एको$हम् बहुस्याम् :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (369 बार पढ़ा जा चुका है)

एको$हम् बहुस्याम् :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संपूर्ण सृष्टि में जितने भी जड़ चेतन देखने को मिल रहे हैं सब उस परमपिता परमात्मा की सृष्टि कहीं जाती है | कण-कण में परमात्मा का निवास है | संपूर्ण सृष्टि को मार्गदर्शन प्रदान करने वाले हमारे वेदों ने उस परमपिता परमात्मा के लिए एकोहम् बहुस्याम लिखा है जिसका अर्थ यही होता है कि जब उस परमात्मा की इच्छा हुई तो वह स्वयं एक से अनेकों रूप में परिवर्तित हो गया | इस धरा धाम पर जितने भी जीव जलचर , थलचर , नभचर , फूल - पौधे , वृक्ष , वनस्पतियां , पहाड़ , नदियां अर्थात जो भी सृष्टि में दिखाई पड़ती है वह सब परमात्मा की इच्छा मात्र से निर्मित हुआ या यह सभी परमात्मा के ही दूसरे स्वरूप हैं | स्वयं को परमात्मा ने अनेकों रूप में परिवर्तित किया और इन्हीं सब के बीच एक विचित्र प्राणी की रचना की जिसे मनुष्य कहा गया | मनुष्य परमात्मा का युवराज कहा जाता है | मनुष्य ने परमात्मा के सभी गुणों को स्वयं में आत्मसात करने का प्रयास किया | एक परमात्मा अनेक कैसे हो सकता है इसको भी मनुष्य ने प्रमाणित किया है | अनेकों विषय ऐसे हैं जहां वैज्ञानिकों का सारा प्रयोग विफल हो जाता है तब उस परमात्मा की शक्ति का आभास मनुष्य को होता है | सृष्टि के कण-कण में परमात्मा का दर्शन कराते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं :-- "हरि व्यापक सर्वत्र समाना" अर्थात:-- वह ईश्वर समान रूप से सब जगह विद्यमान है इस विषय में तनिक भी संशय नहीं होना चाहिए |*


*आज के युग को आधुनिक युग एवं वैज्ञानिक युग कहा जाता है | परमात्मा का युवराज के जाने वाले मनुष्य ही ईश्वर को नहीं मान रहे हैं | इस संसार में अनेकों लोग ऐसे भी हैं जो ईश्वर की सत्ता को ही नहीं मानना चाहते हैं | यह वही लोग हैं जो अपने जन्मदाता माता-पिता को भी मानने से नकार देते हैं | ईश्वर की व्यापकता को समझना बहुत ही सरल है | जो लोग यह प्रश्न उठाते हैं कि ईश्वर एक से अनेक कैसे हो गया उन सभी लोगों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ईश्वर के युवराज कहे जाने वाले मनुष्य के एक ही रूप में अनेकता का दर्शन कैसे होता है यह बताना चाहूंगा | एक मनुष्य अपने माता पिता के लिए संतान है , अपनी बहन के लिए भाई के रूप में हैं , वही मनुष्य अपने पत्नी के लिए पति हो जाता है और एक समय ऐसा आता है कि मनुष्य का स्वरूप परिवर्तित हो जाता है और वह अपनी संतानों के लिए पिता के रूप में सम्मान पाने लगता है | जब एक मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अनेकों रूप धारण करता है तो वह सर्वव्यापी परमात्मा "एकोहम् बहुस्याम्" क्यों नहीं हो सकता ? मानव जीवन दर्शन इतना विस्तृत है कि यदि इसका अध्ययन कर लिया जाए तो कोई भी प्रश्न अनुत्तरित नहीं रह सकता है , परंतु आज हम आधुनिकता की अंधी दौड़ में स्वयं को सम्मिलित करके उस भीड़ का हिस्सा बनते जा रहे हैं जो ना तो कुछ जानती है और ना ही मानना चाहती है | ईश्वर को तथा उसके भेद को जान पाना इतना सरल कदापि नहीं है |*


*जिस दिन मनुष्य स्वयं को जान जाएगा उस दिन परमात्मा भी उससे दूर नहीं रह जाएगा ! इसलिए सर्वप्रथम मनुष्य को स्वयं का ज्ञान प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए |*

अगला लेख: भ्रम से बचने का प्रयास करें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर जन्म लेकर के मनुष्य सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है तो इसके कई कारण हैं | इन्हीं कारणों में मुख्य है मनुष्य का जीवनमूल्य | मनुष्य जीवन की उत्कृष्टता और सार्थकता का मानदंड जीवन मूल्य ही है | हमारी सनातन संस्कृति मैं हमारे ऋषियों - महर्षियोंं का महत्वपूर्
14 दिसम्बर 2019
07 जनवरी 2020
*इस धराधाम पर मनुष्य जीवन कैसे जिया जाय ? मनुष्य के आचरण कैसे हो ? उसे क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए ? इसका समस्त वर्णन सनातन के धर्म ग्रंथों में देखने को मिलता है | जहां मनुष्य को अनेक कर्म करने के लिए स्वतंत्र कहा गया है वही कुछ ऐसे भी कर्म हैं जो इस संसार में है तो परंतु मनुष्य के लिए वर्ज
07 जनवरी 2020
19 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप मनुष्य द्वारा किए जाते हैं | संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य भय एवं भ्रम से भी दो-चार होता रहता है | मानव जीवन की सार्थकता तभी है जब वह किसी भी भ्रम में पड़ने से बचा रहे | भ्रम मनुष्य को किंकर्तव्यविमूढ़ करके सोचने - समझने की शक्ति का हरण कर लेता है | भ्रम में
19 दिसम्बर 2019
21 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही हमारे देश भारत को पुण्यभूमि कहा जाता रहा है | आध्यात्मिकता के उच्चशिखर को इस देश ने छुआ है तो उसका एक प्रमुख कारण यह रहा है कि यहाँ समय - समय पर महापुरुषों ने जन्म लेकर मानवता की स्थापना करने का प्रयास किया है | आदिकाल से लेकर अब तक आध्यात्मिकता एवं मानव धर्म एवं समसरता का उदाहरण प्रस्
21 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में मनुष्य को क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए यह सारा मार्गदर्शन हमारे ऋषियों ने शास्त्रों में लिख दिया है | क्या करके मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है और क्या करके उसका पतन हो सकता है इसका मार्गदर्शन एवं उदाहरण हमारे पुराण में भरा पड़ा है | जिनके अनुसार मनुष्य सत्कर्म करके सफलत
16 दिसम्बर 2019
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*हमारे देश भारत में सदैव से विद्वानों का मान सम्मान होता रहा है | अपनी विद्वता के बल पर विद्वानों ने भारत देश का गौरव समस्त विश्व में बढ़ाया है | विद्वता का अर्थ मात्र पांडित्य का क्षेत्र न हो करके जीवन के अनेक विषयों पर पारंगत हो करके यह विद्वता प्राप्त की जाती है | किसी भी विषय का विद्वान हो वह अप
05 जनवरी 2020
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*प्राचीनकाल से ही भारत देश आपसी सौहार्द्र , प्रेम एवं भाईचारे का उदाहरण समस्त विश्व के समक्ष प्रस्तुत करता रहा है | वैदिककाल में मनुष्य आपस में तो सौहार्द्र पूर्वक रहता ही था अपितु इससे भी आगे बढ़कर वैदिककाल के महामानवों ने पशु - पक्षियों के प्रति भी अपना प्रेम प्रकट करके उनसे भी सम्बन्ध स्थापित करन
20 दिसम्बर 2019
15 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य की कही गई है , देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में किए गए सत्संग के फल स्वरुप जीव को माता-पिता के माध्यम से इस धरती पर मनुष्य योनि प्राप्त होती है | इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य तीन प्रकार से ऋणी हो जाता है जिन्हें हमारे शास्त्रों में ऋषिऋण , देवऋण एवं पितृऋ
15 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
*हमारे देश भारत में आदिकाल से राजा एवं प्रजा के बीच अटूट सम्बन्ध रहा है | प्रजा पर शासन करने वाले राजाओं ने अपनी प्रजा को पुत्र के समान माना है तो अपराध करने पर उन्हें दण्डित भी किया है | हमारे शास्त्रों में लिखा है कि :- "पिता हि सर्वभूतानां राजा भवति सर्वदा" अर्थात किसी भी देश का राजा प्रजा के लिए
22 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही संपूर्ण विश्व में विशेषकर हमारे देश भारत में सत्ता प्राप्ति के लिए मनुष्य के द्वारा अनेक प्रकार के क्रियाकलाप किए जाते रहे हैं | कभी तो मनुष्य को उसके सकारात्मक कार्यों एवं आम जनमानस में लोकप्रियता के कारण सत्ता प्राप्त हुई तो कभी मनुष्य सत्ता प्राप्त करने के लिए साम-दाम-दंड-भेद आदि क
20 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेकों लोगों से मिलता है जीवन के भिन्न - भिन्न क्षेत्र में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग मिला करते हैं जो कि जीवन में महत्त्वपूर्ण हो जाते हैं | अनेक महत्त्वपूर्ण लोगों के बीच रहकर मनुष्य जीवन में सफलता - असफलता प्राप्त करता रहता है | जीवन
05 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x