आज़ादी के नारे और मुद्दों की बिरयानी।

24 जनवरी 2020   |  रवि रंजन गोस्वामी   (385 बार पढ़ा जा चुका है)


एक स्वतत्र संप्रभुता सपन्न राष्ट्र में जब लोग नारे लगाते हैं, हमें चाहिये आज़ादी। तो बड़ी विडम्बना सी लगती है। साथ ही कुछ आशंकाए जन्म लेती है।

आजकल नागरिकता संशोधन बिल का कुछ लोग विरोध कर रहे हैं। विरोध किसी भी मुद्दे पर हो कुछ लोगों का प्रिय नारा आज़ादी का नारा है। यह नारा एक विद्रोह के नारे जैसा लगता है। और ये लोग हरकतें भी ऐसी करते हैं या अपने बीच होने देते हैं की इनके आंदोलन के मकसद पर ही शक हो जाये। देश के किसी अंदरूनी मुद्दे पर सरकार का विरोध करते हुए कश्मीर की आजादी के बैनर और पाकिस्तान के झंडे दिखाये जाना।

दुनियाँ में हमने देखा है गुलाम लोग अपने आततायी आकाओं या सरकारों से आज़ादी चाहते हैं। भारत ने भी बड़े संघर्ष और बलिदानों के बाद अंग्रेजों से आज़ादी प्राप्त की ।

इस समय देश में लोकतन्त्र्रातमक तरीके से चुनी गयी स्वदेशी सरकार है।इससे आज़ादी पाने के लिए इसको लोकतान्त्रिक तरीके से हराना होगा।

कुछ आंदोलनकरियों का व्यवहार देश के खिलाफ नज़र आता है,जब वे नफरत,अलगाव वाद जैसी बोली बोलते हैं और हिंसा करते हैं।

उनके आजादी के नारे का मतलब वे काफी अच्छा बताते हैं। जैसे भूख से आज़ादी,गरीबी से आज़ादी, बेरोजगारी से आज़ादी।क्या मात्र नारे इनसे मुक्ति दिला पायेंगे।मुद्दों की बिरयानी बनाने का नया चलन चल पड़ा हैं । लगता है कभी याद रखना मुश्किल होता होगा कि विरोध का असली मुद्दा क्या है। किन्तु इस बात कि उम्मीद की जा सकती है इनके उकसाने, पढाने वाले जो नेता या दल हैं उन्हें अवश्य पता होगा कि वे क्या और किस लिए कर रहे हैं।

अगला लेख: वो नक़ाबपोश कौन थे?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x