हानि लाभ, जन्म मृत्यु, मान अपमान , बीमारी दुर्घटना को किसी ग्रहण से मत जोड़ें

26 दिसम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

हानि लाभ, जन्म मृत्यु, मान अपमान , बीमारी दुर्घटना को किसी ग्रहण से मत जोड़ें

डॉ दिनेश शर्मा ने आज ग्रहण से डरने वालों के लिए बड़ा ही सारगर्भित लेख लिखा है जो हम यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं | हम जानते हैं अपने लाभ हानि से डरने वाले लोग ग्रहण के अंधविश्वास से बाहर नहीं निकल सकते । लेकिन विश्वास कीजिये ये खूबसूरत खगोलीय घटना डरने के लिए नहीं है, बल्कि इसे देखकर इसके सौन्दर्य का सम्मान करने के लिये है । यदि आकाश साफ मिले तो आज के इस खण्ड ग्रास सूर्यग्रहण के दर्शन अवश्य कीजिये - सच में आकर्षक होता है । और डॉ दिनेश शर्मा का ये लेख अच्छा लगे तो इसे शेयर भी कीजिये ताकि लोग ग्रहण के साथ चले आ रहे अंधविश्वासों के प्रति कुछ तो जागरूक हों ।

हानि लाभ, जन्म मृत्यु, मान अपमान , बीमारी दुर्घटना को किसी ग्रहण से मत जोड़ें - दिनेश डॉक्टर

ग्रहण को लेकर जितने वहम हिंदुस्तानियों ने - वो भी खास तौर पर हिंदुओं ने पाल रक्खे है उनका मुकाबला दुनिया भर में नही । ग्रहण सीधे सीधे एक एस्ट्रोनॉमिकल या खगोलीय घटना है जो घूमते घूमते कभी पृथ्वी के बीच में आने से चन्द्रमा के साथ तो कभी चंद्रमा के बीच में आने से सूर्य के साथ घटती है । इसको किन किन चीजों से जोड़कर धर्म के धंधे में लग जाते है वो बड़ी हैरानी पैदा करता है । यहां तक कि पढ़े लिखे समझदार लोग भी इन वहमों के शिकार होकर सूतक, पातक जैसे शब्द का प्रयोग शुरू कर देते हैं । कुछ लोग तो ग्रहण की आशंकाओं से डर कर मंदिरों और ज्योतिषियों के चक्कर काटने शुरू कर देते है और अच्छे खासे मूर्ख बन जाते है । जितने मुंह उतनी ही बाते । कोई कुछ कहेगा तो कोई कुछ । कोई कहेगा सारा खाना फेंक दो तो कोई कहेगा कि शुद्धि के लिए किसी पवित्र नदी में स्नान कर लो । कोई दान पुण्य या मंत्रजाप करने को कहेगा - जो वैसे भी आस्था के हिसाब से ग्रहण के बिना भी किया जा सकता है तो कोई अपने मन से बनाया कुछ नया फंडा रच देगा ।

वैसे तो जो आप को करना है वो आप करें क्योंकि परिवार की सदियों पुरानी आस्थाओं ने आपके सोच को इतना कुंद कर रखा है कि उनके विरुद्ध जाने का साहस जुटाना हरेक की बस में नही है । भय और आशंकाएं अक्सर हमें इतना मजबूर कर देती है कि कभी इस तो कभी उस धारणा में कैद होकर हम न चाहते हुए भी वहम के शिकार हो ही जाते है । मेरी मानें तो किसी वहम में न पड़े और जो रोजमर्रा का आपका सामान्य रूटीन है उसी के हिसाब से चलते रहें । जीवन में हानि लाभ, जन्म मृत्यु, मान अपमान , बीमारी और दुर्घटनाएं होती ही रहती है । उन्हें किसी सूर्य ग्रहण या चन्द्र ग्रहण से मत जोड़ लेना ।

https://shabd.in/post/111440/-7917420

अगला लेख: २३ दिसम्बर से २९ दिसम्बर तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफल



सही बात विज्ञान की और लौटे

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 दिसम्बर 2019
पिछले कुछ महीनों से सोशल मीडिया पर रानू मंडल का नाम खूब चर्चित रहा है। रानू मंडल को फिल्मों में गाने के लिए मुंबई बुलाया गया था लेकिन वे गानों से ज्यादा सोशल मीडिया पर किसी ना किसी वीडियो या मीम्स के जरिए छाई रहती हैं। रानू मंडल के ऊपर एक के बाद एक मीम्स या विवाद हो ही रहे हैं यहां तक उनके ऊपर ये भी
11 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
ध्यान के आसन को और अधिक सुविधाजनक बनाने के कुछ सुझाव :अभी तक हम ध्यानके लिए उपयुक्त आसनों के विषय में चर्चा कर चुके हैं | अब आगे, एक अनुकूल आसन का चयनतो हमने कर लिया, लेकिन यदि उसे और अधिक सुविधाजनक बनाना होतो उसके लिए क्या करना चाहिए...यदि आप तह कियेहुए कम्बल को ज़मीन पर गद्दे की भाँति रखकर उस पर बै
16 दिसम्बर 2019
12 दिसम्बर 2019
बॉलीवुड एक्ट्रेस के साथ किसी की भी लिंकअप की खबरें आती रहती हैं लेकिन इससे उन्हे कोई फर्क नहीं पड़ता और वे अक्सर अपनी तस्वीरें एक नए इंसान के साथ शेयर करती रहती हैं। उन्हीं अभिनेत्रियों में एक जैकलीन फर्नाडिज भी हैं जो बॉलीवुड की बोल्ड एक्ट्रेस हैं। जैकलीन एक श्रीलंकन
12 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
डॉ दिनेश शर्मा बहुत से सम सामयिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय के लिए जानेजाते हैं | मौजूदा राजनीतिक परिदृश्य पर एक बार फिर से उनकी बेबाक राय... एक बारज़रूर पढ़ें और पसंद आए तो शेयर करें..राजनेता उतने ही सच्चे है जितनी खुद को वर्जिन बताने वाली वेश्याएँ - दिनेशडॉक्टरएक आध प्रतिशतअपवाद को छोड़ दें तो दुनिया
24 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
देश की राजधानी में इन दिनों जो कुछ भी चल रहा है उससे हर कोई वाकिफ है। मगर ये बेफिजुली के झगड़े से आपको क्या लगता है कि इन छात्रों का उपद्रव पूरी तरह से सही है? किसी भी झगड़े में एक पक्ष पूरी तरह से सही नहीं हो सकता है और ऐसा ही जामिया में होने वाले विवाद में भी हो रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि रविवार को
16 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
मंगल का वृश्चिक में गोचरवर्ष 2019 केसप्ताहान्त में बहुत महत्त्वपूर्ण गोचर हो रहा है - बुधवार 25 दिसम्बर पौष अमावस्या यानी कल रात्रि 9:29 के लगभग विशाखानक्षत्र पर भ्रमण करते हुए चतुष्पद करण और गण्ड योग में मंगल शुक्र की तुला राशिसे निकल कर अपनी स्वयं की राशि वृश्चिक में प्रस्थान कर जाएगा | यहाँ भ्रमण
24 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से हैं तो जब घर में कोई सामान या कपड़े लेने की बातें होती हैं तो एक बात अक्सर सुनने को मिलती है। वो ये कि ये सामान जहां से आपने लिया है वो इस जगह से लेती तो आपको 100-200 रुपये कम में ही मिल जाता। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि सामान कहां से लें कि सस्ता मिल जाए लेकिन सही जान
13 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
बुधका धनु में गोचरवर्ष 2020 का अन्तिम सप्ताह– दो महत्त्वपूर्ण गोचर – मंगल का अपनी राशि वृश्चिक में गोचर और बुध का धनु मेंगोचर जहाँ राश्यधिपति गुरु, शनि, केतु और सूर्यदेव पहले सेविराजमान हैं | यहाँ हम बात कर रहे हैं बुध के गोचर की | जी हाँ, कल पौष अमावस्या यानी पच्चीस दिसम्बर को अपराह्न 3:46 के लगभग
24 दिसम्बर 2019
07 जनवरी 2020
पुरुषोत्तम मास अथवा अधिक मास आज एक मित्र नेमल मास यानी अधिक मास के सन्दर्भ में कुछ वैज्ञानिक तथ्य प्रस्तुत किये, जिनमें प्रमुख है किउनका मानना है कि सूर्य जब धनु या मीन राशि में आता है तब मल मास या खर मास कहलाताहै | तो इस प्रकार तो हर वर्ष मल मास होना चाहिए क्योंकि इन दोनों ही राशियों मेंसूर्य का गो
07 जनवरी 2020
15 दिसम्बर 2019
" बचाकर रखना बासी को जरूरत कल भी बहुत होगी।यकीनन आने वाली पीढ़ी इतनी पाक भी नही होगी।।" भगवान राम के इच्छा से नारायणी से निकलकर कुशीनगर जनपद के विभिन्न श्रेत्रो से होकर तकरीबन साठ किलो मीटर की यात्रा तय करने के बाद पुन: नारायणी से समाहित हो जाने वाली "बासी नदी "अपने अस्तित्व बचाने के लिए संघर्षरत है
15 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
हैदराबाद गैंगरेप के बाद जब आरोपियों की एनकाउंटर में मार गिराया गया तो लोगों में निर्भया रेप केस में पाए गए दोषियों को भी फांसी देने की मांग तेज होने लगी। फिर खबरें आईं कि अब जल्द ही इन्हें फांसी दी जाएगी और एक दूसरी खबर साथ ही आई कि 16 दिसंबर के दिन ही निर्भया को इंसाफ मिलेगा क्योंकि इसी दिन उन लोगो
13 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
हमें अपने “हिन्दुस्तानी”होने पर गर्व होना चाहिए हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमाराकल 25 दिसम्बर की तारीख थी – हमारे ईसाई भाई बहनों के उल्लासमय पर्व क्रिसमस कापर्व | हमने भी और हमारे साथ साथ और भी बहुत से लोगों ने किसी भी जाति, धर्म, सम्प्रदाय से ऊपर उठकर क्रिसमस की शुभकामनाएँ अपने परिचितों को
26 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x