मर्यादा :- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 दिसम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (367 बार पढ़ा जा चुका है)

मर्यादा :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरा धाम जड़ - चेतन , देव , दानव , मानव या चराचर जगत की जितनी भी सृष्टि है सबकी अपनी अपनी मर्यादा है | मर्यादित जीवन सबके लिए बनाया गया है | इस धरती पर बुद्धिमान एवं विवेकवान होने के कारण अपनी मर्यादा का पालन करने के लिए मनुष्य का दायित्व सबसे अधिक है क्योंकि ईश्वर ने मनुष्य के ही माध्यम से सकल संसार को मर्यादा का पाठ पढ़ाया है | अग्नि , जल और वायु मनुष्य के लिए परम आवश्यक है परंतु इनके द्वारा जब अपनी मर्यादा का उल्लंघन किया जाता है तो पृथ्वी पर त्राहि-त्राहि मच जाती है , इसलिए मर्यादा का होना परम आवश्यक है | मर्यादा का पालन करके मनुष्य एक सुंदर सुशिक्षित जीवन यापन करता है वहीं अमर्यादित व्यक्ति समाज में निंदा का पात्र बनता है | मनुष्यों के लिए अनेक प्रकार की मर्यादाओं का वर्णन हमारे शास्त्रों में किया गया है जिसमें मुख्य रूप से वाणी एवं इंद्रियों की मर्यादा है | जब मनुष्य के द्वारा मर्यादा भंग की जाती है तो उसके मस्तिष्क में मानव मात्र से द्वेष आरंभ हो जाता है साथ ही और भी अनेक समस्याएं उत्पन्न हो जाती है | मानव जीवन विश्वास पर आधारित है जब तक मनुष्य की मर्यादा बनी रहती है तब तक उसके प्रति लोगों का विश्वास बना रहता है परंतु मर्यादा भंग होते ही वह विश्वास अविश्वास में बदल जाता है | मनुष्य का स्वभाव मूल रूप से वाणी पर आधारित होता है सरल एवं मधुर वाणी मनुष्य के स्वभाव की मर्यादा है जिसका उल्लंघन करने मनुष्य कटुभाषी माना जाता है | समाज में अधिक बहस करना , किसी की आलोचना या चापलूसी करना , किसी को प्रताड़ित करना मनुष्य की मर्यादा का उल्लंघन है | मोह , लोभ , काम , क्रोध , अहंकार , ईर्ष्या , घृणा , कुंठा , निराशा , आक्रोश , प्रेम , श्रद्धा , विश्वास , ईमानदारी , परोपकार , स्वार्थ , चापलूसी , आलोचना आदि कोई भी विषय जब तक मर्यादा में रहता है तब तक मनुष्य को कोई हानि नहीं होती परंतु समस्या तब उत्पन्न होने लगती है जब मर्यादा की सीमारेखा का उल्लंघन होता है | मनुष्य जब तक अपनी मर्यादा में रहता है तब तक उसका जीवन बहुत ही सुखी ढंग से व्यतीत होता है इसलिए मानव जीवन में मर्यादा का बहुत बड़ा महत्व है |*


*आज जिस प्रकार का परिवेश हमको देखने को मिल रहा है उसका वर्णन करना ही कठिन है | कहने को तो लोग कहते हैं कि हम आधुनिक एवं वैज्ञानिक युग में जीवन जी रहे हैं परंतु समाज के क्रियाकलाप को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि हम धीरे-धीरे अमर्यादित युग में प्रवेश कर रहे हैं | आज किसी के भी पास मर्यादा के दर्शन बहुत ही कठिनता से हो रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में देख रहा हूं कि साधारण मनुष्यों की बात तो छोड़ ही दीजिए समाज के उच्च पदों पर बैठे हुए अनेक गणमान्य लोगों के द्वारा जिस तरह वाणी की मर्यादा का उल्लंघन हो रहा है उससे अनेक प्रकार के विवाद उत्पन्न हो रहे हैं और राष्ट्र व समाज आपस में कटुता का परिवेश निर्मित कर रहा है | आज मनुष्य अपने इंद्रियों की मर्यादा को भूल कर के समाज में अनेक प्रकार के ऐसे कृत्य कर रहा है जो मानव मात्र को लज्जित करने वाला है | एक विद्यार्थी का जीवन मर्यादित जीवन कहा जाता है | एक विद्यार्थी की मर्यादा होती है शिक्षा ग्रहण करना क्योंकि विद्यार्थी किसी भी राष्ट्र का भविष्य कहा जाता है परंतु आज विद्यार्थियों की मर्यादा सड़कों पर स्पष्ट दिखाई पड़ रही है | ऐसा प्रतीत होता है मनुष्य अपनी मर्यादा को ना तो जानना चाहता है और ना ही मानना चाहता है | जिस प्रकार आज मनुष्य के द्वारा मर्यादा का उल्लंघन किया जा रहा है उसी प्रकार आज प्रकृति भी अमर्यादित होती जा रही है | जब परमात्मा का युवराज कहे जाने वाला मनुष्य अपनी मर्यादा को भूल गया है तो प्रकृति के मर्यादित रहने की आशा कैसे की जा सकती है | आज जगह-जगह भूकंप , भूस्खलन एवं समुद्रों में उठने वाली अनेक प्रकार की प्राणघातक लहरें यह बताने के लिए अधिक है कि आज मर्यादा का पालन यदि मनुष्य नहीं कर रहा है तो उसका प्रभाव प्रकृति के ऊपर भी पड़ रहा है |*


*प्रत्येक मनुष्य को अपनी मर्यादा की सीमा रेखा के भीतर रहकर ही कोई कार्य करना चाहिए क्योंकि इस जीवन को मर्यादित रख करके ही सुरक्षित रखा जा सकता है |*

मर्यादा :- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: भक्ति क्या है ?? :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2019
*मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों एवं क्रियाकलापों के माध्यम से महान एवं पतित बनता है | जिसने जीवन के रहस्य को जान लिया अपने जीवन को उच्चता की ओर ले कर चल पड़ता है और जिसने जीवन को नहीं समझा , उसके महत्व को नहीं जाना वह प्रतिदिन नीचे की ओर गिरता हुआ पतित हो जाता है | मनुष्य के जीवन में ,
28 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
16 दिसम्बर 2019
*मानव जीवन में मनुष्य को क्या करना चाहिए क्या नहीं करना चाहिए यह सारा मार्गदर्शन हमारे ऋषियों ने शास्त्रों में लिख दिया है | क्या करके मनुष्य सफलता के शिखर पर पहुंच सकता है और क्या करके उसका पतन हो सकता है इसका मार्गदर्शन एवं उदाहरण हमारे पुराण में भरा पड़ा है | जिनके अनुसार मनुष्य सत्कर्म करके सफलत
16 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
*हमारा देश भारत आदिकाल से सनातन संस्कृति का वाहक रहा है | परिवर्तन सृष्टि का नियम रहा है इसी परिवर्तन के चलते हमारे देश में समय-समय पर भिन्न - भिन्न संस्कृतियों की स्थापना हुई एवं सनातन धर्म से विलग होकर के अनेक धर्म एवं संप्रदाय के लोगों ने अपनी - अपनी संस्कृति की स्थापना की | आज हमारे देश के प्रत्
24 दिसम्बर 2019
15 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर सर्वश्रेष्ठ योनि मनुष्य की कही गई है , देवताओं की कृपा एवं पूर्वजन्म में किए गए सत्संग के फल स्वरुप जीव को माता-पिता के माध्यम से इस धरती पर मनुष्य योनि प्राप्त होती है | इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य तीन प्रकार से ऋणी हो जाता है जिन्हें हमारे शास्त्रों में ऋषिऋण , देवऋण एवं पितृऋ
15 दिसम्बर 2019
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
22 दिसम्बर 2019
*हमारे देश भारत में आदिकाल से राजा एवं प्रजा के बीच अटूट सम्बन्ध रहा है | प्रजा पर शासन करने वाले राजाओं ने अपनी प्रजा को पुत्र के समान माना है तो अपराध करने पर उन्हें दण्डित भी किया है | हमारे शास्त्रों में लिखा है कि :- "पिता हि सर्वभूतानां राजा भवति सर्वदा" अर्थात किसी भी देश का राजा प्रजा के लिए
22 दिसम्बर 2019
18 दिसम्बर 2019
*किसी भी राष्ट्र के निर्माण में वहां के समाज का बहुत बड़ा योगदान होता है | आदिकाल से हमारे देश भारत की सांस्कृतिक और सामाजिक इकाई का एक वृहद ढांचा राष्ट्र के संस्कार और सचेतक समाज की है | अन्य देशों की अपेक्षा हमारे देश के धर्मग्रंथ और उपनिषद मनुष्य को जीवन जीने की कल
18 दिसम्बर 2019
17 दिसम्बर 2019
*किसी भी देश का निर्माण समाज से होता है और समाज की प्रथम इकाई परिवार है | परिवार में आपसी सामंजस्य कैसा है ? यह निर्भर करता है कि हमारा समाज कैसा बनेगा | परिवार में प्राप्त संस्कारों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में क्रियाकलाप करता है | हम इस भारत देश में पुनः रामराज्य की स्थापना की कल्पना किया करते
17 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेकों लोगों से मिलता है जीवन के भिन्न - भिन्न क्षेत्र में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग मिला करते हैं जो कि जीवन में महत्त्वपूर्ण हो जाते हैं | अनेक महत्त्वपूर्ण लोगों के बीच रहकर मनुष्य जीवन में सफलता - असफलता प्राप्त करता रहता है | जीवन
05 जनवरी 2020
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
20 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही संपूर्ण विश्व में विशेषकर हमारे देश भारत में सत्ता प्राप्ति के लिए मनुष्य के द्वारा अनेक प्रकार के क्रियाकलाप किए जाते रहे हैं | कभी तो मनुष्य को उसके सकारात्मक कार्यों एवं आम जनमानस में लोकप्रियता के कारण सत्ता प्राप्त हुई तो कभी मनुष्य सत्ता प्राप्त करने के लिए साम-दाम-दंड-भेद आदि क
20 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x