माता - पिता के महत्त्व को समझें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (4421 बार पढ़ा जा चुका है)

माता - पिता के महत्त्व को समझें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म भारतीय संस्कृति का मूल है | भारतीय संस्कृति , संस्कार एवं सभ्यता का उद्गम स्रोत सनातन धर्म ही है | सनातन धर्म नें मानव मात्र के लिए एक सशक्त मार्गदर्शक की भूमिका निभाई है | अनेक मान्यताओं , परंपराओं के साथ ही हमारे यहां माता-पिता का विशिष्ट स्थान बताया गया है | यदि जीवन में माता पिता को विशेष महत्वपूर्ण बताया गया है तो उसका एक विशेष कारण भी है | मनुष्य अपने जीवन काल में अनेक लोगों से संबंध बनाता है परंतु उसका यह संबंध इस धरती पर जन्म लेने के बाद उसके क्रियाकलापों के अनुसार बनते हैं परंतु मनुष्य का अपने माता-पिता से संबंध तो जन्म के पूर्व ही बन जाता है | इसीलिए माता पिता को सृष्टि का मूल मानते हुए उन्हें जीवित मनुष्य ना कह कर देवता की संज्ञा दी गई है | जीव का सबसे पहला संबंध माता एवं पिता से ही बनता है यही कारण है किस सनातन संस्कृति में माता-पिता को सर्वोच्च स्थान दिया गया है | मां के त्याग को भला कैसे भुलाया जा सकता है ? जन्म देने में जो असहनीय कष्ट वह सहन करती है उसकी अभी बात छोड़ दिया जाए तो उसके पहले जब जीव गर्भ में आता है तो उस गर्भ को सुरक्षित रखने के लिए उसके किए गए त्याग की भरपाई कर पाना कठिन ही नहीं बल्कि असंभव है | यदि किसी से कह दिया जाय कि एक फूल नौ दिन तक हाथ में लिए रहे और वह फूल मुरझाने ना पाए तो शायद मनुष्य के लिए यह प्रतीत होगा , परंतु मां अपने शिशु को नौ महीने तक अपने पेट में रखकर प्रसन्नता पूर्वक उस भार का वहन करती है | माता पिता जन्मदाता कि नहीं जीवनदाता भी होते हैं | जब बालक रात में रोने लगता है तो माँ खिन्न नहीं होती बल्कि उसे पुचकार कर , दुलार कर , लोरियां सुनाकर सुलाने का प्रयास करती है | अपने बालक को सुलाने के लिए माँ ने कितनी रातें जागकर बिताई होगीं , समाज में स्थापित करने के लिए एवं सन्तान का पेट भरने के लिए पिता ने कितने दिन उपवास किया होगा यह जान पाना कठिन ही है | जिस प्रकार खेत में बीज डाल देने के बाद समय-समय पर उनमें खाद पानी की आवश्यकता होती है उसी प्रकार माता पिता एक किसान की भांति समय-समय पर अपने संतान की आवश्यकताओं का ध्यान रखते हुए उनका विकास करने में सतत प्रयत्नशील रहते हैं | माता पिता के अनंत उपकार अपनी संतान के ऊपर होते हैं जिन्हें भुला देना कृतघ्नता ही होती है , माता - पिता के अनंत उपकारों एवं नि:स्वार्थ प्रेम के कारण ही सनातन संस्कृति में माता-पिता को सर्वोच्च स्थान दिया गया है |*


*आज का युग परिवर्तित हुआ है | सनातन संस्कृति से अलग होकर स्वयं को स्वतंत्र मानकर जीवन यापन करने वाले आज के युवा अपने माता-पिता को वह सम्मान नहीं दे पाते हैं जो उनको मिलना चाहिए | प्राय: समाज में देखा जा रहा है कि आज माता पिता अपनी संतानों के अनादर और उपेक्षा के पात्र बनते जा रहे हैं | उपेक्षित जीवन ही होता तब भी ठीक था परंतु उपेक्षा का स्तर इतना ज्यादा बढ़ गया है कि लोग अपने वृद्ध माता-पिता को वृद्धाश्रम में भी छोड़ कर आ रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के वृद्ध माता - पिता की इस दुर्दशा को देखकर के यही कहना चाहूंगा कि आज की युवा पीढ़ी ने शिक्षा भले बहुत ज्यादा ग्रहण कर ली हो परंतु यदि उनके माता-पिता यह दुर्दशा है तो यह उनके शिक्षित होने का उदाहरण नहीं बल्कि घृणित की मानसिकता का उदाहरण है | जो अपने जीवित माता-पिता के अस्तित्व को मृत मान लेते हैं उनका जीवन पशु के समान ही है | आज के युवक-युवतियों की प्रायः शिकायत होती है कि हमारे माता-पिता का स्वभाव नहीं ठीक है , वे अनपढ़ हैं या फिर उनका आचरण नहीं ठीक है | कुछ लोग तो यह भी कहकर अपने माता-पिता को ठुकरा देते हैं कि मेरी मां का स्वभाव मेरी पत्नी से नहीं मिलता है तो एक साथ निर्वाह कैसे होगा ? इसे आधुनिक शिक्षा माना जाय या कि मनुष्य की मूर्खता ? जिस शिक्षा एवं ज्ञान के बल पर आज का मनुष्य अपने माता पिता को अनपढ़ एवं गंवार कह रहा है उस ज्ञान और शिक्षा को दिलाने के लिए माता-पिता ने कितना परिश्रम किया होगा यह भी विचार अवश्य करना चाहिए | समय-समय पर बुरी संगत एवं बुराई से बचा कर के एक योग्य पुरुष बनाने में माता पिता ने अपना सब कुछ न्योछावर करने का प्रयास किया है | यदि माता पिता ने बचपन से ध्यान ना दिया होता , सन्तान के अंदर संस्कार ना पिरोए होते तो आज लोग शिक्षित होकर के समाज में ना स्थापित हो पाते , परंतु आज इसका ध्यान कोई नहीं देना चाहता है | यद्यपि संसार में अभी भी माता-पिता का सम्मान करने वाले हैं परंतु उनकी संख्या बहुत कम दिखाई पड़ती है क्योंकि यदि न ऐसा होता तो वृद्धाश्रम भरे ना मिलते | अपने बच्चों के द्वारा उपेक्षित एवं पीड़ित अनेक माता-पिता कराहकर यह भी कह देते हैं कि ऐसे पुत्र को जन्म देने से अच्छा तो हम नि:संतान ही ठीक थे | ऐसी स्थिति में मैं यही कहना चाहूंगा कि अपने वृद्ध माता-पिता का सम्मान करो क्योंकि आज वह बृद्ध हैं तो कल तुमको भी वृद्ध होना है | जिस दिन इस बात का ध्यान हो जाएगा उसी दिन लोग अपने माता पिता का सम्मान करने लगेंगे | मनुष्य को अपनी संतान पर बड़ा गर्व होता है | विचार कीजिए कि जो लोग आज अपने माता पिता का तिरस्कार करके अपनी संतान पर गर्व कर रहे हैं कि वृद्धावस्था में वह उनकी सेवा करेगी तो उन मूर्खों को यह भी विचार करना चाहिए कि यही विचार तो उनके माता-पिता ने भी उनके प्रति किया होगा |*


*जहां माता-पिता को अपनी संतान से सामंजस्य बनाना चाहिए वही संतानों को भी चाहिए कि अपने माता पिता को पिछड़ा , अनपढ़ , गंवार कहकर के उनकी उपेक्षा ना करें बल्कि उनके अनुभवों का लाभ लेते हुए उन्हें यथोचित सम्मान एवं सत्कार दें | तभी यह जीवन धन्य हो सकता है |*

अगला लेख: अहंकार से बचने का उपाय :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



जय श्री राधे
प्रणाम आचार्य श्री

जय श्री राधे व्यास जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
31 दिसम्बर 2019
*इस विश्व का सबसे प्राचीन एवं पुरातन धर्म यदि कोई है तो वह सनातन है | सनातन धर्म की प्रत्येक मान्यता एवं परंपरा मानव मात्र के कल्याण के लिए तो है ही साथ ही सनातन धर्म के प्रत्येक क्रियाकलाप में प्रकृति का सामंजस्य एवं वैज्ञानिकता का समावेश भी रहता है | यह सृष्टि निरंतर चलायमान है दिन बीतते जाते हैं
31 दिसम्बर 2019
04 जनवरी 2020
*इस धरा धाम पर सर्वश्रेष्ठ मानवयोनि को कहा गया है |मानव जीवन में आकर के मनुष्य अपने बुद्धिबल का प्रयोग करके अनेकों प्रकार के रहस्य से पर्दा हटाता है | मानव जीवन को उच्चता की ओर ले जाने के कृत्य इसी शरीर में रहकर के किए जाते हैं | मनुष्य के जीवन का एकमात्र लक्ष्य होता है ईश्वर प्राप्ति | ईश्वर को प्र
04 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के धर्म ग्रंथों में वर्णित एक एक शब्द मानव मात्र को दिव्य संदेश देता है | कोई भी साहित्य उठा कर देख लिया जाय तो उसने मानव मात्र के कल्याण की भावना निहित है | आदिभाषा संस्कृत में ऐसे - ऐसे दिव्य श्लोक प्राप्त होते हैं जिनके गूढ़ार्थ बहुत ही दिव्य होते हैं | ऐसा ही एक श्लोक देखते हैं कि ई
17 जनवरी 2020
02 जनवरी 2020
*भारत देश अपनी महानता , पवित्रता , सहृदयता एवं अपनी सभ्यता / संस्कृति के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता रहा है | लोक मर्यादा का पालन करके ही हमारे महापुरुषों ने भारतीय सभ्यता की नींव रखी थी | मानव जीवन में अनेक क्रियाकलापों के साथ लज्जा एक प्रमुख स्थान रखती है लोक लज्जा एक ऐसा शब्द माना जाता था जिस
02 जनवरी 2020
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
31 दिसम्बर 2019
*आदिकाल में जब सृष्टि का विस्तार हुआ तब इस धरती पर सनातन धर्म के अतिरिक्त और कोई धर्म नहीं था | सनातन धर्म ने मानव मात्र को अपना मानते हुए वसुधैव कुटुंबकम की घोषणा की जिसका अर्थ होता है संपूर्ण पृथ्वी अपना घर एवं उस पर रहने वाले मनुष्य एक ही परिवार के हैं | सनातन धर्म की जो भी परंपरा प्रतिपादित की
31 दिसम्बर 2019
29 दिसम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा ने चौरासी लाख योनियों का सृजन किया | इन सभी में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसका एक प्रमुख कारण यह था कि परमात्मा ने मनुष्य को सोंचने - समझने की शक्ति दे दी | अन्य जीव जहां मात्र अपने लिए जीवन जीते हैं वही मनुष्य के अपने परिवार , समाज एवं राष्ट्र के प्रति कुछ कर्तव्य है , अपने क
29 दिसम्बर 2019
26 दिसम्बर 2019
*हमारे देश भारत का मार्गदर्शन आदिकाल से धर्मग्रन्थों ने किया है | इतिहास एवं पुराण के माध्यम से हम पूर्वकाल में घटित हो चुकी घटनाओं के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं | अनेक ऐसी घटनायें , देवी - देवता , भगवान , अवतार , पीर - पैगम्बर एवं महापुरुषों को किसी ने नहीं देखा है परंतु उनमें श्रद्धा एवं वि
26 दिसम्बर 2019
05 जनवरी 2020
*हमारे देश भारत में सदैव से विद्वानों का मान सम्मान होता रहा है | अपनी विद्वता के बल पर विद्वानों ने भारत देश का गौरव समस्त विश्व में बढ़ाया है | विद्वता का अर्थ मात्र पांडित्य का क्षेत्र न हो करके जीवन के अनेक विषयों पर पारंगत हो करके यह विद्वता प्राप्त की जाती है | किसी भी विषय का विद्वान हो वह अप
05 जनवरी 2020
03 जनवरी 2020
*सनातन धर्म के अनुसार इस ब्रह्मांड की रचना परमपिता परमात्मा किंचित विचार मात्र से कर दी | ईश्वर द्वारा सृजित इस ब्रह्मांड में अनेकों प्रकार के जीवो के साथ जड़ पदार्थ एवं अनेकों लोकों का वर्णन पढ़ने को मिलता है | मुख्य रूप से पंच तत्वों से बना हुआ यह ब्रह्मांड अंडाकार स्वरूप में है , इसमें जल की मात्
03 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*इस जीवन में हम प्राय: संस्कृति एवं सभ्यता की बात किया करते हैं | इतिहास पढ़ने से यह पता चलता है कि हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता बहुत ही दिव्य रही है | भारतीय संस्कृति विश्व की सर्वाधिक प्राचीन एवं समृद्धि संस्कृति है , जहां अन्य देशों की संस्कृतियां समय-समय पर नष्ट होती रही है वहीं भारतीय संस्कृ
17 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
*इस संसार में जन्म लेने के बाद मनुष्य के अनेकों मित्र एवं शत्रु बनते देखे गए हैं , परंतु मनुष्य अपने सबसे बड़े शत्रु को पहचान नहीं पाता है | मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु कहीं बाहर नहीं बल्कि उसके स्वयं के भीतर उत्पन्न होने वाला अहंकार है | इसी अहंकार के कारण मनुष्य जीवन भर अनेक सुविधाएं होने के बाद भी
17 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x