भगवान श्रीराम के आदर्श :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (392 बार पढ़ा जा चुका है)

भगवान श्रीराम के आदर्श :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत देश आदिकाल से अपनी संस्कृति , सभ्यता एवं संस्कारों के लिए जाना जाता रहा है | समय-समय पर यहां अनेकों महापुरुषों ने जन्म लेकर समाज को नई दिशा दिखायी है | समय - समय पर इस पुण्यभूमि में ईश्वर ने अनेकानेक रूपों में अवतार भी लिया है | इन्हीं महापुरुषों (भगवान) में एक थे रघुकुल के गौरव , चक्रवर्ती सम्राट महाराज दशरथ के ज्येष्ठ पुत्र , भगवान श्री हरि विष्णु के अवतार श्री राम | जिनके मानवोचित आदर्शों के कारण उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम कहा गया | मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम ने अपने संपूर्ण जीवन काल मे एक आदर्श प्रस्तुत किया है | प्रात:काल उठकरके अपने माता पिता की चरण वंदना करने के बाद गुरुओं का आशीर्वाद लेकर के अपने दिन का प्रारंभ करते थे | जिस समय उनके राज्याभिषेक की तैयारी हो रही थी उसके एक दिन पहले मंझली माता कैकेई के द्वारा मांगे गये वरदानों को पूर्ण करने एवं अपने पिता का वचन बनाए रखने के लिए विशाल साम्राज्य का त्याग करके चौदह वर्षों के लिए बनवासी का जीवन जीना स्वीकार किया | बनवासी का जीवन कैसा होता है इसका दर्शन बी हमें भगवान श्री राम के क्रियाकलापों से मिलता है | अयोध्या के राजकुमार एवं युवराज होते हुए भी बिना खड़ाऊं के नंगे पैरों वल्कल वसन पहन के वन यात्रा प्रारंभ की | चौदह वर्ष कठोर साधना तो उन्होंने की ही साथ ही पत्नी के लिए पति का क्या कर्तव्य होता है यह भी उन्होंने बताया | रावण के द्वारा अपहरण की गयी अपनी भार्या सीता को रावण का वध करके पुनः प्राप्त किया | अयोध्या के राजा होने के बाद अपने सुख की परवाह किये बिना मात्र प्रजारंजन के लिए अपनी प्राण प्यारी भार्या का त्याग कर दिया और राजा होकर भी त्यागी का जीवन जिया | मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी ने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में एक मर्यादा स्थापित की | यह हमारी संस्कृति का एक दिव्य इतिहास रहा है | प्रत्येक मनुष्य यदि भगवान श्री राम के आदर्शों को अनुकरण करने लग जाय तो इस धरती पर पुनः राम राज्य की स्थापना हो सकती है | हमारा भारत देश यूं ही महान नहीं कहा जाता है यहां समय-समय पर महापुरुषों के द्वारा दिया गया मार्गदर्शन आम जनमानस को अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति क्या कर्तव्य करना चाहिए इसकी शिक्षा देता रहा है , और हम उनसे शिक्षा ग्रहण करके अपने जीवन नई दिशा और दशा देते रहे हैं | परंतु आज परिवेश परिवर्तित हो गया है शायद इसीलिए मानव मानव कहने योग्य नहीं रह गया है |*


*आज के वर्तमान युग में भगवान श्री राम के आदर्शों पर चलने वालों की संख्या बिल्कुल समाप्त हो गई है | आज के बच्चे सुबह उठकर के अपने माता पिता को प्रणाम नहीं करना चाहते हैं | घर - घर में सम्पत्ति / जायदाद के लिए महाभारत चल रही है | माता-पिता के द्वारा किसी को दिए गए वचन को पूरा करने की बात ही छोड़ दीजिए आज की संतान अपने माता पिता की किसी बात को नहीं ही मानना चाहती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" देख रहा हूं कि समाज मे लोग भगवान श्री राम के चरित्र का अध्ययन एवं गायन तो खूब कर रहे हैं परंतु उनके आदर्शों पर चलने को कोई भी तैयार नहीं दिखता है | पत्नी यदि किसी संकट में पड़ जाय तो पति उसे छोड़कर दूसरी पत्नी के चक्कर में लग जाता है | यदि राजा के रूप में भगवान श्री राम जी ने अपनी पत्नी का त्याग मात्र प्रजारंजन के लिए कर दिया था वहीं आज हमारे शासक अपने परिवार को बचाने के लिए पूरे देश को हिंसा की अग्नि झोंकने को तैयार दिख रहे हैं | आज यदि राम जैसे आदर्श हमारे देश में नहीं देखने को मिल रहे है तो उसका एक कारण यह भी है कि आज माता पिता भी दशरथ एवं कौशल्या की तरह नहीं हो पा रहे हैं | यदि श्री राम की तरह पुत्र पाना है तो पहले दशरथ बनना पड़ेगा , और यदि सीता की तरह बहू की कामना है तो कौशल्या की तरह सास बनना ही होगा अन्यथा भगवान राम के चरित्रों का गायन करने का कोई लाभ नहीं है | भगवान राम का चरित्र गायन करने से अधिक पालन करने योग्य है | दुर्भाग्य है कि आज लोग दूसरों को शिक्षा देना तो खूब जानते हैं परंतु स्वयं उसका पालन नहीं करना चाहते | आज लोगों को अपनी संतानों से बहुत शिकायत होती है | अपनी बहुओं से रुष्ट होकर के पूरे मोहल्ले में उनकी शिकायत करने वाली सासोंं की समाज में कमी नहीं है परंतु इन सास ससुर को भी विचार करना चाहिए कि क्या वे भी अपने पुत्र एवं पुत्रवधू के साथ दशरथ कौशल्या की तरह व्यवहार कर रहे हैं | जब तक हम स्वयं दशरथ एवं कौशल्या की तरह नहीं बनेंगे तब तक राम जैसी संतान एवं सीताजी जैसी बहू का मिलना असंभव है | मानवमात्र को भगवान राम क आदर्शों को हृदय में उतार कर के उसका सतत पालन करने का प्रयास करना चाहिए |*


*जहां रामायण में छोटे भाई भरत के लिए राज्य का त्याग कर दिया गया और दूसरे भाई भरत के द्वारा भी उस राज्य को नहीं ग्रहण किया गया वहीं आज समाज में एक-एक टुकड़ा जमीन के लिए भाई भाई युद्ध में हो रहा है | ऐसा करके हम भगवान श्री राम के किन आदर्शों का पालन कर रहे हैं यह हमें सोचना ही होगा |*

अगला लेख: भय बिनु होइ न प्रीति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



जय जय सियाराम
आचार्य श्री

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेकों लोगों से मिलता है जीवन के भिन्न - भिन्न क्षेत्र में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग मिला करते हैं जो कि जीवन में महत्त्वपूर्ण हो जाते हैं | अनेक महत्त्वपूर्ण लोगों के बीच रहकर मनुष्य जीवन में सफलता - असफलता प्राप्त करता रहता है | जीवन
05 जनवरी 2020
02 जनवरी 2020
*भारत देश अपनी महानता , पवित्रता , सहृदयता एवं अपनी सभ्यता / संस्कृति के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता रहा है | लोक मर्यादा का पालन करके ही हमारे महापुरुषों ने भारतीय सभ्यता की नींव रखी थी | मानव जीवन में अनेक क्रियाकलापों के साथ लज्जा एक प्रमुख स्थान रखती है लोक लज्जा एक ऐसा शब्द माना जाता था जिस
02 जनवरी 2020
21 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही हमारे देश भारत को पुण्यभूमि कहा जाता रहा है | आध्यात्मिकता के उच्चशिखर को इस देश ने छुआ है तो उसका एक प्रमुख कारण यह रहा है कि यहाँ समय - समय पर महापुरुषों ने जन्म लेकर मानवता की स्थापना करने का प्रयास किया है | आदिकाल से लेकर अब तक आध्यात्मिकता एवं मानव धर्म एवं समसरता का उदाहरण प्रस्
21 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
*हमारे देश भारत में आदिकाल से राजा एवं प्रजा के बीच अटूट सम्बन्ध रहा है | प्रजा पर शासन करने वाले राजाओं ने अपनी प्रजा को पुत्र के समान माना है तो अपराध करने पर उन्हें दण्डित भी किया है | हमारे शास्त्रों में लिखा है कि :- "पिता हि सर्वभूतानां राजा भवति सर्वदा" अर्थात किसी भी देश का राजा प्रजा के लिए
22 दिसम्बर 2019
28 दिसम्बर 2019
*मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों एवं क्रियाकलापों के माध्यम से महान एवं पतित बनता है | जिसने जीवन के रहस्य को जान लिया अपने जीवन को उच्चता की ओर ले कर चल पड़ता है और जिसने जीवन को नहीं समझा , उसके महत्व को नहीं जाना वह प्रतिदिन नीचे की ओर गिरता हुआ पतित हो जाता है | मनुष्य के जीवन में ,
28 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*हमारे देश भारत में सदैव से विद्वानों का मान सम्मान होता रहा है | अपनी विद्वता के बल पर विद्वानों ने भारत देश का गौरव समस्त विश्व में बढ़ाया है | विद्वता का अर्थ मात्र पांडित्य का क्षेत्र न हो करके जीवन के अनेक विषयों पर पारंगत हो करके यह विद्वता प्राप्त की जाती है | किसी भी विषय का विद्वान हो वह अप
05 जनवरी 2020
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
21 दिसम्बर 2019
*इस धरती पर मानव समाज में वैसे तो अनेकों प्रकार के मनुष्य होते हैं परंतु इन सभी को यदि सूक्ष्मता से देखा जाय तो प्रमुखता दो प्रकार के व्यक्ति पाए जाते हैं | एक तो वह होते हैं जो समाज की चिंता करते हुए समाज को विकासशील बनाने के लिए निरंतर प्रगतिशील रहते हैं जिन्हें सभ्य समाज का प्राणी कहा जाता है ,
21 दिसम्बर 2019
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x