खबरों से कहां गायब हो गया विकास ?

11 जनवरी 2020   |  शिल्पा रोंघे   (483 बार पढ़ा जा चुका है)

आज सोशल मीडिया देखो या पारंपरिक मीडिया बस राजनैतिक बयानबाजी सुर्खियों में रहती है। चुनाव खत्म हो चुका है लेकिन ऐसा लगता है कि चुनाव प्रचार का शोर आज भी चल रहा है। हर चीज राजनीतिक रंग में रंगी लगती है, अगर कोई सत्ता पक्ष का समर्थन करे तो वो अंधभक्त करार दिया जाता है अगर विरोध करे तो झट से लोग उसे देशद्रोही करार देते है।


अब हर रोज इंसानों को साहसी वीर का दर्जा दिया जा रहा है केवल उनके बयानों के आधार पर। फॉलो और अनफॉलो का खेल सोशल मीडिया पर चालू हो चुका है तो कभी ट्रोल का ट्रेंड चल पड़ा है।


किसने सोशल मीडिया पर कैसी फोटो डाली उस पर व्यर्थ के विवाद और चर्चा, किसने किसकी खिंचाई की या फिर किसने पलटवार किया। जैसे कि देश का भला सोशल मीडिया पर बयानवीर बनकर ही किया जा सकता है, कैसा ये दौर आ गया है।

आज लोग एक दूसरों को बाध्य करते है कि आप फलां विषय पर अपनी राय रखे, अभिव्यक्ति की स्वंत्रता का अर्थ है कि आप बिना डरे अपनी बात रखे लेकिन सामने वाले को बोलना है या नहीं ये तय करना उसका अधिकार है। ज़रुरी नहीं कि जो व्यक्ति किसी दूसरे इंसान से राय रखने को कहता हो वो भी हर मुद्दे पर अपनी राय रखता हो। हां वो आपकी बात सुन ज़रुर सकता है, इसके लिए वक्त निकाल सकता है।

चाहे जो भी हो आम आदमी की अपनी समस्याएं है खासकर मध्यमवर्ग की, वो रोटी कपड़ा और मकान की फ्रिक करे या राजनीतिक बयानवाजी के खेल में उलझकर रह जाए। अपनी ज़िंदगी की चुनौतियां तो उसे अकेले ही पार करनी पड़ती है। कई मुद्दे है जैसे सावर्जनिक जगहों पर साफ सफाई, कम पड़ती स्वास्थ सुविधाएं, बेरोजगारी, शिक्षा व्यवस्था में सुधार, महिलाओं की समाज में स्थिती, अंधविश्वास, कुप्रथाएं जिन पर हर रोज जिस तरह से आवाज उठाई जानी चाहिए वो राजनैतिक बयानबाजी के बीच कहीं खो सी गई लगती है।

अगला लेख: अलविदा 2019



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 दिसम्बर 2019
गु
दोस्तों ,मेरी यह कविता समाज के उन वहशी गुनहगारों के लिए है, जो वहशियत की सीमाएँ लाँघने के बाद भी स्वयं के लिए माफ़ी की उम्मीद रखते हैं। गुहार क्यों ?साँप तुम सभ्य तो हुए नहीं ,फिर ये दया की गुहार क्यों ?हाँ , यह तेरा ज़हर ही है ,जो तुझे असभ्य बनाता है ,जो तेरे मस्तिष्क के साथ , हलक में आकर वहशियत फै
27 दिसम्बर 2019
13 जनवरी 2020
इन दिनों सखी शिव मेरे स्वप्न में आते हैहै भभूत लगाए.कंठ में विषधारी सर्प है सजाएमस्तक पे चंद्र लगाए.वो त्रिशूलधारीइंद्रधनुषी दुनिया से दूरहिमालय में अ
13 जनवरी 2020
30 दिसम्बर 2019
नू
वहीं खड़े है वृक्ष सभी तनकर.वहीं खिल रहे है फूल सुंगध फैलाकर.सदियों से वहीं खड़े पर्वत विशाल.उसी समुद्र में जाकर मिल रही तरंगिणी.उसी डाल पर बैठा है पक्षी घरौंदा बनाके,उसी नभ में उड़ रहा है पंख फैलाकर.कुछ नहीं बदलता नवीन वर्ष के साथ हां बस संकल्प निश्चित ही हो जाते है दृढ़.बीते वर्ष में मिली सीखें मा
30 दिसम्बर 2019
22 जनवरी 2020
इंसान अपनी जिंदगी में बहुत सी चीजों को लेकर परेशान रहता है और अगर उसे कोई अच्छे से समझा दे तो उसे एक दिलासा मिल जाता है। ऐसे कई आध्यात्मिक गुरू हैं जो जिंदगी के बारे में बहुत सारी अच्छी बातें बताते हैं, उनमें से एक हैं सद्गुरु जग्गी वासुदेव (Sadhguru Jaggi Vasudev) जी
22 जनवरी 2020
29 दिसम्बर 2019
दस प्रश्न गौतम बुद्ध अपने उपदेशों के दौरान उठाए गए सवालों का जवाब भी देते थे. सवाल किसी के भी हों शिष्य के, साधू-संत के, व्यापारी के, यात्री के या फिर किसी राजा के. वे सभी को यथा योग्य उत्तर देते थे. फिर भी कुछ प्रश्न ऐसे थे जिनका बुद्ध ने
29 दिसम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x