विचारों का रैला - दिनेश डॉक्टर

07 जनवरी 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (472 बार पढ़ा जा चुका है)

विचारों का रैला - दिनेश डॉक्टर

कई बार विचार शून्य हो जाते हैं. आज कुछ ऐसा ही दिन है. आज अन्दर बाहर एक मौन का अहसास है. अभी एक कव्वे ने कांव कांव की, फिर बगल की सड़क से एक मोटर साइकिल निकली, फिर दूर कहीं एक कार का हार्न बजा. मन चुपचाप रहा बस सुनता रहा. ऐसा बहुत कम होता है. अक्सर तो मन में हर पल विचारों के, कल्पनाओं के, आकांक्षाओं के तूफ़ान घुमड़ते ही रहते हैं. ये मौसम का असर भी हो सकता है क्योंकि ठंड अच्छी खासी पड़ रही है ।

अभी लिखते लिखते पहला विचार पैदा हुआ. कमाल है, मैं फोन की स्क्रीन पर टाइप रोमन में अंग्रेजी के की पेड पर कर रहा हूँ और सामने अक्षर हिन्दी के उभर रहे हैं. मैं नतमस्तक हूँ उन महान लोगों के चरणों में जिन्होंने हमें ऐसी तकनीकी सुविधाएं प्रदान की, वो भी एक दम निस्वार्थ भाव से - उनका कहीं नाम भी नहीं है। उन्हें या उन जैसे हज़ारों को जिन्होंने हमें आज रोज़ प्रयोग में आने वाले सेल फोन से लेकर कम्प्यूटर कार हवाई जहाज जैसे अनगिनत आविष्कार दिए और चुपचाप चले गए, हम अगर रोज़ सुबह शाम भी धन्यवाद करें तो भी कम है। वास्तविक ऋषि वो नही था जो खुद किसी यौगिक क्रिया द्वारा उड़ता था बल्कि वो था जिसने मनुष्य जाति की आने वाली सारी पीढ़ियों के लिए हज़ारों मील उड़ कर जाने के आविष्कार किये ।

धन्य हैं कल युग की नई ऋषि परंपरा जिसकी कृपा से आज वह भी हो रहा है जिसकी कल्पना भी कभी हमने बचपन में नहीं की थी। फोन पर हज़ारों मील दूर बैठे अपने अंतरंगों से मुफ्त में आमने सामने बात हो जाती है । हम कहीं भी हों, हमेशा सेल फोन से अपने प्रियजनों के संपर्क में रहते हैं । टी वी पर सारे संसार की घटनाएँ पल पल दिखती रहती हैं । जो दूरियां महीनों में तय होती थी वो घंटो में हो जाती है । जिस भोजन के लिए मनुष्य प्रजाति मारी मारी खतरनाक जंगली जानवरों के बीच पहाड़ों और जंगलों की खाक छानती थी वो उसके फ्रिज में हमेशा भरा रहता है । बटन दबाते ही घर ठंडे से गर्म और गर्म से ठंडा हो जाता है । पहले लोग अकाल भूख और महामारियों से मरते थे । आज लोग अनाप शनाप और ज्यादा खा कर बढ़े कोलेस्ट्रॉल और शुगर की वजह से दिल के दौरे और ब्रेन स्ट्रोक से मर रहे हैं ।

क्या उन ऋषि वैज्ञानिकों ने कभी अपनी मूर्ती किसी पार्क में लगाने की बात सोची ? क्या उन्होंने कभी किसी पुरुस्कार के लिए फाइल बगल में दबाए लॉबिंग की ? आज हमारे छोटे कद के ओछे राजनेता जिन्होंने बजाय किसी रचनात्मक कार्य के अक्सर भृष्टाचारपूर्ण विध्वंसात्मक कृत्य ही किये हैं, अपनी बड़ी बड़ी आदमकद मूर्तियाँ अपने ही जीवन काल में स्थापित करने को रात दिन बैचेन हैं ।

लो जी विचारों का रेला शुरू हो ही गया.....

अगला लेख: राजनेता उतने ही सच्चे है जितनी खुद को वर्जिन बताने वाली वेश्याएँ - दिनेश डॉक्टर



सही बात है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जनवरी 2020
प्राकृतिक सौंदर्य से घिरे खूबसूरत वीसबादन शहर के प्राचीन गिरजे घरों , संडे मार्केट, पास ही बहती राइन नदी और थोड़ी ही दूर पर हरे भरे पर्वतों की श्रंखला, बेहतरीन बियर और सुस्वादु भोजन परोसते रेस्तराओं के खूबसूरत अनुभव डॉक्टर भतीजे के खुशदिल परिवार के साथ हुए । मस्तीभरा वीकेंड बिताकर वापस पेरिस लौट आया
12 जनवरी 2020
28 दिसम्बर 2019
बदकिस्मती से कुछ दिनों से फिर वैसे ही हिन्दू मुस्लिम वाले खतरनाक मेसेज आने शुरू हो गए हैं । एक को ब्लॉक करो- दूसरा भेज देता है । उसको ब्लाक करो कोई तीसरा भेज देता है । मुझे पूरा यकीन है कि वैसे ही झूठ फैलाने वाले नफरत भरे मेसेज मुसलमानों के ग्रुप्स में भी भेजे जा रहे होंगे । कौन लोग हैं ये ? भारती
28 दिसम्बर 2019
27 दिसम्बर 2019
फेथ यानी आस्था बडी अजीब शै है । हम मनुष्यों के पास जीवन की अनसरटेनिटी या अनिश्चितता से पार पाने के लिए आस्था या फेथ का ही सबसे बड़ा सहारा होता है । वो चाहे किसी गुरु में हो, मंदिर गुरुद्वारे में हो , अपने पूजा घर में हो, किसी प्रसिद्ध तीर्थ स्थान में हो या अपनी खुद की प्रार्थनाओं में हो । लेकिन जब हम
27 दिसम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x