चकाचौंध

24 दिसम्बर 2019   |  शिल्पा रोंघे   (457 बार पढ़ा जा चुका है)


चकाचौंध पत्रिका अपने प्रकाशन के चार साल पूरे कर चुकी थी, किसी को उम्मीद भी नहीं थी कि इस पत्रिका की बिक्री इतनी बढ़ जाएगी, अब ऐसे में सभी सदस्यों को मीटिंग में बुलाया गया और उनके योगदान के लिए बधाई दी गई। तभी मीटिंग में एक व्यक्ति ने पत्रिका के मालिक से कहा हम चाहते है कि अब हमारी पत्रिका की ब्रिकी काफी बढ़ चुकी है ऐसे में उसमें कुछ बदलाव किए जाए जिससे ये सिर्फ युवा वर्ग तक सीमित ना रहकर एक पारिवारिक पत्रिका बन जाए।

मालिक ने कहा आप सुझाव दे सकते है तब उस सदस्य ने कहा कि अब पत्रिका हम में बोल्ड तस्वीरे नहीं लगाना चाहते है जो कि सिर्फ ध्यान आकर्षित करने का काम करती हो, बल्कि स्वस्थ और सपूंर्ण परिवार के मनोरंजन देने वाली पत्रिका के रुप में इसकी पहचान बनाना चाहते है, साथ ही जो प्रोडक्ट समाज के स्वास्थ के लिए अच्छा नहीं उसके विज्ञापन भी छापने से गुरेज़ करेंगे और सिर्फ मैं ही नहीं सभी सदस्य यही चाहते है

तब मालिक ने कहा ये प्रयोग हम पत्रिका के शुरुआती दिनों में कर चुके है तब पत्रिका कि बिक्री काफी कम थी जब उसके कंटेट को थोड़ा मसालेदार बनाया गया तब जाकर पाठकों ने उसे पसंद किया, खैर मुझे कोई समस्या नहीं है लेकिन ऐसा करने से मुनाफ़े में कमी हो सकती है हो सकता है कि जिस इन्क्रीमेंट का आप इंतज़ार कर रहे थे वो आपको ना मिले और घाटा होने पर स्टाफ कम करना पड़े ये नौबत भी आ सकती है। क्या आप इसके लिए तैयार है मैं आप सबको को सोचने के लिए कल तक का वक्त देता हूं सोचकर मुझे बताएं।


कल तक जो सदस्य एकता के साथ खड़े थे मालिक के तर्क सुनकर उनके होश उड़ गए और उन्होंने अपनी मांग से पीछे हटने का फैसला किया कुछ ने तर्क दिया कि बिना पैसों के उनका घर बार कैसे चलेगा, बच्चों की फीस का क्या होगा ?

केवल दो युवा सदस्य ही अपनी मांग पर अड़े रहे और अंत में इस्तीफा दे दिया।

उनके जाते ही ऑफिस के सदस्य अलग- अलग सुर गा रहे थे, उनमें से एक सदस्य ने कहा अभी उम्र कम है इनकी आटे दाल के भाव जब मालूम होंगे तो सारे आदर्श धरे रह जाएंगे

तभी ऑफिस की सबसे बुजुर्ग सदस्य ने कहा "चलो किसी ने तो हिम्मत की चकाचौंध से दूर रहने की वरना हम तो जिम्मेदारियों के बोझ तले अपनी राय रखना ही भूल गए थे, खिड़की से उन दो सदस्यों को जाते देखकर उन्होंने कहा कि मैं भी शायद यहां ज्यादा दिन काम नहीं कर पाउंगी"


एक महीने बाद चकाचौंध पत्रिका के ऑफिस में न्यू ईयर पार्टी हो रही थी, अब दस में से तीन सदस्य जा चुके थे, जिनके जाने के बाद भी चकाचौंध दिनों दिन लोकप्रिय हो रही थी और उसकी बिक्री भी बढ़ रही थी, जल्द ही इस चकाचौंध में पुराने तीन साथियों को भुला दिया गया, कुछ इस तरह कि वो कभी इसका हिस्सा भी नहीं थे। चारों तरफ बस हैप्पी न्यू ईयर की धुन बज रही थी, और लोग एक दूसरे को इन्क्रीमेंट की बधाई दे रहे थे।



नोट- यह कथा पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी भी जीवित या मृत व्यक्ति व्यक्ति, घटना या स्थान से कोई संबध नहीं है। सर्वाधिकार सुरक्षित इस कथा को आप नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके भी पढ़ सकते है

http://koshishmerikalamki.blogspot.com/2019/12/blog-post.html

लघुकथा- चकाचौंध

अगला लेख: जोगी बनना कहां आसान है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 दिसम्बर 2019
कहते है जो ये कि वक्त के पंजों से बचालेंगे तुम्हेंवहीं सबसे बड़ेशिकारी होते हैं.शिल्पा रोंघे
19 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
सा
साथी उसे बनाओं जो सुख दुख में साथ दे.ना कि उसे जो सिर्फ तस्वीरों में आपकी शोभा बढ़ाएं.शिल्पा रोंघे
21 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
स्
सीता स्वंयवर पर .....कैसे मैं पहचानू उन्हें.कैसे मैं जानूं के वो बनें हैै वो मेरे लिए.होगी सैकड़ों की भीड़ वहां.तेजस्वी और वैभवशाली तो होंगेवहां कई और भी.लेकिन सुना है मैंनें शिव का धनुषउठा सकेंगे कुछ ऐसे प्र
20 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
31 दिसम्बर 2019
सौम्या यही नाम था उसका,हमारे पड़ोस में रहने वाले तिवारी जी की बेटी थी।आज उसे घर लाया जा रहा था, कहां से? कहीं बाहर गई थी क्या सौम्या? हां, पिछले कई दिनों से दिखी भी नहीं थी।मैंने पूछा भी था,तो टाल-मटोल वाला जबाव मिला था, लेकिन आज सारी कहानी सामने थी। आठवीं में ही पढ़ती थीसौम्या! बड़ी चुलबुली और प्या
31 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
जो
आसान नहीं है ज़िंदगीजीने का तरीका सीखलाना.आसान नहीं किसी कोसही राह दिखाना.आसान नहीं है खुद को भी बदलना, कुछ ख़्वाहिशोंको छोड़ना, कुछ सुविधाओं को त्यागना.त्याग की अग्नी में तपना औरउम्मीद के दीपक जलाना.धूप, बारिश, और ठंडको सहना.होंठो पर शिकायत कम और समाधाननिकालना.हां सचम
13 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
स्
सीता स्वंयवर पर .....कैसे मैं पहचानू उन्हें.कैसे मैं जानूं के वो बनें हैै वो मेरे लिए.होगी सैकड़ों की भीड़ वहां.तेजस्वी और वैभवशाली तो होंगेवहां कई और भी.लेकिन सुना है मैंनें शिव का धनुषउठा सकेंगे कुछ ऐसे प्र
20 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
वो भी बचपन के क्या दिन थेजब हम घूमते थे और खुस होते थेतब हम रोते थे फिर भी चुप होते थेना वादे होते थे ना शिकवे होते थेबस थोड़ा लड़ते थे फिर मिलते थेवो भी क्या बचपन के दिन थेतब सब कुछ अच्छा लगता थाचाहे जो हो सब सच्चा लगता थागांव की गालिया नानी के यहाँ अच्छा लगता थाना झूठ था ना फरेब था एक दूसरे की रोटिय
13 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
मंटूबड़ा खुश था । प्राइमरी में टीचर लगे उसेअभी साल भर भी नहीं हुआ था कि सरकार द्वारा प्रायोजित डी-एड पाठ्यक्रम के लिए उसकानामांकन हो गया । प्राइमरी स्तर के बालकों कोपढ़ाने के लिए डी-एडकी पढाई काफी महत्वपूर्ण है । समय परसमस्त शिक्षक सेंटर पहुँच गए । पाठ्यक्रमप
17 दिसम्बर 2019
07 जनवरी 2020
मौ
एक ही मौन के देखो कितने रूप.कभी ध्यान है,कभी निद्रा है मौन,कभी उपासना है मौन,कभी भोरतो कभी रात का काला सन्नाटा है मौन,ना पूरा "हां" ना पूरा "ना"है मौन.ना पूरा है ना अधूरा हैसचमुच एक रहस्य ही है मौन.शिल्पा रोंघे
07 जनवरी 2020
14 दिसम्बर 2019
पानीपत के लिए कृति सेनन ने मराठी स्टाईल अपनायाहै, इस फिल्म में वो दुल्हन के रुप में भी नज़र आई है।इस फिल्म सेपहले बाजीराव मस्तानी में प्रियंका चोपड़ा और मनीकर्णिका में कंगना ने झांसी की रानी में रॉयल ब्राईड लुकअपनाया था। जिसकी काफी तारीफ हुई थी। अब कृति की खूबसूरती में चा
14 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
हर बार सच्चाई की सफाई देना जरुरी नहीं.कभी कभी सही वक्त सब कुछसाफ कर देता हैअपने आप ही.सूरज को ढकनेकी कोशिश करता हैबादल हर कभी, लेकिन उसे रोशनी देनेसे रोक सका हैक्या वो कभी.शिल्पा रोंघे
17 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
स्
सीता स्वंयवर पर .....कैसे मैं पहचानू उन्हें.कैसे मैं जानूं के वो बनें हैै वो मेरे लिए.होगी सैकड़ों की भीड़ वहां.तेजस्वी और वैभवशाली तो होंगेवहां कई और भी.लेकिन सुना है मैंनें शिव का धनुषउठा सकेंगे कुछ ऐसे प्र
20 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x