिचय

अभी तक आपने भारत के कई महान योद्धाओं के बारे में जाना और पढ़ा होगा लेकिन दुनिया के जो महान शासक थे उनके बारे में शायद ही आपने सुना हो। इनका नाम नेपोलियन बोनापार्ट था जो फ्रांस के एक महान शासक थे। नेपोलियन ने कभी हारना सीखा ही नहीं था, उन्होंने अपने मजबूत इरादे और अटूट दृढ़संकल्पों के साथ दुनिया के बड़े हिस्से पर अपना दबदबा कायम किया। विश्व को अपनी ताकत और बहादुरी का परिचय भी दिया, कि उनमें एक अद्भुत साहस था। इनके सामने दुश्मन भी खौफ खाते थे। नेपोलियन बोनापार्ट एक साधारण आदमी थे लेकिन दुनिया के सबसे शक्तिशाली और ताकतवर बादशाह बनने में उन्हें समय नहीं लगा। यहां हम आपको Nepolian bonapart in Hindi बताने जा रहे हैं जो आपको जरूर पसंद आएगा।


नेपोलियन बोनापार्ट की जीवनी | Nepolian bonapart Biography


नेपोलियन बोनापार्ट का जन्म 15 अगस्त, 1769 को फ्रांस के कोर्सिका द्वीप के अजैक्सियों में हुआ था। इनके पिता कार्लो बोनापार्ट फ्रांस के राजा के दरबार में कोर्सिका द्वीप के प्रतिनिधि थे। नेपोलियन का जन्म रईस खानदान में हुआ था इस वजह से इनका बचपन काफी सुखद रहा, इन्हें अच्छी शिक्षा मिली और इनके परिवार वालों ने इनकी योद्धा प्रवृत्ति को देखते हुए इन्हें फ्रांस की एक मिलिट्री एकेडमी में सैनिक अफसर बनने के लिए भेजा गया था। इसके बाद नेपोलियन ने पेरिस के एक कॉलेज से साल 1785 में अपनी ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की और फिर रेजीमेंट तोपखाने में उन्हें सबलेफ्टिनेंट के पद पर नियुक्ति मिल गई। नेपोलियन के पिता की मौत हो जाने से इनके ऊपर परिवार की जिम्मेदारी आ गई। इनके ऊपर 7 भाई-बहनों की जिम्मेदारी थी जिनका पालन-पोषण इन्होंने ही किया। नेपोलियन ने जोसेफीन के साथ शादी की लेकिन इन्हें कोई संतान नहीं हुई तो उन्होंने लुऊस के साथ दूसरी शादी की और पिर नेपोलियन पिता बनने में कामयाब हुए।


फ्रांस में नेपोलियन की क्रांतिकारी के रूप में भूमिका


Napoleon Bonaparte


साल 1786 में नेपोलियन कोर्सिका आ गए और इसके तीन ही साल बाद फ्रांस की लोकतांत्रिक क्रांति शुरु हो गई थी। इस विद्रोह का मकसद फ्रांस की राजशाही को पूरी तरह से खत्म करके लोकतंत्र की स्थापना करना था। फ्रांस में ये विद्रोह साल 1799 तक चला जिसमें नेपोलियन ने एक खास भूमिका निभाई थी। फ्रांस के विद्रोह के समय वे फिर फ्रांस आए और वहां उनकी सैन्य प्रतिभा को देखते हुए उन्हें विद्रोही सेना की एक टुकड़ी का कमांडर बनाया गया। इसके बाद साल 1793 में जब इंग्लैंड की सेना से फ्रांस के टाउलुन शहर पर कब्जा किया तो नेपोलियन ने अंग्रेजों को बाहर निकालनकर जीतने की जिम्मेदारी ली, इसके बाद उन्होंने अपने अद्भुत युद्ध कौशल और अदम्य सैन्य प्रतिभा का प्रदर्शन करके वहां अंग्रेजों को खदेड़कर भगा दिया। नेपोलियन के कारण फ्रांस को एक नाउम्मीद जीत हासिल हुई। इस जीत के बाद फ्रांस के राजा इनसे काफी प्रभावित हुए और सिर्फ 24 साल के नेपोलियन को बिग्रेडियर जनरल बना दिया, वहीं इसके बाद नेपोलियन साल 1796 में इटली पर भी विजय हासिल करके वहां के बादशाह बने। इससे उनकी शौहरत और प्रसिद्धि बढ़ती चली गई।


नेपोलियन इस तरह बने फ्रांस के बादशाह


साल 1799 में फ्रांस की राजधानी पेरिस के हालत खराब होने लगे, इससे वहां की सरकार जिसे डायरेक्ट्री कहा जाता था असहाय और कमजोर होने लगी थी। ऐसे समय में नेपोलियन बोनपार्ट ने अपनी रणनीति कुशलता से वहां पर नई सरकार की स्थापना कर दी। इसके बाद नेपोलियन ने फ्रांस की आर्थिक व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए कई बड़े परिवर्तन किए और शिक्षा का प्रसार भी किया। लोगों को उनके अधिकार दिलवाए, इतना ही नहीं उन्होंने फ्रांस की एक ताकतवर सेना भी तैयार की। इनकी लोकप्रियता लोगों के बीच बढ़ने लगी और साल 1804 में उन्होंने फ्रांस में अमन कायम करने के लिए खुद को सम्राट घोषित किया। फ्रांस के सम्राट बनने के बाद साल 1805 में अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी लड़ाई जीती, जिसमें ऑस्ट्रेलिया और रूस की विशाल सेनाओं को अपने रणनीतिक कौशल से पराजित कर डाला। इस विद्रोह में नेपोलियन ने दुश्मन के 26 हजार सैनिकों को मार दिया और अपनी बहादुरी का परिचय पूरी दुनिया में दिया। साल 1805 से लेकर 1811 तक नेपोलियन बेताज बादशाह बन चुका था जिसने हॉलैंड, जर्मनी, इटली और ऑस्ट्रेलिया जैसे तमाम बड़े देशों में फ्रांसीसी साम्राज्य का विस्तार करके यूरोप में अपना दबदबा बना लिया था।


इस तरह बिखरी नेपोलियन की बादशाहत


Napoleon Bonaparte


ब्रिटेन के शांति समझौता नहीं होने पर साल 1812 में नेपोलियन ने ब्रिटेन के व्यापार को पूरी तरह से रोकने का फैसला किया। इसकी आर्थिक नाकेबंदी के लिए रूस की मनाने के लिए रूस की सीमा पर फ्रांस के करीब 6 लाख सैनिक तैनात किए। मगर रूस के मोर्चे पर नेपोलियन को कोई खास कामयाबी नहीं मिली बल्कि भयानक सर्दी होने के कारण नेपोलियन को पीछे हटना पड़ा था। इतना ही नहीं इसी दौरान नेपोलियन की भारी सेना भुखमरी का शिकार हो गई, वहीं से नेपोलियन की बादशाहत बिखरने लगी थी। हम सभी ने स्कूल के दिनों में इतिहास की किताबों में कई महान युद्धों की तारीखें याद की हंगी लेकिन समय के साथ हम स्कूल में पढ़ी किताबें भूल गए। स्कूल के दिनों में हम सभी ने फ्रांस के सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट और वाटरलू की लड़ाई के बारे में पढ़ा था। वाटरलू की लड़ाई ऐसी लड़ाई थी जिसने अधिकांश यूरोप को जीतने वाले नेपोलियन की कहानी को खत्म किया था। लंदन के एक भूवैज्ञानी मैथ्यू येंज की रिसर्च में ये बात सामने आई थी कि वाटरलू ने नेपोलियन को एक बारिश के कारण हरा दिया था। दरअसल, 19वीं शताब्दी के शुरुआत में यूरोप के आधे से ज्यादा हिस्सों पर राज करने वाले फ्रांसीसी शासक नेपोलियन बोनापार्ट को उसके ही देश से निकाल दिया गया था। नेपोलियन को एल्बा द्वीप भेजा गया, साल 1815 में नेपोलियन ने 70 हजार सैनिकों के साथ नीदरलैंड पर हमला करने का निर्णय लिया। इसी बीच नेपोलियन के खिलाफ विद्रोह की हवा चलने लगी और उसके सपने चकनाचूर हो गए। ये चकनाचूर एक गठबंधन के कारण हुआ और ये गठबंधन बेल्जियम, ब्रिटिश, जर्मन और डच सेनाओं के बीच था। जिसका सामना नेपोलियन की सेना को करना था।

बेल्जियम, ब्रिटिश, जर्मन और डच सेनाओं की इस गठबंधन वाली सेना का नेतृत्व उस समय वेलिंग्टन के ड्यूक और मार्शल गेभार्ड वॉन ब्लूचर कर रहे थे। ऐसा माना जाता है कि इस गठबंधन वाली सेना और नेपोलियन की सेना के बीच वाटरलू की लड़ाई करीब 10 घंटे तक चली थी। उसी बीच तेज बारिश होने के कारण नेपोलियन को सेना से लड़ने में परेशानी होने लगी। लड़ाई के दौरान नेपोलियन की एक गलती ये हो गई कि उसने अपने घुड़सवारों का उपयोग काफी देर से किया। जमीन गीली होने के कारण नेपोलियन के सैनिक लड़ने में कमजोर होने लगे, हालांकि उस समय नेपोलियन की हार की वजह मौसम को नहीं ठहराया गया था। वाटरलू की लड़ाई के 200 सालों के बाद एक रिसर्च में ये बात सामने आई कि नेपोलियन की हार की वजह तेज बारिश ही थी। रिसर्च में सामने आया कि साल 1815 में गर्मी के महीने में जो बारिश हुई थी उसकी उम्मीद किसी को नहीं थी।


नेपोलियन बोनपार्ट की मृत्यु | Napoleon Bonaparte Death


Napoleon Bonaparte


वाटरलू की लड़ाई हारने के बाद ब्रिटेन ने नेपोलियन को करीब 6 साल तक दक्षिण अटलांटिक के सेंट हेलेना नाम के द्वीप में कैद करके रखा था। फिर साल 1821 में पेट के कैंसर के कारण इस महान सम्राट की मौत हो गई थी। मृत्यु के बाद नेपोलियन को सेंट हेलेना द्वीप में ही दफना दिया गया था लेकिन साल 1840 में उनके अवशेषों को फ्रांस में एक बार फिर दफनाया गया था। इस तरह नेपोलियन ने अपने जीवनकाल में अपनी अद्भुत शक्ति और अदम्य शक्ति का परिचय देकर यूरोप में अपना नाम स्थापित किया। इतिहास के सबसे महान बादशाहों में नेपोलियन बोनापार्ट का नाम भी लिया जाता है। नेपोलियन बोनापार्ट 5 फुट 6 इंच का था और इन्होंने एक रोमांटिर नॉवेल क्लिसन एट यूजीन भी लिखी थी। फ्रांस में किसी भी सुअर का नाम नेपोलियन रखना गैरकानूनी माना जाता है।

अगला लेख: जरा हटके: बारात आने में हुई देरी तो दुल्हन ने दूसरा पटा लिया, ऐसी है दिलचस्प कहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 दिसम्बर 2019
देश में रेप और उसके बाद हत्या की घटना ज्यादा ही बढ़ने लगी है। हर लड़की एक डर के साए में जी रही है और सरकार से एक ही सवाल कर रही है कि क्या वे भारत में सेफ हैं। पहले दिल्ली वाले निर्भया केस और अब हैदराबाद जैसा केस सामने आया जिसके बाद देश में एक आक्रोश आ गया है। सभी एक ही सवाल कर रहे है कि उन्हें सजा
10 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
देश की राजधानी में इन दिनों जो कुछ भी चल रहा है उससे हर कोई वाकिफ है। मगर ये बेफिजुली के झगड़े से आपको क्या लगता है कि इन छात्रों का उपद्रव पूरी तरह से सही है? किसी भी झगड़े में एक पक्ष पूरी तरह से सही नहीं हो सकता है और ऐसा ही जामिया में होने वाले विवाद में भी हो रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि रविवार को
16 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से हैं तो जब घर में कोई सामान या कपड़े लेने की बातें होती हैं तो एक बात अक्सर सुनने को मिलती है। वो ये कि ये सामान जहां से आपने लिया है वो इस जगह से लेती तो आपको 100-200 रुपये कम में ही मिल जाता। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि सामान कहां से लें कि सस्ता मिल जाए लेकिन सही जान
13 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
आज का समय ऐसा आ गया है जब हर चीज ऑनलाइन हो गया है और हर छोटी बड़ी चीजें ऑनलाइन मिलने लगी हैं। फिर वो कैसी भी चीजें हों और उन्हें आप कई दूसरी शॉपिंग एप पर पा सकते हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गांव-घर में मिलने वाला गोबर का गोएठा जिसे आम भाषा में लोग कंडा कहते हैं उसे अब सिर्फ भारत के गांवों में
17 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
राजधानी दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया कैंपस में रविवार की रात जो कुछ भी हुआ इससे देश अब तक वाकिफ हो चुका है। ये सभी छात्र थे या किस पक्ष के लोग थे इस बात की जांच होनी अभी बाकी है लेकिन कार्यवाही तो जरूर होगी, वहीं छात्रों का आरोप है दिल्ली पुलिस बिना वीसी के अनुम
16 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
16 दिसंबर, 2012 का वो काला दिन जब दिल्ली में एक महिला के साथ 6 लोगों ने मिलकर गैंगरेप किया था। इतना ही नहीं उसके साथ ऐसी बर्बता की जिसे सुनकर आज भी लोगों की रूह कांप जाती है। एक लड़की के साथ इंसान कितना हैवान बन सकता है ये उस रात इन 6 दरिंदों ने बता दिया था। इस केस में सभी को पुलिस हिरासत में ले लिय
16 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
हर इंसान के जीवन में शादी बहुत अहम फैसला होती है तभी इसे करने से पहले लोग बहुत सोचते हैं क्योंकि इंसान अपने जीवन में शादी एक बार ही करता है। अगर ये शादी हमेशा चल गई और इंसान खुशी के साथ इसे बिताने लगे तो बस उसकी सारी परेशानी दूर हो जाती है लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता तो हमेशा के लिए उन्हें भोगना पड़त
11 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया पर रानू मंडल का नाम खूब चर्चित रहा है। रानू मंडल को फिल्मों में गाने के लिए मुंबई बुलाया गया था लेकिन वे गानों से ज्यादा सोशल मीडिया पर किसी ना किसी वीडियो या मीम्स के जरिए छाई रहती हैं। रानू मंडल के ऊपर एक के बाद एक मीम्स या विवाद हो ही रहे हैं यहां तक उनके ऊपर ये भी
11 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x