खूबसूरत वियना की बाहों में : दिनेश डॉक्टर

26 जनवरी 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

खूबसूरत वियना की बाहों में : दिनेश डॉक्टर

विएना पहुंचा तो लगा जैसे विएना शहर नही एक खूबसूरत लड़की है जिसने मुझे आगे बढ़कर अपनी बाहों में भर लिया है। सबसे पहले उतर कर पूछताछ खिड़की पर गया और लोकल ट्रामों, ट्रेनों और अंडर ग्राउंड ट्यूब रेलवे के बारे में जानकारी ली । पता लगा कि विएना शहर के भीतर सब प्रकार के पब्लिक ट्रांसपोर्ट में निर्विघ्न जितना भी चाहो घूमने के लिए  सत्रह यूरो का एक सप्ताह का टिकट मिलता है । तुरन्त खरीद लिया। स्टेशन से अलेक्जेण्डर, जिसके एयर बी एन्ड बी घर में मैं रुकने वाला था, उसे फोन किया और फिर उसी के दिशा निर्देश के मुताबिक, पहले लोकल ट्रेन से और बाद में एक किलोमीटर पैदल चल कर उसके घर पहुंच गया । फ्लेट मेरी अपेक्षा के मुताबिक ही था, बड़ा खुला साफ सुथरा और दिन के प्रकाश से भरपूर । डबल बेड वाला अच्छा बड़ा सोने का कमरा, बड़े साइज़ के सोफे बड़े टेलीविजन और डाइनिंग टेबल से सज्जित बैठक,  फ्रिज माइक्रोवेव गैस चूल्हे ग्रिल ओवन, बर्तन धोने की मशीन, कपड़े धोने सुखाने की मशीन बर्तनों छुरी चमचों प्लेटों  खाना बनाने के बर्तनों से भरपूर रसोई की बढ़िया व्यवस्था थी । लोकल ट्राम स्टेशन दस कदम पर ही था । यहां इस घर में मै एक हफ्ता मज़े से रह सकता था । अलेक्जेंडर फ्लेट ही में था और सफाई कर रहा था । अच्छा सज्जन व्यक्ति था और तीन दिन पहले ही एक नन्ही मुन्नी गुड़िया का पिता बना था । एयर बी एंड बी ने होटलिंग इंडस्ट्री में खासा क्रांतिकारी परिवर्तन ला दिया है । यदि आपके पास एक्स्ट्रा स्पेस है तो उसे ठीक से सज्जित कर आप एयर बी एन्ड बी के ज़रिए कमाई का अच्छा साधन बना सकते हैं । पूरे विश्व में बहुत लोग इसका फायदा उठा रहें हैं । यात्रियों को सस्ती कीमत पर रहने को अच्छी जगह मिल जाती है और स्थानीय लोगों को कमाई का अच्छा रास्ता मिल जाता है । 

समान रख कर पास ही के रेस्तरां में लंच करने चला गया ।  भीड़ बहुत थी तो वेटर ने मुझे दो लड़कों और एक लड़की के साथ टेबल शेयर करने का प्रस्ताव दिया जिसे मैंने सहर्ष स्वीकार कर लिया । परिचय हुआ और साहब बातचीत शुरू हो गयी । मैंने अपने बारे में बताया तो भारतवासी जान कर उनका बात करने का उत्साह और भी बढ़ गया । ठंडी बियर ऑर्डर की गई और उसकी चुस्कियों पर वार्तालाप आगे चल निकला । एक लड़का इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर था , दूसरा पुलिस में था और लड़की विज्ञापन एजेंसी में कार्यरत थी । उन्हें जानकर बड़ा अच्छा लगा कि मैं यूरोप की यात्रा पर हूँ और पहली बार विएना आया हूँ । वे लोग शहर के दूर के हिस्से से खास तौर पर इसी रेस्तरां में लंच करने आये थे । बताने लगे कि वाज़िब दामों में इतना बढिया खाना परोसने वाले रेस्तरां विएना में बहुत कम हैं । मीनू क्योंकि जर्मन भाषा में था तो मेरी प्रार्थना पर मेरे लिए भी उन्होंने ही ऑर्डर कर दिया । खाना वाकई स्वादिष्ट था । आलुओं के सलाद के साथ कटलेट जैसा कुछ था । 

यदि आप सब कुछ बिना किसी धार्मिक पूर्वाग्रह के खाने का हौसला रखते है और बौद्ध लोगों की तरह परसे जाने वाले हर भोजन को पदार्थ के प्रसाद की तरह बिना लाग लपेट के ग्रहण करने का माद्दा रखते हैं तो आप किसी भी विदेश यात्रा के लिए कभी भी उपयुक्त हैं । यदि आपको भोजन में थाली में बड़े प्रेम से परसी गयी दाल सब्ज़ी रोटी चावल वगैरा की लत है तो आराम से घर बैठिये और टेलीविजन पर ही विदेश भ्रमण का मज़ा लीजिये । 

मेरा तो सीधा सादा फण्डा है । जब भूख लगे तो चुपचाप फल चाय बिस्किट ब्रेड दूध दही फल अंडे चीज़ वगैरा वगैरा जो भी उपलब्ध हो चुपचाप खाकर रास्ता पकड़ो । विदेश यात्राओं में मुझे महीनों गुज़र जाते हैं दाल रोटी चावल सब्ज़ी के दर्शन किये पर मै कुछ भी मिस नही करता । ऐसा नही है कि भारतीय भोजन मिलता नही है पर ज्यादा संभावना इस बात की है कि आपको बेस्वाद बासी भोजन के लिए बहुत ज्यादा कीमत चुकानी पड़े। इससे तो ज्यादा अच्छा होगा कि आप चीनी , थाई , इटालियन, या वियतनामी खाना खा लें । न तो लुटेंगे और न ही बीमार होंगे । 

भोजन पर ही वियना के बारे में तीनो युवाओं से और भी अच्छी जानकारी मिल गयी । बिल देकर उनसे विदा ली । रास्ते में ही एक फ़ूड स्टोर से दूध अंडे चीज़ सब्ज़ियां और अन्य खाना बनाने का सामान खरीदा और फ्लैट पर वापस पहुंच गया । अलेक्जेंडर सफाई करके जा चुका था । फ्लेट की चाबी मैंने पहले ही ले ली थी साथ ही और साथ ही घर की सब व्यवस्थाएं भी समझ ली थीं । 

चाय की पत्ती मेरे पास थी ही । ज्यादा दूध वाली एक कप बढिया चाय बनाई और पीते पीते शाम के कार्यक्रम पर विचार करने लगा । आज को मिलाकर सात दिन मेरे पास विएना घूमने के लिए थे । विएना बड़ा शहर था और खास खास जगहें भी कुल मिलाकर पच्चीस तीस तो थी ही । लेपटॉप तो मेरे पास था ही । वाई फाई से कनेक्ट कर पूरी रिसर्च करने में जुट गया । दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद प्रत्येक दिन के हिसाब से मोटा मोटी रूप रेखा बना ली कि किस दिन वरीयता के क्रम से क्या देखना है ।  

मैँ स्वभाव से खासा आलसी हूँ और साथ ही प्रोकेस्टिनेटर यानी कि महत्वपूर्ण और वरीयता की बातों को कल पर टालने वाला भी  । पर आप मेरे जैसे न बनें । जिस देश में या जिन जिन शहरों को घूमने का कार्यक्रम बने, उनके बारे में इंटरनेट के माध्यम से जितनी भी हो सके सारी महत्वपूर्ण जानकारियां पहले से ही इकट्ठी कर लें । यदि आप किसी टूर कम्पनी के ग्रुप में यात्रा कर रहें है तो निश्चिन्त हो जाएं । पर फिर भी जो स्थान या शहर घूमने जाने का कार्यक्रम बन रहा हो तो उनके बारे में पूर्व जानकारी प्राप्त करना अच्छा ही रहता है ।

शाम के पांच बजे रहे थे । आज मुझे सेंट स्टीफन्स डॉम, जो विएना के केंद्र में स्थित एक अत्यंत प्राचीन और भव्य केथेड्रल था, देखना था । गूगल मैप के एप से, जिसका मैं अपनी यात्राओं में भरपूर इस्तेमाल करता हूँ, लोकल ट्राम की दिशा और समय की जानकारी ली और फ्लेट लॉक करके नीचे उतर आया । इंन्नस्ट्रासे ट्राम स्टेशन एकदम पास ही था । ट्राम स्टेशन पर पहुंचते ही डोर्नबाख़ की तरफ जाने वाली नम्बर 2 की ट्राम सही समय पर आ गयी । वैसे भी हर पांच मिनट बाद ट्राम सर्विस थी । डेन्यूब क्रॉस करते ही आठवें स्टाप श्वेडन प्लाटज़ पर मुझे उतरना था । धीरे धीरे जैसे जैसे एक और नए शहर से प्रथम परिचय हो रहा था, मन नए उत्साह और उमंग से भरना शुरू हो गया ।

अगला लेख: मिराबेल पैलेस का महिला वायलन बैंड - दिनेश डॉक्टर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x