हमें अपने "हिन्दुस्तानी" होने पर गर्व होना चाहिए

26 दिसम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (389 बार पढ़ा जा चुका है)

हमें अपने "हिन्दुस्तानी" होने पर गर्व होना चाहिए

हमें अपने “हिन्दुस्तानी” होने पर गर्व होना चाहिए

हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा

कल 25 दिसम्बर की तारीख थी – हमारे ईसाई भाई बहनों के उल्लासमय पर्व क्रिसमस का पर्व | हमने भी और हमारे साथ साथ और भी बहुत से लोगों ने किसी भी जाति, धर्म, सम्प्रदाय से ऊपर उठकर क्रिसमस की शुभकामनाएँ अपने परिचितों को प्रेषित कीं – जो हमारे विचार से साम्प्रदायिक सद्भाव की दिशा में एक बहुत अच्छा क़दम रहा है हमेशा से | लेकिन उसके बाद से कुछ “हिन्दू धर्म के हितैषियों” ने इसके विरोध में मैसेज भेजने आरम्भ कर दिए – जैसे न जाने क्या अपराध हो गया हो | इनमें कुछ वे लोग भी शामिल थे जिन्होंने कल क्रिसमस की बधाई पोस्ट की थी लेकिन आज उन्हें इस तरह की बधाइयों के कारण हिन्दुत्व ख़तरे में नज़र आ रहा था | हम पूछना चाहते हैं ऐसे सभी लोगों से कि क्या किसी को उसके पर्व की बधाई देने से हिन्दुत्व पर किसी प्रकार की आँच आनी सम्भव है ?

हमारा देश अनेकों पन्थों और अनेकों भाषाओं का देश है | और हिन्दू दर्शन अनेकता में एकता की मान्यता का जीता जागता उदाहरण है | तो जो लोग पीढ़ियों से यहाँ रहते आ रहे हैं उन सबको मिल जुल कर रहने का, मिल जुल कर अपने त्योहार मनाने का पूरा अधिकार है - इसमें हिन्दू धर्म या हिन्दू राष्ट्र को किस बात का ख़तरा है ? जिस छोटे से शहर नजीबाबाद से हम आते हैं वहाँ का इतिहास है कि रोहिल्ला सरदार नजीबुद्दौला ने उसे बसाया था | एक समय में सहारनपुर से लेकर देहरादून तक उसका साम्राज्य था – गवर्नर था वो उस समूचे क्षेत्र का – और ऐसा भी कहा जाता है कि सहारनपुर से लेकर देहरादून तक राजमार्ग के किनारे किनारे जो ऊँचे ऊँचे दरख़्त खड़े हैं उनमें से कुछ ऐसा हैं जो सैंकड़ों साल पुराने हैं और नजीबुद्दौला ने उस पूरे क्षेत्र को हरा भरा बनाने के लिए लगवाए थे | कितनी सच्चाई है इस बात में, नहीं मालूम | लेकिन नजीबुद्दौला वही रोहिल्ला सरदार था जिसने पानीपत की लड़ाई में मराठों को मारा था और हिन्दू महाराजा सूरजमल ने मराठों को साथ देने का वादा किया था लेकिन बदले में आगरा का ताज उसे चाहिए था, जिसके लिए मराठों ने मना कर दिया, तो ऐन वक़्त पर मराठों को धोखा देकर नजीब से जा मिला और मराठों की हार का कारण बना | क्या कहेंगे इसे ? कैसा हिन्दू था वह ?

दूसरी तरफ जब नजीबुद्दौला ने नजीबाबाद बसाया तो सारे हिन्दुओं और मुसलमानों के त्यौहार सबके साथ मिलकर मनाता था - यहाँ तक कि होली भी | होली के रंग के जुलूस की परम्परा तो हमारे सामने तक रही जिसमें हिन्दू मुसलमान दोनों शिरक़त करते थे क्योंकि नवाब के सामने से ये प्रथा चली आ रही थी | ईद पर हिन्दुओं के घरों में सेवई भेजी जाती थीं तो दिवाली पर मुसलमानों के घरों में मिठाई | खुद हमारे पिताजी यों कट्टर कर्मकांडी ब्राह्मण थे – लेकिन क्योंकि उस समय के प्रसिद्ध दार्शनिक विचार वाले व्यक्ति थे तो नन्हे मियाँ की मजार का उर्स उनके गाए नात के बिना पूरा नहीं होता था, चर्च में क्रिसमस और ईस्टर पर फादर उन्हें ससम्मान आमन्त्रित करते थे धर्मोपदेश के लिए और वहाँ केरल से आए बच्चों को पिताजी मलयालम भाषा के माध्यम से सारे विषय पढ़ाते थे | सिख पर्वों और जैन पर्वों पर जब तक पिताजी कुछ न बोल दें तब तक लोग गुरुद्वारे और जैन मन्दिर से निकलना ही नहीं चाहते थे | सिखों के गुरुपर्व पर सारा शहर प्रभात फेरी में शामिल होता था | सारे धर्मों के पर्व इसी तरह मिल जुल कर मनाए जाते थे |

और यही क्या, हमारे साथ जितने भी संगत कलाकार थे उनमें हिन्दू बहुत कम थे, अधिकाँश तो मुस्लिम ही थे, कुछ ईसाई भी थे | कितने महान संगीतज्ञ, चित्रकार और सभी अन्य विधाओं के कलाकार मुस्लिम हुए हैं या ईसाई और दूसरे वर्गों के लोग हुए हैं जिन्होंने अपनी कला से भारतीय कलाओं को समृद्ध किया है | तब तो हिन्दू राष्ट्र या हिन्दू धर्म को कोई ख़तरा नहीं होता था, फिर आज क्यों ? अगर ऐसा ही है तो हमें वो क़ौमी तराना गाना बन्द कर देना चाहिए जो कहता है "मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर करना, “हिन्दी” हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा..."

कुछ लोगों ने कहा 25 दिसम्बर को क्रिसमस के रूप में नहीं बल्कि “तुलसी विवाह” के रूप में मनाया जाना चाहिए | कोई बुराई नहीं है इसमें भी | लेकिन हमारे यहाँ तो तुलसी पूजन और पाँचदिवसीय तुलसी विवाह की इतनी समृद्ध परम्परा पौराणिक काल से चली आ रही है कि हमें ­25 दिसम्बर की आवश्यकता ही नहीं – और वह अंग्रेजी महीने के आधार पर नहीं होता – हिन्दी माह के अनुसार होता है – कार्तिक शुक्ल एकादशी यानी देवोत्थान एकादशी से आरम्भ होकर कार्तिकी पूर्णिमा तक चलता है | यों पूरा का पूरा कार्तिक माह ही तुलसी पूजन के लिए समर्पित होता है | गाँव और छोटे शहरों में तो घर के आँगन में विराजमान तुलसीवृक्ष के समक्ष प्रातः-सायं दीप अभी भी प्रज्वलित किया जाता है |

कुछ लोगों ने दूसरे वर्गों की धूर्तता की कहानियाँ भी शेयर कीं | तो उनसे हमारा प्रश्न है कि धूर्त लोग क्या हर सम्प्रदाय में, हर धर्म में और हर युग में नहीं हुए हैं ? तो किसी भी एक धर्म या सम्प्रदाय को कटघरे में खड़ा कर देना कहाँ तक उचित है ? और एक बात, हिन्दू धर्म जिस तरह अनगिनती जातियों में बंटा हुआ है – यदि उस जातिवादी सोच और पूर्वाग्रहों से ऊपर नहीं उठा गया तो हिन्दू धर्म का पतन निश्चित है | इसलिए सबसे पहले हम हिन्दू अपनी सोच में एकता तो लाएँ ताकि हमारा आपस में विभाजन ख़त्म हो जाए और हम सब एक हो सकें |

जहाँ तक हमारे देश की बात है, तो भारत हमेशा से हिन्दू राष्ट्र ही था और रहेगा – एक ऐसा हिन्दू राष्ट्र जिसमें हर धर्म – हर सम्प्रदाय - हर वर्ग – हर दर्शन के लोग आपस में मिल जुल कर रहते हैं और एक दूसरे के सुख दुःख में पूरे दिल से सम्मिलित होते हैं - इसके लिए हमें किसी को भी डरने की आवश्यकता नहीं है - लेकिन ये भी सच है हिन्दू कोई धर्म नहीं है - ये तो किसी भी तरह की साम्प्रदायिकता से बहुत ऊँची एक सोच है, विश्व के महान दर्शनों में इसकी गणना की जाती है - एक ऐसी महान सोच - एक ऐसा महान दर्शन जो सब कुछ को आत्मसात करने की सामर्थ्य रखता है - और हिन्दू दर्शन की ये महानता ईसाइयों को क्रिसमस की बधाई देकर या मुसलमानों को ईद की बधाई देकर और भी बढ़ जाती है और इस महान दर्शन की "सर्वधर्मसमभाव" की महान सोच को और भी विशाल बना देती है...

इसीलिए हमें गर्व है कि हम “हिन्दुस्तानी” हैं और “हिन्दी हैं हम, वतन है हिन्दोस्तां हमारा...” जय हिन्द... जय भारत...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/12/26/we-should-be-proud-to-be-hindustani/

अगला लेख: २३ दिसम्बर से २९ दिसम्बर तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 दिसम्बर 2019
बुधका धनु में गोचरवर्ष 2020 का अन्तिम सप्ताह– दो महत्त्वपूर्ण गोचर – मंगल का अपनी राशि वृश्चिक में गोचर और बुध का धनु मेंगोचर जहाँ राश्यधिपति गुरु, शनि, केतु और सूर्यदेव पहले सेविराजमान हैं | यहाँ हम बात कर रहे हैं बुध के गोचर की | जी हाँ, कल पौष अमावस्या यानी पच्चीस दिसम्बर को अपराह्न 3:46 के लगभग
24 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
6 से 12 जनवरी2020 तक का सम्भावित साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गो
05 जनवरी 2020
07 जनवरी 2020
पुरुषोत्तम मास अथवा अधिक मास आज एक मित्र नेमल मास यानी अधिक मास के सन्दर्भ में कुछ वैज्ञानिक तथ्य प्रस्तुत किये, जिनमें प्रमुख है किउनका मानना है कि सूर्य जब धनु या मीन राशि में आता है तब मल मास या खर मास कहलाताहै | तो इस प्रकार तो हर वर्ष मल मास होना चाहिए क्योंकि इन दोनों ही राशियों मेंसूर्य का गो
07 जनवरी 2020
16 दिसम्बर 2019
देश की राजधानी में इन दिनों जो कुछ भी चल रहा है उससे हर कोई वाकिफ है। मगर ये बेफिजुली के झगड़े से आपको क्या लगता है कि इन छात्रों का उपद्रव पूरी तरह से सही है? किसी भी झगड़े में एक पक्ष पूरी तरह से सही नहीं हो सकता है और ऐसा ही जामिया में होने वाले विवाद में भी हो रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि रविवार को
16 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
16 दिसंबर, 2012 का वो काला दिन जब दिल्ली में एक महिला के साथ 6 लोगों ने मिलकर गैंगरेप किया था। इतना ही नहीं उसके साथ ऐसी बर्बता की जिसे सुनकर आज भी लोगों की रूह कांप जाती है। एक लड़की के साथ इंसान कितना हैवान बन सकता है ये उस रात इन 6 दरिंदों ने बता दिया था। इस केस में सभी को पुलिस हिरासत में ले लिय
16 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
डॉ दिनेश शर्माने आज ग्रहण से डरने वालों के लिए बड़ा ही सारगर्भित लेख लिखा है जो हम यहाँप्रस्तुत कर रहे हैं | हम जानते हैं अपने लाभ हानि से डरने वाले लोग ग्रहण केअंधविश्वास से बाहर नहीं निकल सकते । लेकिन विश्वास कीजिये ये खूबसूरत खगोलीय घटनाडरने के लिए नहीं है, बल्कि इसे देखकर इसके सौन्दर्य का सम्मान
26 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
बढ़ती जनसंख्या परस्वास्थ्य सुविधाएं पड़ रही कम.महंगी हुई शिक्षा और अच्छे स्कूल हुए कम.ट्रेनों में बैठने को हुई जगह कम.महानगरों में रहने को मकान पड़ रहे कम.पेड़ और पौधे हुए कम.पीने का पानी हुआ कम.सिकुड़ रहे खेत खलिहान, अनाज हुआ कम.बढ़ रही गरीबी और महंगाई.किसी ने धर्म को तो किसी ने जातिको देश की बदहाल
16 दिसम्बर 2019
11 दिसम्बर 2019
हर इंसान के जीवन में शादी बहुत अहम फैसला होती है तभी इसे करने से पहले लोग बहुत सोचते हैं क्योंकि इंसान अपने जीवन में शादी एक बार ही करता है। अगर ये शादी हमेशा चल गई और इंसान खुशी के साथ इसे बिताने लगे तो बस उसकी सारी परेशानी दूर हो जाती है लेकिन अगर ऐसा नहीं हो पाता तो हमेशा के लिए उन्हें भोगना पड़त
11 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
प्रदोषव्रत 2020कर्पूगौरं करुणावतारं संसारसारंभुजगेन्द्रहारम् |सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितन्नमामि ||कल हमनेवर्ष 2020 में आने वाली एकादशी की लिस्ट पोस्ट की थी | एकादशी के बाद आता है प्रदोषका व्रत | इस वर्ष सबसे पहला प्रदोष व्रत पौष माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी कोबुधवार यानी आठ जनवरी को होग
28 दिसम्बर 2019
13 दिसम्बर 2019
अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से हैं तो जब घर में कोई सामान या कपड़े लेने की बातें होती हैं तो एक बात अक्सर सुनने को मिलती है। वो ये कि ये सामान जहां से आपने लिया है वो इस जगह से लेती तो आपको 100-200 रुपये कम में ही मिल जाता। ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि सामान कहां से लें कि सस्ता मिल जाए लेकिन सही जान
13 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
मंगल का वृश्चिक में गोचरवर्ष 2019 केसप्ताहान्त में बहुत महत्त्वपूर्ण गोचर हो रहा है - बुधवार 25 दिसम्बर पौष अमावस्या यानी कल रात्रि 9:29 के लगभग विशाखानक्षत्र पर भ्रमण करते हुए चतुष्पद करण और गण्ड योग में मंगल शुक्र की तुला राशिसे निकल कर अपनी स्वयं की राशि वृश्चिक में प्रस्थान कर जाएगा | यहाँ भ्रमण
24 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
23 से 29 दिसम्बर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
22 दिसम्बर 2019
14 दिसम्बर 2019
सूर्य का धनु राशि में गोचर सोमवार 16 दिसम्बर यानी पौष कृष्ण पञ्चमी को कौलव करण औरवैधृति योग में दिन में 3:28 के लगभग पर सूर्य का संक्रमणधनु राशि में और मूल नक्षत्र पर हो जाएगा | धनु राशि में भ्रमण करते हुए भगवानभास्कर 29 दिसम्बर को पूर्वाषाढ़ और ग्यारह जनवरी कोउत्तराषाढ़ नक्षत्र पर विचरण करते हुए अन्त
14 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x