महत्त्वपूर्ण कौन ?? :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (397 बार पढ़ा जा चुका है)

महत्त्वपूर्ण कौन ?? :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धरती पर जन्म लेने के बाद मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेकों लोगों से मिलता है जीवन के भिन्न - भिन्न क्षेत्र में भिन्न - भिन्न प्रकार के लोग मिला करते हैं जो कि जीवन में महत्त्वपूर्ण हो जाते हैं | अनेक महत्त्वपूर्ण लोगों के बीच रहकर मनुष्य जीवन में सफलता - असफलता प्राप्त करता रहता है | जीवन में सबसे ज्यादा महत्त्वपूर्ण कौन व्यक्ति है कभी - कभी यह निर्णय करना कठिन लगता है | वैसे तो जीवन में सभी कुछ न कुछ महत्त्व रखते हैं परन्तु यदि धर्म ग्रंथों एवं समाज की ओर देखा जाय तो एक मनुष्य के लिए जीवन में सबसे महत्वपूर्ण होते हैं उनके माता-पिता क्योंकि यदि माता-पिता ना होते तो मनुष्य का जन्म शायद ही हो पाता | माता पिता के महत्व को समझने में संपूर्ण आयु मनुष्य व्यतीत कर देता है परंतु उनके ऋण से उऋण नहीं हो पाता | माता पिता ने जन्म दिया उसके बाद मनुष्य परिवार से बाहर निकल कर जब समाज को जानने के लिए बाहर निकलता है तो जीवन में दूसरा सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है गुरु का , जो मनुष्य को मानवता के सांचे में डालकर के उसको अनेक प्रकार के ज्ञान से परिपूर्ण करता है | जीवन में मनुष्य कितना भी महान हो जाय परंतु अपने माता पिता एवं गुरु के ऋण से कभी भी उऋण नहीं हो सकता | माता पिता ने यदि जन्म दिया है तो गुरु मनुष्य को ज्ञान दे करके समाज के योग्य बनाता है | जिसने भी इनके महत्व को ना जान करके इनको उपेक्षित एवं अपमानित करके अन्य महत्वपूर्ण लोगों को महत्त्व देने का प्रयास किया है वे अपने जीवन कभी भी सफल नहीं हो सकते | पूर्वजन्म के किसी कृत्य के कारण यदि वह सफल हो भी जाते हैं तो उनके भीतर कुछ रिक्तता जीवन भर बनी ही रहती है | माता-पिता एवं गुरू को देवताओं की संज्ञा दी गई है परंतु मनुष्य अपने अहंकार में इनको उपेक्षित करके सम्मान प्राप्त करना चाहता है तो इससे बड़ी मूर्खता और क्या हो सकती है ??*


*आज के प्रतिस्पर्धी युग में मनुष्य तेजी से एक दूसरे से आगे निकलने के लिए सतत प्रयासरत रहता है | अपने इस प्रयास में वह इतना अंधा हो जाता है कि अपने जन्मदाता माता पिता एवं मार्गदर्शक गुरु को भी उपेक्षित कर देता है | जीवन में कुछ प्राप्त कर लेने पर वह बड़े अभिमान से कहता है कि आज जो मैं हूं अपने बल पर हूं इसमें मेरे माता-पिता या सद्गुरु का कोई सहयोग नहीं है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे मूर्खों से पूंछना चाहता हूं कि आज यदि वे समाज में स्थापित हुए हैं तो उसमें माता-पिता एवं गुरू के सहयोग को भला कैसे अनदेखा किया जा सकता है ? आज समाज में ऐसे अनेक लोग यत्र तत्र सर्वत्र दिखाई पड़ रहे हैं जो अपने लिए सबसे महत्वपूर्ण माता-पिता का त्याग करके अन्य लोगों को महत्वपूर्ण पद पर बिठाकर उनकी पूजा कर रहे हैं | अनेक लोग ऐसे भी हैं जो अपने मार्गदर्शक गुरु को भी ज्ञान देने का प्रयास करते हैं | कुछ लोग जो स्वयं को अधिक बुद्धिमान समझते हैं उनके द्वारा प्राय: ऐसे वक्तव्य सुनने को मिल जाते हैं कि मेरे माता पिता मुझसे ईर्ष्या करने लगे हैं , हमारे मार्गदर्शक गुरु हमारी प्रगति नहीं देख पा रहे हैं | विचार कीजिए जिसने अपने हृदय से तुमको पैदा किया , अपना रक्त पिलाकर तुमको पाला , वह भला तुमसे ईर्ष्या क्यों करेंगे ? जिस गुरु ने तुमको अपना परम शिष्य मान करके शिक्षा दी वह तुम्हारी प्रगति से भला कैसे दुखी हो सकता है ? परंतु आज समाज में विद्वता एवं बुद्धिमत्ता अपनी पराकाष्ठा पर है | ऐसे ही लोग समाज को मार्गदर्शन देने के लिए उच्चपीठों पर बैठे हुए हैं | जो स्वयं अपना संस्कार भूल गया है वह दूसरों को क्या संस्कार देगा ? यह विचार करने की बात है |*


*माता-पिता एवं गुरू का महत्व एक मनुष्य के जीवन में सबसे ज्यादा होना चाहिए , क्योंकि इन्होंने ही अपने अथक परिश्रम से मनुष्य को समाज में स्थापित किया है |*

अगला लेख: भक्ति क्या है ?? :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
22 दिसम्बर 2019
*हमारे देश भारत में आदिकाल से राजा एवं प्रजा के बीच अटूट सम्बन्ध रहा है | प्रजा पर शासन करने वाले राजाओं ने अपनी प्रजा को पुत्र के समान माना है तो अपराध करने पर उन्हें दण्डित भी किया है | हमारे शास्त्रों में लिखा है कि :- "पिता हि सर्वभूतानां राजा भवति सर्वदा" अर्थात किसी भी देश का राजा प्रजा के लिए
22 दिसम्बर 2019
17 जनवरी 2020
*इस जीवन में हम प्राय: संस्कृति एवं सभ्यता की बात किया करते हैं | इतिहास पढ़ने से यह पता चलता है कि हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता बहुत ही दिव्य रही है | भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वाधिक प्राचीन एवं समृद्धि संस्कृति है , जहां अन्य देशों की संस्कृतियां समय-समय पर नष्ट होती रही है वहीं भारतीय संस्कृ
17 जनवरी 2020
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
02 जनवरी 2020
*भारत देश अपनी महानता , पवित्रता , सहृदयता एवं अपनी सभ्यता / संस्कृति के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता रहा है | लोक मर्यादा का पालन करके ही हमारे महापुरुषों ने भारतीय सभ्यता की नींव रखी थी | मानव जीवन में अनेक क्रियाकलापों के साथ लज्जा एक प्रमुख स्थान रखती है लोक लज्जा एक ऐसा शब्द माना जाता था जिस
02 जनवरी 2020
24 दिसम्बर 2019
*हमारा देश भारत आदिकाल से सनातन संस्कृति का वाहक रहा है | परिवर्तन सृष्टि का नियम रहा है इसी परिवर्तन के चलते हमारे देश में समय-समय पर भिन्न - भिन्न संस्कृतियों की स्थापना हुई एवं सनातन धर्म से विलग होकर के अनेक धर्म एवं संप्रदाय के लोगों ने अपनी - अपनी संस्कृति की स्थापना की | आज हमारे देश के प्रत्
24 दिसम्बर 2019
16 जनवरी 2020
*इस संपूर्ण सृष्टि में परमात्मा ने एक से बढ़कर एक सुंदर रचनाएं की हैं | प्रकृति की छटा देखते ही बनती है , ऊंचे - ऊंचे पहाड़ , गहरे - गहरे समुद्र , अनेकों प्रकार की औषधियां , फूल - पौधे एवं अनेक प्रकार के रंग बिरंगी जीवो की रचना परमात्मा ने किया है जिन्हें देखकर बरबस ही मन मुग्ध हो जाता है और मन यही
16 जनवरी 2020
31 दिसम्बर 2019
*आदिकाल में जब सृष्टि का विस्तार हुआ तब इस धरती पर सनातन धर्म के अतिरिक्त और कोई धर्म नहीं था | सनातन धर्म ने मानव मात्र को अपना मानते हुए वसुधैव कुटुंबकम की घोषणा की जिसका अर्थ होता है संपूर्ण पृथ्वी अपना घर एवं उस पर रहने वाले मनुष्य एक ही परिवार के हैं | सनातन धर्म की जो भी परंपरा प्रतिपादित की
31 दिसम्बर 2019
02 जनवरी 2020
*इस सृष्टि का सृजन परमात्मा ने पंच तत्वों को मिलाकर के किया है , यह पांच तत्व मिलकर प्रकृति का निर्माण करते हैं | प्रकृति एवं पुरुष मे ही सारी सृष्टि व्याप्त है , पुरुष के बिना प्रकृति संभव नहीं है और प्रकृति के बिना पुरुष का कोई अस्तित्व भी नहीं है | इस प्रकार नर नारी के सहयोग से सृष्टि पुष्पित पल्
02 जनवरी 2020
28 दिसम्बर 2019
*मनुष्य अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों एवं क्रियाकलापों के माध्यम से महान एवं पतित बनता है | जिसने जीवन के रहस्य को जान लिया अपने जीवन को उच्चता की ओर ले कर चल पड़ता है और जिसने जीवन को नहीं समझा , उसके महत्व को नहीं जाना वह प्रतिदिन नीचे की ओर गिरता हुआ पतित हो जाता है | मनुष्य के जीवन में ,
28 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*आदिकाल से ही इस धरती पर अनेकों भक्त हुए हैं जिन्होंने भगवान की भक्ति करके उनको प्राप्त करने का अनुभव किया है | अनेकों भक्तों तो ऐसे भी हुए जिन्होंने साक्षात भगवान का दर्शन भी किया है | भक्ति की महत्ता का विस्तृत वर्णन हमारे शास्त्र एवं पुराणों में देखने को मिलता है | भक्ति क्या होती है ? इसको बता
23 दिसम्बर 2019
23 दिसम्बर 2019
*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्
23 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x