विद्यार्थियों के लिये

31 जनवरी 2020   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (382 बार पढ़ा जा चुका है)

विद्यार्थियों के लिये

ओ' मेरे मेधावी-

सात वर्षिय कलाविद्,
हुनर के सागर-

कला के प्रेमी,
विज्ञान के शोधकर्ता,
प्यार के मसिहा- निपुण सुक्ष्म विश्लेषक,
मर्यादाओं की अनन्त सीमा,
अपनी मन पसंद-

दुनिया के मालिक,
ब्रह्माण्ड के विश्व कोष,
विज्ञानं, खगोल, इतिहास,
और आप द्वारा प्रदत्त ज्ञान,
तुम्हारा मनपसंद रंग,
लाल, नीले और काले रंग में रुची,
वीर प्रेमी, झंझावात के प्रेमी,
प्रेतात्माओं के प्रिय,
तिलश्म ओ जादुगरी के दिवाने,
सम्मोहन और उच्चाटन के स्वामी,
अदृष्य सत्तओं के नियंत्रक,
रिपुओं के पालनहार,
खग-आखेटक, बयार के मालिक,
विद्यार्थियों को चाहने वाले,
अपनी माँ-पिता के प्यारे,
बहन के भाई- माँ के बेटे,
पिता के दुलारे,
अपने भाई-बहन के चहेते,
परिवार के प्रिय- केन्द्र,
सबके प्रिय,
उम्र के लिहाजे- चुस्त-दुरुस्त,
मुझे प्रेरणा देने वाले,
टथस्थ, किसी के लिये,
नहीं बदलने वाले सच्चे विद्यार्थि,
अपने गंतव्य के अडिग राही
आगे बढ़, उन्नती पथ के पथिक,
इस दुनिया समान्य राही
पठन पाठन में रम कर
अमर तुम बन- चल पढ़ बढ़
आजीवन, मरते दम तक
अनपढ़ रहा न कोई,
तूं भी कुछ तो पढ़
नभ के पार चल
🙏🙏निर्मल🙏🙏

अगला लेख: वसंत ऋतु आगमन्



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 फरवरी 2020
जिन्दगी की हर घड़ी है वारन्टी मय।कभी जय होती तो कभी होती छय।।आगे ससरती हीं यह जाती है।सुर-ताल सब बदल जाते हैं।।ठोकरो की पुरजोर ताक़त से,तजुर्बा बढ़ता, निखर जाते हैं।खिलखिलाहट से कहकशे की,राह पे सब बढ़ते चले जाते हैं।।मयपन है कि झुर्रियाँ गि
10 फरवरी 2020
20 जनवरी 2020
राणा- शिवा- लक्ष्मीबाई को भूलजिन्ना नेहरु से मिल बँट रोते हो!तिरंगा फहराया नेता सुभाष नेसफेद टोपी पर जान झिड़कते हो!!बहुत घोटालों की जलेबी छानीसंकल्पों श्रिंखलाओं केमहाजाल में फँस सोते हो!जाग गई फिर सुभाष फौजविप्लव से भी तनिक नहीं डरते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 जनवरी 2020
28 जनवरी 2020
कृष्णमहाभारत का पार्थ-सारथी नहीं,हमें तो ब्रज का कृष्ण चाहिए।राधा भाव से आह्लादित मित्रों का,साथ, चिर-परिचित लय-धुन-ताल चाहिए।।प्रेम की डोर तन कर,टूटी नहीं है कभी।अंत युद्ध का,हमें दीर्ध विश्राम चाहिए।।।प्रेम सरिता में आप्लावन,अतिरेक प्यार चाहिए।दानवों का अट्टाहस नहीं
28 जनवरी 2020
19 जनवरी 2020
अमीरों के भगवान,महलों में पूूूूजे जाते है!भिक्षा-पात्र वाले साईं भक्त,झोपड़-पट्टी में धुनी रमाते हैं!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 जनवरी 2020
10 फरवरी 2020
भैलेंटाइन परचम्पता नहीं था, आज भैलेंटाइन डे चल कर है आतादिन में याद दिलाते गर तो गिफ्ट-विफ्ट ले आतासाथ बैठ मोटेल में मटर-पनीर-पुलाव खाताउपर से मिष्टी आदतन रस-मलाई चार गटक जाताचल- रात हुई बहुत अब और जगा नहीं जाताभैलेंटाइन की बची-खुची कसर की पूरी कर पाताडॉ. कवि कुमार निर्मल
10 फरवरी 2020
20 जनवरी 2020
राणा- शिवा- लक्ष्मीबाई को भूलजिन्ना नेहरु से मिल बँट रोते हो!तिरंगा फहराया नेता सुभाष नेसफेद टोपी पर जान झिड़कते हो!!बहुत घोटालों की जलेबी छानीसंकल्पों श्रिंखलाओं केमहाजाल में फँस सोते हो!जाग गई फिर सुभाष फौजविप्लव से भी तनिक नहीं डरते हो!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
20 जनवरी 2020
02 फरवरी 2020
वसंत ऋतु का यह धराधाम भारत भूखण्ड स्वागत् करता हैशिव भार्या प्रीये गंगा जटा से बह निकली- सारा जग कहता हैझरनों की वक्र धारा बन इठला कर गंगा चलती हैंपठारों पर दुस्तर पथ गह लम्बी यात्रा करती हैगंगा-सागर से मिल कपिल मुनि आश्रम तक जाती हैउत्तरांचल से चल पश्चिम तक भूमि सिं
02 फरवरी 2020
05 फरवरी 2020
दुनिया का जादुगरविश्व लीला एवम् विश्व मेलातुम्हारी हीं अद्भुत रचना है।तुम्हारे दर पर इबादतखुद पर जादुगरीहर आदमी करता है।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
05 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
फु
शायरी
28 जनवरी 2020
19 जनवरी 2020
अमीरों के भगवान,महलों में पूूूूजे जाते है!भिक्षा-पात्र वाले साईं भक्त,झोपड़-पट्टी में धुनी रमाते हैं!!डॉ. कवि कुमार निर्मल
19 जनवरी 2020
18 जनवरी 2020
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚बाल रूप में तुम प्रभु,एक जैसे हीं लगते हो।गुरुकुल में तुम अलग-अलग से हीं दिखते हो।।कभी "बरसाने" में रास रचातेकभी लंका दहन करवाते हो।कभी सुदामा के कच्चे चावल खाते,कभी भीलनी के जूठे बैर खाते हो।।शांत समाधि में कभी दिखते,कभी ''त्रिनेत्रधारी'' बनते हो।कभी दानव का वध तुम करते,कभी भस्मास
18 जनवरी 2020
03 फरवरी 2020
🍀🎄🍃🌿🌴🌴🌿🍃🎄वंसंत ऋतु के अद्भुत सौन्दर्य ने,मेरे हृदय में पुरजोर अगन है लगाई!🔥🔥🔥🔥🔥🔥🔥 🔥 🔥तुझे पाने की चाहत ने मेरे हिया में,अश्कों की नदियाँ कई बहवाई!!💦💦💦💦💦💦💦 💦 💦 प्रगाड़ नींद्रा से झकझोर मुझे तुमने जगाया!तन्द्रा को रक्तिम-तिव्र किरणों से दूर भगाया!!☀☀☀☀☀☀☀☀☀ ☀ ☀अहिर्निष तुम्ह
03 फरवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
12 फरवरी 2020
18 जनवरी 2020
26 जनवरी 2020
02 फरवरी 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x