जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 फरवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (388 बार पढ़ा जा चुका है)

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के प्रत्येक धर्म ग्रंथ में स्वर्ग एवं नर्क की व्याख्या पढ़ने को मिलती है और साथ ही यह भी बताया जाता है कि मनुष्य के यदि अच्छे कर्म होते हैं तो वह स्वर्ग का अधिकारी होता है और बुरे कर्म करने वाले नर्क में जाकर अनेक प्रकार की यातनाएं सहन करते हैं | स्वर्ग एवं नर्क की व्याख्या पढ़ने के बाद मनुष्य के मन में अनेकों जिज्ञासा उत्पन्न हो जाती है और प्रत्येक मनुष्य के कर्म भले ही अच्छे ना करें परंतु वह स्वर्ग ही जाना चाहता है | इस पृथ्वी लोक में रह करके स्वर्ग के सुख की कामना करने वाले मनुष्य सदैव सत्कर्म करने का प्रयास किया करते हैं परंतु इस संसार में स्वर्ग से भी बढ़कर कुछ और बताया गया है जिसे हमारे धर्म ग्रंथों में कहा है कि :-- "जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी" अर्थात अपनी माता एवं मातृभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है | जो सुख अपनी माता के आंचल एवं अपनी मातृभूमि में प्राप्त हो सकता है वह सुख शायद स्वर्ग में भी ना प्राप्त हो सके | माता के चरणों के नीचे स्वर्ग बताया गया है | हमारे पूर्वजों ने अपनी माता का सम्मान करना तो सिखाया ही है साथ ही अपने मातृभूमि की रक्षा के लिए प्राणों का बलिदान भी कर देने से पीछे नहीं हटे है | वह माता जिसने अपने गर्भ में नौ महीने अपने उदर में रख कर असहनीय कष्ट सह करके हमको जन्म दिया है उस माता के ऋण से कभी भी उऋण नहीं हुआ जा सकता है | उसी प्रकार मातृभूमि की जिस मिट्टी में खेल कर हम युवा हुए हैं उस मातृभूमि का ऋण भी कभी नहीं चुकाया जा सकता है | शायद इसीलिए हमारे धर्म ग्रंथों में जननी एवं जन्म भूमि को स्वर्ग से भी बढ़कर बताया गया है |*


*आज के वर्तमान परिवेश में पहले की अपेक्षा आज सब कुछ उल्टा दिखाई पड़ रहा है | आज समाज में ना तो माता को वह सम्मान मिल पा रहा है ना ही मातृभूमि को जिसका वर्णन हमारे धर्म ग्रंथों में किया गया था | आज मनुष्य इतना ज्यादा शिक्षित हो गया है कि अपनी शिक्षा एवं धन के अहंकार वह अपनी माता एवं मातृभूमि का भी अपमान करने से पीछे नहीं हट रहा है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज प्रत्येक घरों में सास बहू में हो रही नोंकझोंत को देख रहा हूं जिसमें पुत्र के द्वारा पत्नी का पक्ष लेकर के माता को अपमानित एवं उपेक्षित किया जा रहा है | वहीं दूसरी ओर जहां हमारे पूर्वजों ने अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने सर कटा दिए वही आज स्वयं को शिक्षित कहने वाले कुछ लोग अपनी ही मातृभूमि को बड़े मंचों एवं विदेशों में जाकर के बदनाम कर रहे हैं | कहने को तो ऐसे लोगों ने उच्च शिक्षा प्राप्त की है परंतु इनके क्रियाकलाप गांव के गवांरो से भी बदतर करे जा सकते हैं | आज परिवर्तन का युग है इस युग का मनुष्य अनेक प्रकार के अहंकार में अंधा हो गया है जिसे ना तो अपना वर्तमान दिखाई पड़ता है ना ही भविष्य | अपनी जन्मभूमि एवं अपने ही देश के संविधान के विरोध में जहर उगलने वाले आज समाज में बहुतायत संख्या में देखे जा सकते हैं | जो अपने बीते हुए समय से या इतिहास से शिक्षा लेकर के वर्तमान में क्रियाकलाप नहीं करता है उसका भविष्य स्वयं अंधकारमय हो जाता है परंतु ऐसे लोग जो आज अपनी ही माता और मातृभूमि का अपमान कर रहे हैं वे अपने भविष्य के विषय में नहीं जान रहे हैं | आने वाला भविष्य उनके लिए बहुत सुखद नहीं हो सकता |*


*माता एवं मातृभूमि की सुरक्षा एवं संरक्षण प्रत्येक जीव का उत्तरदायित्व है जो अपने उत्तरदायित्व से मुंह मोड़ता है वह कभी भी सम्मानित एवं सुखी नहीं रह सकता |*

अगला लेख: हमारा गणतन्त्र दिवस :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जनवरी 2020
*मानव जीवन में विचारों का बड़ा महत्व है | विचारों की शक्ति असीम होती है | यहां व्यक्ति जैसा सोचता है वैसा ही बन जाता है क्योंकि उसके द्वारा हृदय में जैसे विचार किए जाते हैं उसी प्रकार कर्म भी संपादित होने लगते हैं क्योंकि विचार ही कर्म के बीज हैं , व्यवहार के प्रेरक हैं | जब मनुष्य व्यस्त होता है तो
24 जनवरी 2020
19 जनवरी 2020
*ईश्वर द्वारा बनाया गया संसार बहुत ही आश्चर्यजनक है | इस संसार में ईश्वर के अतिरिक्त मनुष्यों ने भी कुछ ऐसे निर्माण किए हैं जिन्हें लोग आश्चर्य ही मानते हैं | संसार में कुछ इमारतों एवं कलाओं को आश्चर्य की श्रेणी में रखा गया है परंतु इस संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य जो है उसे मनुष्य जानते हुए भी मानना न
19 जनवरी 2020
23 जनवरी 2020
*मनुष्य का निर्माण प्रकृति के कई तत्वों से मिलकर हुआ है | मानव जीवन में मुख्य रूप से दो ही चीजें क्रियान्वित होती है एक तो मनुष्य का शरीर दूसरी मनुष्य की आत्मा | जहां शरीर भौतिकता का वाहक होता है वही आत्मा आध्यात्मिकता की ओर अग्रसर रहती है | मनुष्य भौतिक उन्नति के लिए तो सतत प्रयत्नशील रहता है परंतु
23 जनवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x