प्राकृतिक तरिके से सफेद बालों को कैसे रंग करें

14 जनवरी 2020   |  बबीता राणा   (363 बार पढ़ा जा चुका है)



उम्र के साथ मेलनिन का बनना कम हो जाता है और बाल सफेद होने लग जाते हैं। कई लोगों में मेलनिन का बनना कम उम्र में ही लगभग रुक सा जाता है। ऐसी स्थिति में बाल सफेद होना शुरू हो जाते हैं। कई लोग सफ़ेद बालों को पसंद नहीं करते। और डाई का इस्तेमाल करते हैं। बाजार में पाए जाने वाले अधिकतर डाई में केमिकल्स होते हैंजो आपके बालों को नुकसान पहुंचाते हैं। ये डाई बालों को रुखा और बेजान कर देते हैं। इसलिए अपने बालों को रंग देने के लिए प्राकृतिक वस्तुओं का इस्तेमाल बेहतर होता है। जो बालों को रंग देने के साथ -साथ उसकी खूबसूरती को बरकरार रखते हैं। आइये जानते हैं हमारे आस -पास ऐसी कौन-कौन सी चीजें मौजूद हैं जो आपके बालों को रंगने के साथ-साथ उसकी नेचुरल खूबसूरती को बरकरार रखती है।


जाने प्राकृतिक तरिके बालों को रंग करने के


  • घर पर कॉफ़ी से बना प्राकृतिक डाई गर्म पानी में डार्क कॉफी को उबालिये। जब कॉफी का रंग काफी डार्क होने लगे तो उबालना बंद कर दीजिये। इसे ठंडा होने दें। और एक स्प्रे बोतल में डाल कर बालों और उसकी जड़ों में स्प्रे कर मसाज करें। अब शावर कैप लगा के बालों को घंटे भर के लिए ऐसे ही छोड़ दें। फिर सिर्फ पानी से या माइल्ड शैम्पू से बालों को धो लें। ये आपके बालों को गहरा भूरा रंग देगा। और बालों में चमक भी लाएगा।

  • चाय की पत्ती को पानी में उबालिये। चायपत्ती की मात्रा अधिक होनी चाहिए। जब पानी अपना रंग बदलने लगे और कम हो जाये तो इसे उबालना बंद कर दीजिये। अब इसे ठंडा होने दें। जब चाय रूम टेम्परेचर में आ जाये तो बालों और उसकी जड़ों में इससे मसाज करें। और शावर कैप लगा के घंटे भर के लिए सूखने को छोड़ दें। फिर पानी से बाल धोएं।

  • चाय की पत्ती को पानी में उबालिये। चायपत्ती की मात्रा अधिक होनी चाहिए। जब पानी अपना रंग बदलने लगे और कम हो जाये तो इसे उबालना बंद कर दीजिये। अब इसे ठंडा होने दें। जब चाय रूम टेम्परेचर में आ जाये तो बालों और उसकी जड़ों में इससे मसाज करें। और शावर कैप लगा के घंटे भर के लिए सूखने को छोड़ दें। फिर पानी से बाल धोएं।

  • अखरोट आपके शरीर के लिए फ़ायदेमंद हैतो उसके छिलके आपके बालों के लिए। अगर आपको अपने बालों को गहरा भूरा रंग देना हैतो अखरोट के छिलकों का प्रयोग ज़रुर करें। सबसे पहले छिलकों को कूट कर टुकड़ों में कर लें। फिर इन टुकड़ों को पानी में आधा घंटे उबालें। ठंडा होने पर इस मिश्रण को छान लें फिर बालों और जड़ों पर लगाएं। 1 घंटे छोड़ने के बाद बालों को धो लें।(नोट: इस मिश्रण को लगाने के लिए आप रुई का प्रयोग भी कर सकती हैं।)

  • आजकल बालों को लोग सिर्फ काला नहीं करना चाहते बल्कि अलग — अलग रंगों का बोल्ड इस्तेमाल करते हैं। इन रंगों की चाहत में पार्लर में महिलाएं हज़ारों रुपये खर्च करती हैं। अगर आपको अपने बालों को लाल या नारंगी रंग देना है तो आप चुकंदर और गाजर का भी प्रयोग कर सकती हैं। ये बिना आपके बालों को कोई नुकसान पहुंचाए आपके बालों को मॉडर्न लुक देगा। इसका इस्तेमाल भी काफी आसान है। बस चुकंदरका जूस और गाजर का जूस को चाहे तो मिलाकर या जो भी रंग चाहिए उस अनुसार अलग-अलग बालों और जड़ों में लगा लें। 1 घंटे बाद बालों को धो लें। अगर रंग गहरा नहीं आया है तो दूसरे दिन फिर से इस विधि को दुहराएँ। (नोट: बालों को साथ-साथ कंडीशनर करने के लिए जूस में नारियल का तेल मिला सकती हैं।)

यह लेख आपको कैसा लगा जरूर बताएं। मेरी यही राय है की जितना हो सके आप प्राकृतिक उपाय अपनाएं जिनका कोई साइड इफेक्ट्स नहीं है। अगर आपको बालों से संबंधित कोई भी जानकारी लेनी हो तो आप मुफ्त में डॉक्टर की सलाह ले सकते हैं।




अगला लेख: आईवीएफ व टेस्ट ट्यूब बेबी क्या है ? आईवीएफ की जरूरत किसे होती है ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x