जेबकतरियों से सावधान

03 फरवरी 2020   |  शोभा भारद्वाज   (372 बार पढ़ा जा चुका है)

जेबकतरियों से सावधान

जेब कतरियों से सावधान

डॉ शोभा भारद्वाज

‘मुफ्त का चन्दन घिस मेरे नन्दन’ चुनावों का दौर है जनता जनार्धन के लिए तरह-तरह के प्रलोभनों की बरसात हो रही है हमारे सत्तारूढ़ सीएम साहब ने पहले से ही दिल्ली की आधी वोटर महिलाओं के लिए मुफ्त डीटीसी बस सवारी का तोहफा दे दिया बस पर चढ़ते ही कंडकटर टिकट लेने वालों को भूल कर पहले गुलाबी पर्ची पकड़ाते हैं यदि कोई महिला यह सोच कर अगले स्टौप पर उतरना गुलाबी टिकट न ले उन तक पहले टिकट पहुँचाई जाती है |महिलाओं पर इतनी इनायत काश बस पर चढ़ने वाले दरवाजे पर एक बोर्ड लगवा दिया जाता ‘ कृपया जेबकतरियों से सावधान” आप कहेंगे इसका ध्यान रखने के लिए मार्शल हैं हाँ कुछ बसों में नजर आते हैं लेकिन जब तक मार्शल के पास बात पहुंचती हैं जेबकतरी उतर कर अगली बसों में चढ़ जाती हैं इनका धंधा जोरों पर है इनके वोट पक्के हैं बेचारे खरीददार अपने रुपयों को सम्भालने के चक्कर में बदहवास रहते हैं पहले जेबकतरियाँ बस पर चढ़ने वाले यात्रियों को घेर कर जेब काटतीं थी अब तो शान में बस पर चढ़ कर गुलाबी टिकट ले कर जेब कतरती हैं | सुना था आफिस टाईम में बसों में भीड़ होती है लेकिन अब असली रश ग्यारह बजे से शुरू होता है तभी आराम से घर से निकलो जेब काटो दिहाड़ी अच्छी बनेगी |

मेरे घर के पास बस स्टैंड है मैने सोचा मैं भी मुफ्त का सफर कर लूँ कंडकटर से कहा मुख्यमंत्री जी वाला टिकट दे दीजिये अरे कंडकटर साहब हंसने लगे उन्होंने अपने साथ बैठे युवक को उठा कर सीट दी साथ में समझाया जब तक मुफ्त का टिकट है शनीवार इतवार को मत आईये महिलायें सपरिवार घूमने ,खरीददारी करने ,मन्दिर दर्शन दिल्ली दर्शन करने जाती हैं |पर्दानशीन महिलाओं के घरवालो को अब उनके घर से बाहर जाने पर एतराज नहीं है वह बस पर चढ़ाने से पहले समझा देते हैं शाम से पहले लौट बच्चे भी खुश हैं छुट्टी का दिन हैं मम्मी उन्हें घुमाने ले जा रही है वह आज कहाँ जाना है फरमाईश करते है खचाखच बस भरी हुई थी हर सीट पर महिलाएं विराजमान थी कुछ ही सीटें खाली थी दूसरे स्टौप पर एक सीनियर दबंग महिला 19 मुख्यन्न्त्री जी वाले टिकट पर हर मेल की बहुओं बेटियों पोतियों रिश्तेदार्नियाँ लेकर सबको घुमाने ले जा रही थी उसने चढ़ते ही एक आदमी को लगभग डपटते जुए कहा शर्म नहीं आती बुजुर्ग महिला खड़ी है जबकि वह अधेड़ महिला थी तुम बैठे हो वह शरीफ था खड़ा हो गया कुछ को बच्चे वाली को सीट दो का हवाला देकर सीटें खाली करवा लीं पीछे पुरुष यात्रियों की इतनी भीड़ थी दो गाँव के मर्द चिल्लाये भाई बस रुकवाओ दम घुट रहा है बस रुक गयी वह बड़ी मुश्किल से धक्के खाते हुए उतरे एक आदमी ने उन्हें समझाया भाई जब तक चुनाव है तब तक बसों का यही हाल रहेगा आप घर में रहो |आगे के गेट से भी उतरना आसान नहीं है यहाँ महिलायें बच्चों को लेकर उतरना है |

दुकानदार बाजारों में खरीददारी करने जाते है बस सस्ती पड़ती है अब यह हाल है अपने को सम्भाले या अपनी जेब को बचाएं खरीददारी कर अपना सामान साथ ही बसों से ले आते थे उन्हें रोज कुआं खोदना है स्कूटर वालों से ची-चिक करने के लिये अब मजबूर हैं | महिलाये बहुत समझदार हैं एक-एक स्टौप के लिए बस पर चढ़ जाती है बच्चों को स्कूल पहुंचाने ले कर आना वह भी मुफ्त में उनकी जिम्मेदारी है | ई रिक्शा , ग्रामीण सेवा , मिनी बस थ्री व्हीलर खाली खड़ें हैं निजी बस सर्विस की आमदनीं नीचे गिरती जा रही है ओला ऊबर वालों का काम ठीक चल रहा है एक मिन्नी बस का कंडकटर मुख्यमंत्री जी की सवारी के नाम से सवारियाँ बुला रहा था मैने हैरान होकर पूछा क्या बोल रहे हो उसने कहा शायद कोई भूली भटकी महिला सवारी मिल जाए |

शाम के समय लड़कियों के झुण्ड बसों में बैठ का मौल या बाजारों में विंडो शौपिंग करने निकलती हैं सर्दी है लाल बस पर बैठना चाहती हैं |खरीदना कुछ नहीं केवल भाव पूछना हाँ मौल ऐसे विजिटरों की भीड़ से रौनक नजर आ रही है | कुछ लड़कियां तपाक से कहती हैं चुनाव का कन्सेशन है फिर तो हमसे ही पैसे बढ़ा कर वसूलने हैं |

पंजाब की पूर्व मुख्यमंत्री राजिन्द्र कौर भट्टल सीनियर सिटीजन महिलाओं को मुफ्त यात्रा क सुविधा दी थी बसों का हाल यह था सुबह ही बसें सीनियर सिटीजन महिलाओं से भर जाती थी सभी सहेलियाँ अबकी बार कहां जाना है तय कर लेती थी एक गुरूद्वारे में लंगर खाया किसी मन्दिर में प्रसाद से मुहँ मीठा किया फिर शाम को अगले गुरुद्वारे में लंगर खा कर शाम को घर |परिवारों में सीनियर सिटीजन महिलाओं का रूतबा ऊंचा हो गया था वह बस द्वारा पंजाब के दूसरे शहरों से मोल भाव कर सस्ता सामान खरीद लाती थी मुझे पंजाब अपनी माँ को ले जाना था सीनियर सिटीजन को ट्रेन में वैसे ही छूट मिलती है लेकिन मेरी माँ का आदेश था पटियाला तक का टिकट लेना है आगे मुफ्त है जबकि उनका रिजर्वेशन था | बस आगे जाना था पर बस खचाखच भरी हुई थी कंडकटर ने हंस का कहा बस आपकी ही एक टिकट कटी है लेकिन देर तक सुविधा चल नहीं सका कुछ महीनों के बाद गिनी चुनी बसें थी जिनमें बुजुर्ग महिलायें मुफ्त ज्वाय राईड कर सकती थी |

चुनाव का समय है एक सामान्य से व्यक्ति के सामने टीवी चैनल के एंकर ने माईक लगा कर पूछा पार्टियाँ चुनावी वादे बढ़ चढ़ कर कर रही हैं जैसे अलग –अलग दल फ्री बिजली देंगे उसका जबाब था फिर दिल्ली का भला कैसे करेंगे ?मुफ्त में कुछ नहीं चाहिए बस दिल्ली को अच्छा बना दे फ्री पानी ? उत्तर था चाणक्य के अर्थशास्त्र में लिखा है कभी पानी बे मोल नहीं देना चाहिए उसकी कीमत कभी समझ नही आती हमारे गावँ की महिलायें दूर से चलकर पानी लाती हैं वहाँ तक पानी पहुंच जाये| मेरी माँ बताती है हमारे घर के दरवाजे पर कुआँ था हमारी दादी नहाने के लिए एक बाल्टी पानी लेने देती थी कहती थी पानी की इज्जत करो कुआं गर्मी में भी नहीं सूखेगा |

अगला लेख: अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता? दंगा धरना प्रदर्शन ,सड़क बंद मैनेजमेंट गुरुओं की कारस्तानी का एक नमूना शाहीन बाग़



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 फरवरी 2020
चु
"चुनावी दंगल जीतने की साईंस समय के साथविकसित होती है डॉ शोभाभारद्वाजदिल्ली में चुनाव प्रचार का दौर थम गया अब मत पत्र पेटियों में पड़ने बाकी है इस चुनाव के मुख्यतया तीनदिग्गज हैं आप पार्टीं के मुख्यमंत्री पद का चेहरा केजरीवाल पांच वर्ष का सत्तासुख ले चुके हैं |बीस वर्ष
07 फरवरी 2020
24 जनवरी 2020
स्वर्गीयसुभाष चन्द्र बोस युवा शक्ति के प्रेरणा दायक नेता जी डॉ शोभाभारद्वाज सिंघापुर में मेरी बेटी का घर टाउन हाल के पास हैमैं टाउन हाल जाने के लिए उत्सुक थी बेटी मुझे दिखाने के लिये नन्हीं बेटी को लपेट कर हम टाउन हाल पहुंचेवहाँ वृद्ध चीनी इंचार्ज ने चश्में से हमें घूरते हुए क्लास ले ली बच्ची कित
24 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
“हे राम” तीसजनवरी 1948की शाम राष्ट्रपितामहात्मा गांधी के अंतिम शब्द <!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->डॉ शोभाभारद्वाज<!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->संयुक्त भारत दोटुकड़ों में बार चुका था भारत एवं पश्चिमी ,पूर्वी पाकिस्तान (1971 में पाकिस्तानसे अलग बना बंगलादेश ) अफ़स
30 जनवरी 2020
30 जनवरी 2020
बुधका कुम्भ में गोचरआज रात्रि 26:54 (अर्द्धरात्र्योत्तरदो बजकर छप्पन मिनट) के लगभग तैतिल करण और सिद्ध योग में बुध का गोचर कुम्भ राशिमें होने जा रहा है | बुध इस समय धनिष्ठा नक्षत्र पर है तथा अस्त है | कुम्भ राशिमें निवास करते हुए बुध 4 फरवरी को शतभिषज नक्षत्र पर भ्रमणकरता हुआ 17 फरवरी को सूर्योदय से
30 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x