साल्जबर्ग 'द साउंड ऑफ म्यूजिक' : दिनेश डॉक्टर

13 जनवरी 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (450 बार पढ़ा जा चुका है)

साल्जबर्ग 'द साउंड ऑफ म्यूजिक' : दिनेश डॉक्टर

वैसे तो साल्जबर्ग हमेशा से ही बेहद खूबसूरत शहर रहा है पर हॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री जूली एंड्रयूज़ की 1965 में रिलीज हुई सुपर हिट फिल्म साउंड ऑफ म्यूजिक , के बाद और भी प्रसिद्ध हो गया । फ़िल्म की अधिकांश शूटिंग इसी शहर में हुई थी और 55 साल बाद आज भी बहुत सी टूरिस्ट कम्पनियां 'साउंड ऑफ म्यूजिक' टूर पर लेकर जाती हैं । टूरिस्ट टाउन होने की वजह से साल्जबर्ग महंगा शहर है । शहर यानी में होटल वगैरा भी खासे महंगे हैं । साल्ज़ शब्द साल्ट यानी के नमक से उद्भुद है। साल्ज़ाश नदी, जो कि जर्मनी की इंन्न और ऑस्ट्रिया की डेन्यूब नदियों को अपने 227 किलोमीटर लम्बे विस्तार से जोड़ती है, नमक यानी कि साल्ट या जर्मन भाषा मे कहें तो साल्ज़ के बड़े पैमाने पर व्यापार का पुराने वक्त से बहुत बड़ा जरिया थी और शायद आज भी है । साल्जबर्ग यानि नमक का किला में पुराने वक्त में शायद नमक व्यापार के बड़े कारोबारी रहते हो तो इसी कारण शहर का नामकरण साल्जबर्ग हो गया हो ।

खैर ! अल्टास्टड होफव्रट होटल में कमरा छोटा सा था और किराया काफी ज्यादा था । इंटरनेट पर वेबसाइट में तस्वीर ऐसे वाइड एंगल से और इस तरह ली गयी थी कि फोटो में कमरा बड़ा नज़र आया था और उसी चक्कर में मैं फंस भी गया था । खैर अच्छी बात यह थी कि कमरा साफ सुथरा था और ज्यादातर दर्शनीय स्थल पैदल के रास्ते में ही थे । पैदल चलने का मुझे वैसे भी बहुत शौक है तो मुझे अनुकूल पड़ गया ।

बैक पैक कमरे में रख कर बाहर निकल आया । दिन अभी भी काफी बाकी था तो सोचा कि क्यों न आज भी कुछ तो घूमा ही जाए । वैसे भी मेरे पास साल्जबर्ग शहर घूमने के लिए ज्यादा दिन नही थे । आज 11 अप्रेल थी और 14 अप्रेल को सुबह दस बजे मुझे विएना के लिए ट्रेन पकड़नी थी । होटल से बाहर निकलते ही दांयी तरफ साल्जबर्ग की मशहूर 'वाकिंग स्ट्रीट' थी, जिसमे कोई भी वाहन प्रवेश नही कर सकता था यहां तक कि साइकिल भी नही । पूरी स्ट्रीट काले कोबल स्टोन यानी कि छोटे छोटे पुराने चोकोर पत्थरों से बनी थी । यूरोप के अधिकांश शहरों के पुराने इलाकों में आज भी कोबल स्टोन से बनी ऐसी सड़कों को विरासत के तौर पर संभाल लिया गया है । उन इलाकों में सिर्फ पैदल ही चला जा सकता है। कई कई स्थानों पर तो मैंने कोबल स्टोन से निर्मित इतने खूबसूरत और विस्तृत चौक देखे हैं कि आज इस बात का मलाल है कि उनकी तस्वीरें क्यों नहीं संभाल कर रक्खी । अब तो बहुत कुछ भूल भी गया हूँ । साल्जबर्ग के पडिस्ट्रीयन वाकिंग स्ट्रीट का इतिहास भी काफी पुराना है और इसे विश्व की 'अंतरराष्ट्रीय धरोहर' की सूची में शुमार किया गया है । दोनों तरफ भिन्न भिन्न वस्तुओं की दुकानें थी । बियर और वाइन बार थे, टेवर्न्स थे और रेस्तरां थे ।

काले कोबल स्टोन से खूबसूरत पैटर्न में बनी पूरी सड़क सफाई से चम चम दमक रही थी ।

अभी दिन छिपने में समय था । यूरोप में एक तरफ जहां सर्दियों में शाम चार बजे से ही अंधेरा घिरना शुरू हो जाता है वहीं मध्य अप्रेल के बाद मध्य अक्टूबर तक रात नौ साढ़े नौ बजे तक भी काफी रोशनी बनी रहती है । थोड़ा ऊपर और उत्तर के देशों जैसे स्केंडनेविया आइसलैंड में तो लोग मध्य रात्रि के सूर्य दर्शन के लिए भी यात्राएं करते है । जून जुलाई में तो पश्चिमी और पूर्वी यूरोप के बहुत से देशों में भी रात दस साढ़े दस बजे तक खासी रोशनी रहती है ।

करीब आधा किलोमीटर चलने के बाद दांयी तरफ एक बड़ा सा आर्केड था जिसमे चारों तरफ रेस्तरां थे और बीच के चौक में सैंकड़ो लोग बियर और वाइन पी रहे थे और गप्पे मारते हुए खाना खाने में मशगूल थे । इतने सालों की सैंकड़ों यात्राओं में जो एक बात मैंने खास तौर पर नोट की है वो है कि अधिकांश देशों में , चाहे अमेरिका हो या यूरोप, ऑस्ट्रेलिया हो या चीन तथा अन्य दक्षिण पूर्व के देश, ज्यादातर लोग बियर या वाइन ही पीते हैं । व्हिस्की, रम वगैरा हमारे देश की तरह ज्यादा इस्तेमाल नही करते ।

पीने के बाद समाज के प्रति सोशल जिम्मेदारी की भावना भी लोगों में जबरदस्त रूप से मौजूद है । हालांकि अमेरिका को छोड़ दें तो यूरोप के सभी देशों में खुले आम शराब पीने पर कोई पाबंदी नही है, चाहे आम रास्ता हो या पब्लिक पार्क , ट्रेन हो या बस । और आप किसी को भी हल्ला गुल्ला करते, किसी से दुर्व्यवहार करते, स्त्रियों को घूरते या कोई अन्य सामाजिक गैर जिम्मेदाराना हरकत करते नही पाएंगे ।

मौसम में थोड़ी हल्की खुशनुमा ठंड धीरे धीरे उतरनी शुरू हो गयी थी । दो सौ गज आगे बढ़ा तो एक दूसरे बड़े चौक पर पहुंच गया । बांयी तरफ खूबसूरत और कलात्मक पानी का एक बड़ा फव्वारा था जिसमे पानी की धाराएं एक दूसरे को काटती हुई अठखेलियां कर रही थी । उसके पास ही रेस्टोरेंट के बाहर बहुत सारी कुर्सियों मेजों पर लोग बैठे खा पी रहे थे । यहीं पचास गज आगे जाकर पडिस्ट्रीयन स्ट्रीट का नदी के इस पार वाला हिस्सा समाप्त हो जाता था । आगे ट्राम लाइनें और चौड़ी सड़क लांघने के बाद खूबसूरत साल्ज़ाश नदी बह रही थी ।

बाकी कल ...

अगला लेख: The Khan of khans Arif Mohammad Khan



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जनवरी 2020
महीने में दो चार बार जाति के नाम पर युवा जोड़ों की, जिन्होंने अंतर्जातीय विवाह करने की हिम्मत जुटायी, हॉनर किलिंग या सम्मान के नाम पर हत्याओं की खबर अख़बार में छप ही जाती हैं । लड़का यदि उच्च जाति का है और लड़की अपेक्षाकृत निम्न जाति की , तो फिर भी लोगों के क्रोध इतने भयंकर नही होते पर यदि स्थिति विपरी
05 जनवरी 2020
12 जनवरी 2020
प्राकृतिक सौंदर्य से घिरे खूबसूरत वीसबादन शहर के प्राचीन गिरजे घरों , संडे मार्केट, पास ही बहती राइन नदी और थोड़ी ही दूर पर हरे भरे पर्वतों की श्रंखला, बेहतरीन बियर और सुस्वादु भोजन परोसते रेस्तराओं के खूबसूरत अनुभव डॉक्टर भतीजे के खुशदिल परिवार के साथ हुए । मस्तीभरा वीकेंड बिताकर वापस पेरिस लौट आया
12 जनवरी 2020
09 जनवरी 2020
उन्नीस बरस पहले अक्टूबर 1998 में यही वक्त रहा होगा जब उस दिन फिलिप मुझे पेरिस में गार द ईस्ट स्टेशन पर सुबह सुबह छोड़ने आया था । तब भी मैं पेरिस से फ्रेंकफर्ट जाने वाली ट्रेन पकड़ रहा था । एक दूसरे से बतियाते हम बातों में इतने मशगूल हो गए कि ट्रेन के ऑटोमेटिक दरवाजे लॉक हो गए और ट्रेन चलने लगी । फिलिप
09 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x