अधकचरा ज्ञान घातक होता है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

अधकचरा ज्ञान घातक होता है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत में सदैव से विद्वानों का मान सम्मान होता रहा है | अपनी विद्वता के बल पर विद्वानों ने भारत देश का गौरव समस्त विश्व में बढ़ाया है | विद्वता का अर्थ मात्र पांडित्य का क्षेत्र न हो करके जीवन के अनेक विषयों पर पारंगत हो करके यह विद्वता प्राप्त की जाती है | किसी भी विषय का विद्वान हो वह अपने क्रियाकलापों से सर्वत्र पूजनीय हो जाता है | किसी विषय विशेष की विद्वता प्राप्त करने के लिए मनुष्य उस विषय के श्रेष्ठ सद्गुरु का चयन करके उस विशेष विद्या को प्राप्त करना प्रारंभ करता है परंतु जैसे ही उसे कुछ ज्ञान हो जाता है वह स्वयं को विद्वान समझने लगता है और समाज में विद्या (ज्ञान) बांटने के लिए निकल पड़ता है | ऐसे लोगों की गणना ना तो विद्वानों में हो पाती है और ना ही मूर्खों में | अधकचरा ज्ञान लेकर के स्वयं को विद्वान घोषित करने कराने का सतत प्रयास ऐसे लोगों के द्वारा किया जाता है | किसी भी विषय का अधूरा ज्ञान सदैव घातक ही रहा है , परंतु देश में जितनी संख्या विद्वानों एवं मूर्खों की है उससे कहीं ज्यादा संख्या अधकचरा ज्ञान प्राप्त किए स्वघोषित विद्वानों की देखने को मिल रही है | जिस विषय में उनको कोई विशेष ज्ञान नहीं है उसी विषय को बहस का मुद्दा बनाकर के ऐसे लोग स्वयं को स्थापित करने का प्रयास करते हुए देखे जा रहे हैं | ऐसे लोगों को समझाना बहुत कठिन होता है क्योंकि ऐसे लोग तर्क नहीं कर पाते हैं बल्कि अपनी बात को सिद्ध करने के लिए कुतर्क का सहारा लेने लगते हैं | ऐसे ही लोगों के लिए राजा भर्तृहरि ने अपने "नीतिशतकम्" में लिखा है :- "अग्य: सुखमाराध्य: सुखतरमाराध्यते विशेषज्ञ: ! ज्ञानलवदुर्विदग्धं ब्रह्मापि नरं न रञ्जयति !!" अर्थात :- एक मूर्ख व्यक्ति को समझाना सरल है , एक बुद्धिमान व्यक्ति को समझाना उससे ज्यादा सरल है , परंतु अधूरे ज्ञान से भरे व्यक्ति को भगवान ब्रह्मा भी नहीं समझा सकते , क्योंकि ऐसे मनुष्य अहंकारी एवं अपने तर्क के प्रति अंधे हो जाते | ऐसे लोगों को अपना तर्क ही उचित प्रतीत होता है |*


*आज समाज में शिक्षा का स्तर बढ़ा है आधुनिकता के परिवेश में व्यवसायिक शिक्षा के साथ-साथ लोग आध्यात्मिक शिक्षा भी प्राप्त करने का प्रयास करते हुए देखे जा रहे हैं | आज जहां एक और प्रत्येक विषय के विद्वानों की संख्या बढ़ी है वहीं दूसरी ओर इनसे ज्यादा अधूरा ज्ञान रखने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है | आज जिधर देखो अधूरा ज्ञान रखने वाले स्वयं को स्थापित करने में प्रयासरत दिखाई पड़ते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे - ऐसे लोगों के दर्शन कर रहा हूं जो संविधान के विषय में कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु कहीं से एक लाइन पाकर के दिन भर उसी पर चर्चा किया करते हैं और देश के संविधान में अनेकों कमियां निकाला करते हैं | इसके अतिरिक्त अनेक विद्वान ऐसे भी समाज में टहल रहे हैं जिन्होंने विद्वता प्राप्त करने के लिए गुरुओं का आश्रय लिया परंतु अधूरा ज्ञान प्राप्त करने के बाद उनको ऐसा प्रतीत हुआ कि वह विद्वान हो गए हैं और स्वयं गुरु की श्रेणी में आ गए | जिनको न तो ढंग से श्लोक आता है और न हीं श्लोक का अर्थ निकालना ऐसे तथाकथित लोग समाज को कौन सी दिशा देंगे | जो देश के भूगोल , इतिहास , संविधान , विज्ञान एवं अध्यात्म के विषय में स्वयं कुछ नहीं जानते हैं परंतु लोगों के मध्य स्वयं को विद्वान की श्रेणी में स्थापित करना चाहते हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि ऐसे लोग किसी के द्वारा उचित एवं सत्य का ज्ञान कराने पर उसको मानना भी नहीं चाहते हैं क्योंकि उनको ऐसा प्रतीत होता है कि जो मैं जानता हूं वही सत्य है | "एको$हं द्वितीयो नास्ति" की भावना से प्रेरित होकर के ऐसे लोग समाज में अनेकों प्रकार के क्रियाकलाप करते हैं और हंसी के पात्र बनते रहते हैं | विद्वता का प्रदर्शन विद्वान कभी नहीं करता है परंतु जो स्वघोषित विद्वान हैं वह चाहे जिस विषय के हों उनके द्वारा ऐसे कृत्य बारंबार देखने को मिल रहे हैं | जो कि देश की दिशा एवं दशा को परिवर्तित करने में लगे हैं |*


*अधकचरा ज्ञान प्राप्त करके समाज में टहल रहे अनेकों ज्ञान - विज्ञान , संविधान एवं आध्यात्मिक गुरु की श्रेणी को प्राप्त कर चुके ऐसे लोगों से सावधान रहने की आवश्यकता है |*

अगला लेख: भय बिनु होइ न प्रीति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 दिसम्बर 2019
*मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों एवं क्रियाकलापों के माध्यम से महान एवं पतित बनता है | जिसने जीवन के रहस्य को जान लिया अपने जीवन को उच्चता की ओर ले कर चल पड़ता है और जिसने जीवन को नहीं समझा , उसके महत्व को नहीं जाना वह प्रतिदिन नीचे की ओर गिरता हुआ पतित हो जाता है | मनुष्य के जीवन में ,
28 दिसम्बर 2019
17 जनवरी 2020
*इस जीवन में हम प्राय: संस्कृति एवं सभ्यता की बात किया करते हैं | इतिहास पढ़ने से यह पता चलता है कि हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता बहुत ही दिव्य रही है | भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वाधिक प्राचीन एवं समृद्धि संस्कृति है , जहां अन्य देशों की संस्कृतियां समय-समय पर नष्ट होती रही है वहीं भारतीय संस्कृ
17 जनवरी 2020
28 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से इस धराधाम पर भाषा का बड़ा महत्त्व रहा है | सभी भाषाओं की उत्पत्ति संस्कृत भाषा से ही हुई है | प्राय: एक शब्द बोला जाता है "आधुनिक" या आधुनिकता | इसका अर्थ बहुत ही विस्तृत है | संस्कृत का एक शब्द है "अधुना" जिसका अर्थ है - अब | इसी अधुना शब्द से आधुनिक शब्द बना | प्राय: सभी लोग आधुनिकता का
28 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
*मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों एवं क्रियाकलापों के माध्यम से महान एवं पतित बनता है | जिसने जीवन के रहस्य को जान लिया अपने जीवन को उच्चता की ओर ले कर चल पड़ता है और जिसने जीवन को नहीं समझा , उसके महत्व को नहीं जाना वह प्रतिदिन नीचे की ओर गिरता हुआ पतित हो जाता है | मनुष्य के जीवन में ,
28 दिसम्बर 2019
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
27 दिसम्बर 2019
*इस संपूर्ण सृष्टि में जितने भी जड़ चेतन देखने को मिल रहे हैं सब उस परमपिता परमात्मा की सृष्टि कहीं जाती है | कण-कण में परमात्मा का निवास है | संपूर्ण सृष्टि को मार्गदर्शन प्रदान करने वाले हमारे वेदों ने उस परमपिता परमात्मा के लिए एकोहम् बहुस्याम लिखा है जिसका अर्थ यही होता है कि जब उस परमात्मा की इ
27 दिसम्बर 2019
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
16 जनवरी 2020
*इस संपूर्ण सृष्टि में परमात्मा ने एक से बढ़कर एक सुंदर रचनाएं की हैं | प्रकृति की छटा देखते ही बनती है , ऊंचे - ऊंचे पहाड़ , गहरे - गहरे समुद्र , अनेकों प्रकार की औषधियां , फूल - पौधे एवं अनेक प्रकार के रंग बिरंगी जीवो की रचना परमात्मा ने किया है जिन्हें देखकर बरबस ही मन मुग्ध हो जाता है और मन यही
16 जनवरी 2020
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
31 दिसम्बर 2019
*आदिकाल में जब सृष्टि का विस्तार हुआ तब इस धरती पर सनातन धर्म के अतिरिक्त और कोई धर्म नहीं था | सनातन धर्म ने मानव मात्र को अपना मानते हुए वसुधैव कुटुंबकम की घोषणा की जिसका अर्थ होता है संपूर्ण पृथ्वी अपना घर एवं उस पर रहने वाले मनुष्य एक ही परिवार के हैं | सनातन धर्म की जो भी परंपरा प्रतिपादित की
31 दिसम्बर 2019
24 दिसम्बर 2019
*हमारा देश भारत आदिकाल से सनातन संस्कृति का वाहक रहा है | परिवर्तन सृष्टि का नियम रहा है इसी परिवर्तन के चलते हमारे देश में समय-समय पर भिन्न - भिन्न संस्कृतियों की स्थापना हुई एवं सनातन धर्म से विलग होकर के अनेक धर्म एवं संप्रदाय के लोगों ने अपनी - अपनी संस्कृति की स्थापना की | आज हमारे देश के प्रत्
24 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेकों लोगों से मिलता है जीवन के भिन्न - भिन्न क्षेत्र में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग मिला करते हैं जो कि जीवन में महत्त्वपूर्ण हो जाते हैं | अनेक महत्त्वपूर्ण लोगों के बीच रहकर मनुष्य जीवन में सफलता - असफलता प्राप्त करता रहता है | जीवन
05 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x