एक और साल की शुरुआत

01 जनवरी 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (575 बार पढ़ा जा चुका है)

एक और साल की शुरुआत

2020 के पहले ही रोज़ मुझे अच्छे से अहसास हो गया है कि मैं गंभीर रूप से सोशल मीडिया एडिक्ट हो चुका हूँ । रोज़ कोशिश करता हूँ कि किसी तरह इससे पार पा लूँ पर अक्सर हार जाता हूँ । जिस तरह सुबह उठते ही पहले आंखे चश्मा और फिर अखबार तलाशती थी अब पहले फोन चालू करने का बटन तलाशती है और फिर चश्मा तलाशती है । फोन का कैमरा मेरा चेहरा पढता है, मैच करता है और खुद ब खुद स्क्रीन पर ढेर सारे एप्स खूवसूरत गोलों में तरतीब से खुल कर मुझे ताकने लगते हैं ।

हस्बेमामूल मेरे दांये हाथ का अंगूठा हरे रंग के व्हाट्सएप को सबसे पहले टच करता है । आज मित्रों और परिचितों के सैंकड़ों हैप्पी न्यू ईयर मेसेजेस से स्क्रीन लबालब भरी हुई है । रोज़ तो बस कमोबेश पच्चीस तीस लोगों के दिनों के हिसाब से वैसे ही गुड़ मॉर्निंग, गुड़ डे, शुभ शनिवार, मंगलमय मंगलवार, कहीं की भस्म आरती, कुछ गणेश जी, कुछ हनुमान जी वगैरा वगैरा का हथेली में थमी छोटी सी स्क्रीन पर अवतरण होना शुरू होता है। दीवाली हो तो स्क्रीन पर ही पटाखे फूटते है और दीपों की कतारें सज जाती है, ईद हो तो चाँद सितारे आसमान से स्क्रीन पर उतर आते हैं, होली हो तो हरे पीले लाल रंग स्क्रीन से बाहर उछलने को बेताब हो उठते है और 26 जनवरी 15 अगस्त को तो देशभक्ति की ओवर डोज से मेरा पूरा वजूद ही तिरंगा हो जाता है ।
फेस बुक का लोगो टच करते ही मित्र रिश्तेदार हवाई जहाजों, हवाई अड्डों , फाइव स्टार होटलों की लॉबियों, महंगे रेस्तराओं की मेजों, माता वैष्णो देवी के मंदिरों, महंगे क्रूज़ शिप्स की बालकनियों से नए नए कपड़ों में लदे फंदे महंगे जेवरात सजाए झांकने लगते है । इससे घबरा कर जैसे ही जी मेल का लोगों टच करता हूँ तो पता लगता है कि मैं करोड़ो के इनाम जीत गया हूँ और नाइजीरिया का कोई बन्दा उस रकम को मेरे अकॉउंट में ट्रांसफर करने के लिए मुझसे बीस तीस हज़ार रुपये की मांग कर रहा है । बहुत सारी अनपढी मेल मुझे मुफ्त में क्रेडिट कार्ड देने वालों की, लोन देने वालों की , गरीब बच्चों के लिए दान मांगने वालों की, मेरा और मेरी कार का बीमा करने वालों की, मुझे दुनिया की सैर कराने वालों की, और पैसों के बदले पुरुस्कार देने वालों की रोज़ मेरा चेहरा ताकती है ।

फिर आदतन मेरा अंगूठा न्यूज वाले एप्प को टच करता है तो सेवक और शाह, महाराष्ट्र और हरियाणा, हज़ारों के घोटाले - कम्पनियों के दिवाले, प्याज की कीमते -मी टू की फ़ितरतें, बसों में बलात्कार - पार्लरों में अनाचार, हत्या, लूट और कारों में भारी छूट की खबरे इधर उधर से स्क्रीन पर कूदनी शुरू हो जाती है ।

अचानक मोबाइल की घंटी के साथ ही मां का मुस्कराता चेहरा स्क्रीन पर प्रकट होता है । वो कोमल और प्यार भरी आवाज में मुझे साल के पहले दिन मीठे मीठे आशीर्वाद देती है। मैं अंदर तक स्नेह से भीग जाता हूँ और आंख बन्द कर मां की बुढाती आवाज में सुकून तलाशने लगता हूँ ।

नया साल शुरू हो गया है । आपको भी बहुत बहुत शुभ कामनाएं ।

अगला लेख: फण्डा पाप और पुण्य का - दिनेश डॉक्टर



हास्य का पुट लिए यथार्थ... बहुत सुंदर...

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 दिसम्बर 2019
*The Khan of khans ! Arif Mahammad Khan - Dr Dinesh Sharma*Mohammad Arif Khan's yearning and concern for bringing peace by connecting people on the basis of inherent spiritual element in every religion is so beautifully and clearly visible in his most interviews, lectures and public addresses. The
31 दिसम्बर 2019
13 जनवरी 2020
वैसे तो साल्जबर्ग हमेशा से ही बेहद खूबसूरत शहर रहा है पर हॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री जूली एंड्रयूज़ की 1965 में रिलीज हुई सुपर हिट फिल्म साउंड ऑफ म्यूजिक , के बाद और भी प्रसिद्ध हो गया । फ़िल्म की अधिकांश शूटिंग इसी शहर में हुई थी और 55 साल बाद आज भी बहुत सी टूरिस्ट कम्पनियां 'साउंड ऑफ म्यूजिक' टूर पर
13 जनवरी 2020
12 जनवरी 2020
प्राकृतिक सौंदर्य से घिरे खूबसूरत वीसबादन शहर के प्राचीन गिरजे घरों , संडे मार्केट, पास ही बहती राइन नदी और थोड़ी ही दूर पर हरे भरे पर्वतों की श्रंखला, बेहतरीन बियर और सुस्वादु भोजन परोसते रेस्तराओं के खूबसूरत अनुभव डॉक्टर भतीजे के खुशदिल परिवार के साथ हुए । मस्तीभरा वीकेंड बिताकर वापस पेरिस लौट आया
12 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
21 दिसम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x