क्यों मनाते हैं Indian Army Day? जानिए भारतीय सेना से जुड़ी 15 महत्वपूर्णं बातें

15 जनवरी 2020   |  स्नेहा दुबे   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

क्यों मनाते हैं Indian Army Day? जानिए भारतीय सेना से जुड़ी 15 महत्वपूर्णं बातें

भारतीय आर्मी का नाम सुनते ही हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है, ऐसा इसलिए क्योंकि सेना के जवान देश की रक्षा करने के लिए अपनी जान की परवाह भी नहीं करते हैं। इस साल देश अपना 18वां सेना दिवस यानी Indian Army Day 2020 मना रहा है और इस खास अवसर पर सैन्य परेडों, सैन्य प्रदर्शनियों व दूसरे कई कार्यक्रम के साथ ही दिल्ली में बने सभी सेना मुख्यालयों में इस दिन को मनाया जाता है। सेना दिवस के अवसर पर पूरा देश थल सेना की वीरता, अदम्य साहस, शौर्य और उसकी कुर्बानी को याद करता है। हर साल 15 जनवरी को फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में Army Day मनाया जाता है।


क्यों मनाते हैं भारतीय सैन्य दिवस? Indian Army Day


साल 1949 में आज ही के दिन भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर की जगह तत्कालीन लेफ्टिनेट जनरल के एम करियप्पा में ली थी और इन्होंने साल 1947 में भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना की कमान संभाल कर उसका नेतृत्व किया था। आजादी के बाद देश में कई प्रशासनिक समस्याएं पैदा हुई और फिर स्थिति को नियंत्रित करना मुश्किल होने लगा। इस स्थिति को काबू करने के लिए सेना को आगे आना पड़ा और भारतीय सेना के अध्यक्ष तब भी ब्रिटिश मूल के हुआ करते थे। 15 जनवरी, 1949 को फील्ड मार्शल के एम करिअप्पा स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय सेना प्रमुख बने और उस समय सेना में करीब 2 लाख सैनिक शामिल थे। केएम करियप्पा सेना के प्रमुख बनाए गए और इसके बाद हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है। केएम करियप्पा को फील्ड मार्शल की उपाधि दी गई थी और भारतीय इतिहास में अभी तक सिर्फ दो लोगों को ये उपाधि मिली है। साल 1947 में करियप्पा ने भारत-पाक युद्ध में पश्चिमी सीमा पर भारतीय सेना का नेतृत्व किया था। साल 1899 में कर्नाटक के कुर्ग में जन्में फील्ड मार्शल करिअप्पा ने सिर्फ 20 साल की उम्र में ब्रिटिश इंडियन आर्मी में नौकरी करने की शुरुआत कर दी थी। साल 1953 में करिअप्पा रिटायर हो गए थे और साल 1993-94 में 94 साल की उम्र में इनका निधन हो गया था।


Indian Army Day


भारतीय सैन्य के बारे में कुछ अनसुनी बातें | Lesser known facts about Indian Army Day


भारत पर किसी भी तरह की आपदा आई हो भारतीय सेना हमेशा समस्याओं से लड़ने के लिए तैयार रहती है। प्राकृतिक आपदा के समय में भी भारतीय सेना भगवान का दूत बनकर फंसे हुए लोगों की जान बचाने का काम करती है। इसका ताजा उदाहरण हमने जम्मू-कश्मीर में आई बाढ़ में हमने देख लिया है। भारतीय सेना दुनिया की सबसे बड़ी सेनाओं में एक है और ये हमें दुनिया के सामने लड़ने की हिम्मत देती है। दुनियाभर में शांति का संदेश देने वाली भारतीय सेना अपना सबकुछ न्योछावर करके हमेशा उसे कायम रखने में आगे रहती है। आज हम आपको Indian Army Day के बारे में कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिन्हें जानकर आपका सर शान से उठ जाएगा और तिरंगे को देखकर आप भी कहेंगे..'जय हिंद'..


1. भारतीय सेना का निर्माण साल 1776 को ईस्ट इंडिया कंपनी ने कोलकाता में किया था। उस समय भारतीय सेना ब्रिटिश भारतीय सेना कहलाती थी।

2. भारतीय सेना में AR, BSF, CISF, CRPF, ITBP, NSG और SSB की कैटेगरी होती है। भारतीय सेना के देशभर में 53 कैंटोनमेंट और 9 आर्मी बेस हैं।

3. इंडियन आर्मी फोर्स में भारतीय सेना, भारतीय वायु सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय तट रक्षक शामिल हैं। ये सभी अपनी जान पर खेलकर दुश्मनों से देश की रक्षा करते हैं।

4. भारतीय आर्मी भारत में मीन सागर स्तर (MSL) से 5000 मीटर ऊपर, सियाचिन ग्लेशियर, दुनिया में उच्चतम युद्धक्षेत्र को नियंत्रित करने का काम करता है।

5. भारतीय सैनिकों को ऊंचाई और पर्वत युद्ध में सबसे अच्छा माना जाता है। भारतीय सेना का ऊंचाई युद्ध (HAWS) दुनिया के सबसे कुलीन सैन्य प्रशिक्षण केंद्रों में एक है।

6. भारतीय सेना दुनिया की सबसे बड़ी सेना है और यही वजह है कि भारतीय सेना का लोहा पूरी दुनिया मानती है।

7. भारतीय मिलिट्री इंजीनियरिंग सर्विसेज भारत में सबसे बड़ी निर्माता कंपनी है। भारतीय सेना में घुड़सवारों की भी टुकड़ी है और दुनिया में सिर्फ देशों के पास घुड़सवार सेना उपलब्ध है जिनमें से भारत एक है।

8. असम रायफल्स भारतीय सेना की सबसे पुरानी पैरामिल्ट्री फोर्स है और इसकी स्थापना साल 1835 में ब्रिटिश सरकार के समय में की गई थी।

9. यूनाइटेड नेशंस के शांति अभियान के अंतर्गत भारत दुनिया के किसी भी देश से सबसे बड़ी संख्या में जवानों को भेजता है।

10. बेली ब्रिज दुनिया की सबसे ऊंची ब्रिज है जो लद्दाख में द्रास और सुरू नदी के बीच स्थित है। इसका निर्माण भारतीय सेना द्वारा साल 1982 में कराया गया था।

11. भारत के राष्ट्रपति की सुरक्षा में लगी सेना भारतीय सेना की सबसे पुरानी रेजीमेंट है जो वर्तमान में राष्ट्रपति भवन में ही रहती है।

12. जंगलों में लड़ने के मामले में भारतीय सेना को दुनिया में सबसे बेहतरीन माना जाता है। भारत की इस गुणवत्ता को जानने के लिए अमेरिका, ब्रिटेन और रूस जैसे देश भी इस टुकड़ी को देखने के लिए आते हैं।


Indian Army Day


13. केरल में एझीमाला नौसेना अकादमी है जो कि एशिया में सबसे बड़ी एकेडमी मानी जाती है। भारतीय वायुसेना के पास ताजिकिस्तान में एक स्टेशन का आधार भी है।

14. भारत और पाकिस्तान के बीच हुई 'लोंगेवाला की लड़ाई' में सिर्फ दो भारतीय सेना के जवान ही शहीद हुए थे। इस लड़ाई पर आधारित बॉलीवुड फिल्म बॉर्डर है जो सुपरहिट हुई थी।

15. NCC का सर्टिफिकेट होने पर आपको उच्च शिक्षा में अलग कोटा मिल जाता है। NCC का 'C' सर्टिफिकेट होने से आपको आर्मी में GD की और NDA की लिखित परीक्षा नहीं देने की छूट मिल जाती है।


यह भी पढ़ें-

कौन थे ओशो? जानिए उनके रहस्यमयी जीवन से जुड़ी हर छोटी बड़ी-बात

Mahatma Gandhi:'बापू' की पुण्यतिथि के दिन क्यों मनाया जाता है 'बलिदान दिवस'?

क्या है इस 71वें गणतंत्र दिवस पर सबसे खास? जानिए इस दिन से जुड़ा इतिहास

क्या है जलियांवाला बाग हत्याकांड का काला इतिहास?

2002 गुजरात दंगों में फैले थे ये भ्रम, जो अब टूट चुके हैं

अगला लेख: कौन था करिश्माई विद्रोही बिरसा मुंडा? | Birsa Munda Biography Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जनवरी 2020
Birsa Munda एक ऐसा नाम जो भारत के आदिवासी स्वसंत्रता सेनानी के रूप में जाना जाता है। वे एक लोकनायक थे जिनकी ख्याती अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम में काफी लोकप्रिय हुए थे। उनके द्वारा चलाए जाने वाले सहस्त्राब्दवादी आंदोलन ने बिहार और झारखंड में लोगों पर खूब प्र
17 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
TAX को लेकर हर साल देश में कोई ना कोई बदलाव आता ही रहता है। कभी कोई सरकार अपने फायदे के लिए टैक्स बदलती है तो कभी कोई सरकार लेकिन इन सबमें आम आदमी पिस कर रह जाता है। आप कोई भी चीज खरीदते हैं जैसे Books, Biscuits, TV, Fan या पानी की बोतल और कुछ भी सर्विसेसज जैसे होटल र
23 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
"Gulzar poetry in hindi "गुलज़ार नाम से जाना
23 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
Birsa Munda एक ऐसा नाम जो भारत के आदिवासी स्वसंत्रता सेनानी के रूप में जाना जाता है। वे एक लोकनायक थे जिनकी ख्याती अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम में काफी लोकप्रिय हुए थे। उनके द्वारा चलाए जाने वाले सहस्त्राब्दवादी आंदोलन ने बिहार और झारखंड में लोगों पर खूब प्र
17 जनवरी 2020
13 जनवरी 2020
भारत एक लोकतांत्रिक देश है और यहां की लगभग 130 करोड़ की जनता को भारत का कानून मानना होता है। अगर किसी को किसी कानून या किसी बात से परेशानी हैं तो वे इसका विरोध कर सकते हैं। देश ने 15 अगस्त, 1947 को अंग्रेजों से आजादी हासिल की थी और 26 जनवरी, 1950 को भारत का कानून लागू
13 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
Birsa Munda एक ऐसा नाम जो भारत के आदिवासी स्वसंत्रता सेनानी के रूप में जाना जाता है। वे एक लोकनायक थे जिनकी ख्याती अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम में काफी लोकप्रिय हुए थे। उनके द्वारा चलाए जाने वाले सहस्त्राब्दवादी आंदोलन ने बिहार और झारखंड में लोगों पर खूब प्र
17 जनवरी 2020
22 जनवरी 2020
भारत में बहुत से ऐसे महापुरुष हुए जिनके बताए मार्ग पर चलकर हम सभी एक बेहतर जिंदगी को मुकाम दे सकते हैं। उनमें से एक स्वामी विवेकानंद जी थे जिन्होंने लोगों को हमेशा अच्छाई के रास्ते पर चलना सिखाया। उन्होंने लोगों को जिंदगी जीने का सही तरीका बताया और देख के लिए भी हमेशा
22 जनवरी 2020
05 जनवरी 2020
डॉ दिनेश शर्मा का वर्तमान विघटनकारी राजनीति पर एक यथार्थवादी लेख... सच्चाई यही है कि सत्ता के लालच मेंछुटभैय्ये नेताओं ने भारतीयता को खंडित खंडित कर ही दिया है... एक बार अवश्यपढ़ें... पढ़ने के लिए क्लिक करें:https://shabd.in/post/111585/-2609589
05 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
पंजाब के सबसे लोकप्रिय लेखकों में से एक और विभाजन के दर्द को एक नए मुकाम पर ले जाने वाली युवती जिन्हें हम "अमृता प्रीतम " के नाम से जानते हैं | इन्हें पंजाब की पहली कवियत्र
23 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
TAX को लेकर हर साल देश में कोई ना कोई बदलाव आता ही रहता है। कभी कोई सरकार अपने फायदे के लिए टैक्स बदलती है तो कभी कोई सरकार लेकिन इन सबमें आम आदमी पिस कर रह जाता है। आप कोई भी चीज खरीदते हैं जैसे Books, Biscuits, TV, Fan या पानी की बोतल और कुछ भी सर्विसेसज जैसे होटल र
23 जनवरी 2020
06 जनवरी 2020
मानव सेवा ही वास्तविक माधव सेवाआज किन्हीं मित्र ने प्रश्न किया कि मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा क्यों कीजाती है | तो सबसे पहले तो इस शब्द में ही इसका उत्तर निहित है – प्राणों कीप्रतिष्ठा – प्राण फूँकना | कोई भी मूर्ति यदि किसी मन्दिर में रखी जाती है तो उससमय उसकी विधिवत पूजा की जाती है - जो प्राण प्र
06 जनवरी 2020
17 जनवरी 2020
हर इंसान की जरूरत पैसा होता है, इसके बिना कोई कहीं भी एक कदम भी नहीं जा सकता है। आज का समय ऐसा हो गया है कि कितना पैसा है उसी आधार पर लोगों का व्यक्तित्व जांचा जाता है। ऐसे में हर इंसान सोचता है कि काश मेरे पास पैसों का पेड़ होता क्योंकि यहां मेहनत ज्यादा और पैसों के नाम पर मासिक वेतन बहुत कम होता ह
17 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x