एटीएम

15 जनवरी 2020   |  सतीश मित्तल   (349 बार पढ़ा जा चुका है)

ATM को लेकर आये दिन कोई न कोई खबर उछलती है Ɩ जैसे-ATMकार्ड क्लोनिंग, कार्ड बदलना, पासवर्ड चुराना , नकदी निकले बिना अकाउंटडेबिट होना, कम नकदी निकलना, कटे फटे या खराब नोट निकलना , एक आध जाली नोट निकलना , आदि-आदि-आदि ! जितने ATM ( मुहं) उतनी बात! सभी का अपना अलग-अलग अनुभव।अपनी ढपली अपना राग ! बस कोई यह कड़वा अनुभव मीडिया में शेयर करता है, जिससे आप और हम सचेत हो जाते है, कोई इधर-उधर दौड़ निराश होकर , परिणाम ढाक के तीन पात आने पर , खून का घूँट पी कर रह जाता है।

ऐसा लगता है मानों ATM (Automated Teller Machine) या आसान शब्दों में कहें तो यह ऑल टाइम मनी मशीन

न हो कोईऑल टाइम मैजिक मशीन हो गयी लगती है न जाने क्या नया चमत्कार दिख जाए ?

इस प्रकार की घटनाओं से बैंक ग्राहकों को मानसिक तनाव, आर्थिक हानि होने के साथ-साथ ठगी भी होती है जो बैंकिंग सिस्टम पर विश्वास कम करता है।

परन्तु कभी कभी ATM में गलती से ग्राहकों की छप्पर फाड़ लाटरी भी लग जाती है। जैसे- NBT, 11 Jan. 20 , छपी खबर को ही लीजिये जिसमें कर्नाटक में कनारा बैंक ATM से ₹ 100 की जगह ₹ 500 के नोट निकले।

है न खबर मजेदार ! इसे मशीन की गलती कहें या मानवीय भूल, यह तो जांच का विषय है, पर चमत्कार तो दिखा ही। अतः इस निष्कर्ष पर पहुंचा जा सकता है कि इन चमत्कारिक घटनाओं को देखते हुए , मेरे निजी विचार से ATM को यदिऑल टाइम मैजिक मशीन कहा जाए तो तो कुछ भी गलत न होगा।

अन्यों की तरह कुछ इसी तरह का साक्षात चमत्कार मुझे भी दिखा।

4 Oct. 19 ( 10.15 AM लगभग ) SBI ATM संख्या -00691142 NSP ,दिल्ली से मुझे ₹ 10,000/- की बजाय ₹ 9,500/-,व् साथ में नोटों कीगिनती में एक बैंक की कागज की नोट पर्ची जिस पर IDBI बैंक करेंसी चेस्ट पूसा रोड , नई दिल्ली छपा है , मिली। जो एक नायाब यादगार निशानी के रूप में आज भी मौजूद है। यह इसी लिए हुआ , शायदATM मशीन कागज के टुकड़े या करेंसी नोटों में भेद नहीं कर पाती ?अब इसे जानबूझ कर धोखधड़ी के इरादे से की गयी मानवीय भूल कहें या कुछ और या चमत्कार ! यह जांच का विषय है। कहीं यह ATM में पैसे भरने वाले किसी कर्मचारी की कोई हेरा फेरी तो नहीं ?

यह घटना ATM -CCTV में भी गार्ड के सामने दर्ज कराई गयी , बैंक को कंप्लेंट भी की गयी , उनकी तरफ से पूरे ₹ 10,000/- डेबिट होने की पुष्टि ही की गयी ,परन्तु मशीनी , मानवीय या जानबूझकर गलत इरादे से की गयी हेरा-फेरी की तरफ बैंक कर्मचारियों या सम्बंधित अधिकारीयों का आज तक ध्यान ही नहीं गया। मेरी तरह और कितने लोगों को इस तरह की ठगी व् धोखा का शिकार बनाया गया होगा यह तो समय ही बताएगा ?

कर्नाटक की ATM घटना की खबर पढ़ ,मैंने भी आज अनमने मन से यह सोचकर सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर करने का मन बनाया Ɩ शायद !ATMके चमत्कारों के लिस्ट में एक और चमत्कार दिख जाए !

अगला लेख: ATM से नोट की जगह कागज “नोट-पर्ची”



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x