अपनी पहचान बनाकर रखें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

18 जनवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (398 बार पढ़ा जा चुका है)

अपनी पहचान बनाकर रखें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से समस्त विश्व में हमारी पहचान हमारी सभ्यता और संस्कृति के माध्यम से होती रही है | समस्त विश्व नें हमारी पहचान का लोहा भी माना है | विदेशों में हमें "भरतवंशी" कहा जाता है | हमारे पूर्वजों ने अपनी पहचान की कीर्ति पताका समस्त विश्व में फहराई है | मनुष्य की पहचान उसके देश समाज एवं परिवार से होती है पहचान को उच्च स्तरीय बनाने के लिए हमारे ऋषियों ने गोत्र की व्यवस्था की थी | जो जिस गोत्र में जन्म लेता था उसकी पहचान वही गोत्र बन जाता था और वह उसी गोत्र के नाम से जाना जाता था | मनुष्य को अपनी पहचान कभी छुपानी नहीं चाहिए | मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम चौदह वर्षों के वनवास के अंतर्गत ब्राह्मणवेश रखकर के आए हुए हनुमान जी से यदि चाहते तो अपना परिचय साधु - सन्यासी या बनवासी के रूप में दे सकते थे परंतु उन्होंने अपनी पहचान नहीं छुपाई और स्पष्ट बता दिया कि :- "कौशलेश दशरथ के जाये !"हम पितु वचन मानि वन आये !! कहने कातात्पर्य है कि उन्होंने अपनी पहचान नहीं छुपाई | श्याम सुंदर कन्हैया जीवन भर राज्य भोगने के बाद भी स्वयं को ग्वाला ही कहलाना पसंद करते थे | इतिहास साक्षी है कि जिसने भी अपनी पहचान छुपाने का प्रयास किया है उसका पतन हो गया है रावण एवं कालनेमि इसका ज्वलंत उदाहरण है | प्राचीन भारत में लोग बड़े गर्व से अपनी पहचान समाज एवं राष्ट्र के समक्ष रखते थे | पहचान इसलिए नहीं छुपाना चाहिए क्योंकि यदि कोई नकली वेश धारण करता है तो उसकी मानसिकता भी उसी प्रकार बनती चली जाती है , इसीलिए हमारे देश में हमारे पूर्वजों ने अपने नाम के आगे अपनी पहचान भी लिखना प्रारंभ किया था | यद्यपि पहले जाति व्यवस्था नहीं थी परंतु तब भी मनुष्य की पहचान उसके गोत्र से होती थी और मनुष्य अपने गोत्र के अनुसार सारे क्रियाकलाप संपादित करता था | परंतु धीरे-धीरे समय परिवर्तित हुआ और आज हमारी पहचान हम स्वयं मिटाने पर लगे हुए हैं | आज हमें दूसरों के साथ अपना नाम जोड़ने में बड़ा आनंद मिलता है परंतु ऐसा करने वालों को यही भी विचार करना चाहिए कि इससे उनकी स्वयं की पहचान विलुप्त होती जा रही है |*


*आज आधुनिक युग में प्रायः देखा जा रहा है कि लोग अपनी पहचान छुपाने में सतत प्रयासरत है | आज इंटरनेट का युग है अनेक लोग सोशल मीडिया के अनेक माध्यमों पर अपनी पहचान छुपाकर क्रियाकलाप कर रहे हैं | विचार कीजिए कि आज के मनुष्य को क्या हो गया है ? प्राय: सुनने को मिलता है कि फेसबुक एवं व्हाट्सएप पर पुरुष लोग महिला बन करके प्रस्तुतीकरण दे रहे हैं | इसके अतिरिक्त मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में देख रहा हूं कि जाति व्यवस्था अपने चरम पर है | जाति व्यवस्था के इस युग में लोग अपनी जाति से अलग हटकर के अपनी पहचान बनाने में लगे हैं | वर्ण व्यवस्था एवं जाति व्यवस्था से परे हटकर लोग प्रसिद्धि पाना चाह रहे हैं | आज यह देखा जा रहा है कि कोई यादव है तो क्षत्रिय लिख रहा है , कोई लोधी है तो राजपूत लिख रहा है | कोई भरद्वाज होकर चतुर्वेदी लिख रहा है तो उपाध्याय स्वयं को तिवारी लिख रहे हैं | कहने का तात्पर्य यह है कि हम अपनी पहचान छुपाकर क्या सिद्ध करना चाहते हैं ? ऐसे क्रियाकलाप करने वालों को ध्यान देना चाहिए कि मनुष्य की पहचान उसके कर्मों से होती है | हीरा यदि कीचड़ / मिट्टी में भी पड़ा होता है तो चमकता रहता है | यदि अपने अंदर गुण हैं तो पहचान छुपाने या बदलने की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए , परंतु मनुष्य की अतिमहत्वाकांक्षा एवं झूठी प्रसिद्धि की तीव्र अभिलाषा उनसे उनकी वास्तविक पहचान छीन रही है | विचार करना चाहिए कि ईश्वर ने हमें जिस कुल गोत्र जन्म दिया है उसी कुल गोत्र में रहते हुए ऐसा कार्य किया जाए कि हमारा एवं हमारे पूर्वजों का नाम विश्व मंच पर एक नई पहचान के साथ जान आ जाये |*


*सिंह की खाल ओढ़कर की गीदड़ कभी सिंह नहीं हो सकता परंतु आज अनेको गीदड़ सिंह बनने के लिए लालायित हो करके अपनी पहचान स्वयं मिटा रहे हैं | उनके इन कृत्यों से उनकी आने वाली पीढ़ियाँ अपनी वास्तविक पहचान से वंचित रह जायेंगीं |*

अगला लेख: अहंकार से बचने का उपाय :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 जनवरी 2020
*हमारा देश भारत कला , संस्कृति के साथ-साथ अनेकों रंग बिरंगे त्योहारों एवं मान्यताओं की परंपरा को स्वयं मैं समेटे हुए है | यहां प्रतिदिन कोई न कोई व्रत मानव मात्र के कल्याण के लिए मनाया जाता रहता है | इन्हीं व्रतों की श्रृंखला में माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को "संकष्टी गणेश चतुर्थी" का व्रत ब
13 जनवरी 2020
05 जनवरी 2020
*हमारे देश भारत में सदैव से विद्वानों का मान सम्मान होता रहा है | अपनी विद्वता के बल पर विद्वानों ने भारत देश का गौरव समस्त विश्व में बढ़ाया है | विद्वता का अर्थ मात्र पांडित्य का क्षेत्र न हो करके जीवन के अनेक विषयों पर पारंगत हो करके यह विद्वता प्राप्त की जाती है | किसी भी विषय का विद्वान हो वह अप
05 जनवरी 2020
25 जनवरी 2020
*किसी भी परिवार , समाज एवं राष्ट्र को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए नियम एवं संविधान की आवश्यकता होती है , बिना नियम एवं बिना संविधान के समाज एवं परिवार तथा कोई भी राष्ट्र निरंकुश हो जाता है | इन्हीं तथ्यों को ध्यान में रखते हुए अंग्रेजों की दासता से १५ अगस्त सन १९४७ को जब हमारा देश भारत स्वतंत्
25 जनवरी 2020
11 जनवरी 2020
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Tr
11 जनवरी 2020
04 जनवरी 2020
*इस धरा धाम पर सर्वश्रेष्ठ मानवयोनि को कहा गया है |मानव जीवन में आकर के मनुष्य अपने बुद्धिबल का प्रयोग करके अनेकों प्रकार के रहस्य से पर्दा हटाता है | मानव जीवन को उच्चता की ओर ले जाने के कृत्य इसी शरीर में रहकर के किए जाते हैं | मनुष्य के जीवन का एकमात्र लक्ष्य होता है ईश्वर प्राप्ति | ईश्वर को प्र
04 जनवरी 2020
05 जनवरी 2020
*भारत देश आदिकाल से अपनी संस्कृति , सभ्यता एवं संस्कारों के लिए जाना जाता रहा है | समय-समय पर यहां अनेकों महापुरुषों ने जन्म लेकर समाज को नई दिशा दिखायी है | समय - समय पर इस पुण्यभूमि में ईश्वर ने अनेकानेक रूपों में अवतार भी लिया है | इन्हीं महापुरुषों (भगवान) में एक थे रघुकुल के गौरव , चक्रवर्ती सम
05 जनवरी 2020
12 जनवरी 2020
शि
⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐🌸⭐ ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟🌺🌟*शिक्षा के वैसे तो कई प्रकार है परंतु मुख्य रूप से शिक्षा तीन प्रकार की होती है :----**१- औपचारिक शिक्षा**२- अनौपचारिक शिक्षा**३- निरोपचारिक शिक्षा**१- औपचारिक शिक्षा :--- नियमित विद्यालय जाकर प्राप्त करने वाली औपचारिक शिक्षा
12 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x