मुहांसे या पिंपल्स के कारण

01 फरवरी 2020   |  पूजा शर्मा   (364 बार पढ़ा जा चुका है)

कील-मुहांसे के कारण :-


कील-मुहांसे पोर्स क्लॉग (जिसे हेयर फॉलिकल कहते हैं) के कारण होता है ।हर फॉलिकल के अंदर एक डीप हेयर शाफ़्ट (Hair shaft)पाया जाता है, जिसे "सिबेशियस ग्लैंड्स" ”(वसामय ग्रंथि) भी कहा जाता है।यह ग्लैंड्स आपके बालों और स्किन को नम करने के लिए सीबम नामक एक ऑयली सब्सटांस बनाता है।जब बहुत जादा सीबम बन जाता है, तो यह एक चिपचिपा प्लग बनाने के लिए डेड स्किन सेल्स के साथ मिल जाता है,जो आपके बालों के फॉलिकल को बंद कर देता है।किशोरावस्था में कील-मुहांसे होना बहुत सामान्य बात है क्यूंकि किशोरावस्था में हार्मोन में बदलाव होते रहते हैं।हेयर फॉलिकल में फंसे हुए बैक्टीरिया बहुत ही तीव्रगति से बढ़ते हैं और ऐसे केमिकल बनाते हैं,जिससे सूजन, लालिमा और जलन की समस्या उत्पन्न होती है।अंत मेंघाव फट सकता है,और सब कुछ फैल सकता है जेसे:- (तेल, डेड स्किन सेल्स, और बैक्टीरिया) जिस वजह से उस स्थान के आसपास की त्वचा में मुहांसे, सिस्ट और दाग-धब्बे हो जाते हैं।

कई कारण महिलाओं में मुहांसे को जन्म दे सकती हैं:-

  1. पुबर्टी के समय लड़कियों के हार्मोन में बदलाव होने से (Hormonal changes during puberty)
    पुबर्टी के समय लड़कियों में एण्ड्रोजन नामक पुरुष सेक्स हार्मोन बहुत ज़्यादा बनने लगता है। इस कारण से ग्लैंड्स का आकर भी बड़ा होने लगता है और बहुत अधिक सीबम बनाने लगता है।

  2. मेंस्ट्रुअल साइकिल में हार्मोन में बदलाव होना (Hormonal changes during menstrual cycle)
    मेंस्ट्रुअल साइकिल की वजह से मुहांसे होना एक सामान्य बात है।मेंस्ट्रुअल साइकिल शुरू होने से कुछ दिन पूर्व मुहांसे आने शुरू होने लगते हैं और मेंस्ट्रुअल साइकिल ख़त्म होने के बाद ख़त्म हो जाता है।
    प्रेगनेंसी और मेनोपॉज़ जैसे स्थिति हार्मोनस में बदलाव महिलाओं में मुहांसे की स्थिति में सुधार लाने मे मददगार होते हैं।
    मगर कुछ महिलाओं में इस दौरान मुहांसे की स्थिति और भी ज़्यादा खराब हो जाती है,तो गर्भनिरोधक की दवा बंद करने से भी बहुत असर पढने लगता है।

  3. दवाएं (Medications)
    कुछ दवाएं, जैसे कि एपिलेप्सी (मिर्गी) और डिप्रेशन(अवसाद) के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है, इससे भी मुहांसे हो जाते हैं।

  4. मेकअप (Excessive use of make-up) चेहरे पर त्यधिक मेकअपक करने से भी कील-मुहांसे की समस्या उत्पन्न होती है।

  5. चेहरे की त्वचा पर दबाव पड़ने या खरोच आने से (injury to skin)
    बाइक के हेलमेट या बैकपैक्स के कारण भी चेहरे की त्वचा पर प्रेशर पड़ने से भी मुहांसे की स्थिति और खराब हो जाती है।

  6. फैमिली हिस्ट्री (Family history)
    यदि आपके परिवार में किसी को मुहांसे की समस्या हैं, तो आपको होने की भी संभावना बढ़ जाती है।

कील मुहांसे हटाने के 5 घरेलू उपाय:-


कील-मुहांसे को ठीक करने के लिए, करें एलोवेरा का प्रयोग करे

कील-मुहांसे को ठीक करने के लिए, गुलाब जल का प्रयोग करे

कील-मुहांसे को ठीक करने के लिए, शहद और दालचीनी का प्रयोग करे

कील-मुहांसे ठीक करने के लिए,एप्पल साइडर विनेगर का प्रयोग करे

कील-मुहांसे ठीक करने के लिए लहसुन का प्रयोग करे


अगला लेख: प्रेगा न्यूज़ और प्रेगनेंसी टेस्ट किट क्या है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 फरवरी 2020
पुरुष बाँझपन दुर करने के घरेलु उपाय वर्तमान समय में बांझपन न सिर्फ महिलाओं में ही एक समस्या नहीं है बल्कि यह पुरुषों के लिए भी एक चिंता का बन है।जब पुरुषों के वीर्य में तरलता और उसमें शामिल स्पर्म में ज़रूरी संख्या या काउंट नहीं की जाती है तब यह समस्या पुरुष बांझपन के नाम से जानी जाती है।साथ ही साथ
11 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
सिक्वेनशियल एम्ब्रयो ट्रान्सफर एक एक ऐसी प्रक्रिया है जो महिलाओं के गर्भाशय में एम्ब्रयो ट्रांसप्लांट करने के लिए प्रयोग किया जाता है।इस प्रक्रिया में मुख्यता इन-विट्रो फर्टिलाइजेशनट्रीटमेंट में प्रयोग किया जाता है।इस परीक्षण में महिला के गर्भाशय में स्वस्थ और अच्छी तरह से तैयार किया हुआ एम्ब्रयो क
12 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
प्रेग्नेंसी के समय महिला के डिप्रेशन होने के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं : -हार्मोंनल बदलाव प्रेग्नेंसी के समय महिला में मानसिक और शारीरिक दोनों तरह के कई बदलाव होते हैं।महिला के डिप्रेशन में होने पर हार्मोंस सीधे महिला के दिमाग को प्रभावित करते हैं, जो महिला के इमोशन और मूड को नियंत्रित करता है।ये हा
12 फरवरी 2020
07 फरवरी 2020
मासिक-धर्म में पेट दर्द के कारण क्या हैं :- मासिक-धर्म में पेट दर्द,गर्भाशय के संकुचन के कारण होता है।यदि आपके महावारी के समय बहुत ज़ोर से पेट सिकुड़ता है, तो यह आपके पेट के आस-पास के रक्त वाहिकाओं को दबा देता है जिस वजह से गर्भाशय में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है।ऑक्सीजन की कमी के कारण यह पेट दर्द और
07 फरवरी 2020
30 जनवरी 2020
प्रेगनेंसी टेस्ट का महत्व क्या होता है?महिलाओं के द्वारा गर्भावस्था टेस्ट करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। एक बार जब गर्भावस्था परीक्षण में महिलाओं के गर्भधारण का पता चल जाता है,तो तब महिलाओं को महिला उसके अनुसार अपनी रोज की जीवनशैली में परिवर्तन कर सकती है।इसके साथ ही साथ गर्भधारण का पता लगाने
30 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x