मोह का प्रसार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 फरवरी 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (3765 बार पढ़ा जा चुका है)

मोह का प्रसार :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*ईश्वर की बनाई हुई यह सृष्टि बहुत ही दिव्य एवं रोचक है इसके साथ ही इस संसार को मायामय एवं नश्वर भी कहा गया है | जिसका भी यहां पर जन्म हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है चाहे वह जड़ हो या चेतन | इस संसार में जो भी जन्म लेता है उसको एक दिन जाना ही पड़ता है यही संसार का शाश्वत सत्य है और यह सत्य प्रायः सभी लोग जानते भी हैं कि इस संसार में खाली हाथ आए हैं और खाली हाथ जाना भी है | इतना जानने के बाद भी मनुष्य जीवन भर एक दूसरे से प्रेम , ईर्ष्या , द्वेष आदि का व्यवहार करता है | मनुष्य के द्वारा ऐसे कृत्य क्यों किए जाते हैं जिसके कारण समाज में अनेक प्रकार की व्याधियों उत्पन्न होती हैं इसे ही भगवान की माया कहा गया है | जिस प्रकार बरसात में बादल से गिरी हुई एक बूंद बहुत ही स्वच्छ एवं उज्ज्वल होती है परंतु जब वह धूल में गिरती है तो धूल उसको चारों ओर से लपेट लेती है और वह बूंद मलिन हो जाती है , उसी प्रकार एक निर्मल जीव इस संसार में बहुत ही दिव्य बन करके आता है परंतु इस पृथ्वी पर आते हैं धूल की ही भांति माया उसको चारों ओर से लपेट लेती है और उसी माया में वह यह भूल जाता है कि यह संसार नश्वर है | इस सत्यता को जानते हुए भी वह इसे झुठलाने का प्रयास जीवन भर क्या करता है | इसका कारण क्या है कि लोग एक दूसरे के प्रति नैतिक / अनैतिक कृत्य करने लगते हैं | संसार में मनुष्य के द्वारा ऐसे कृत्य क्यों होते हैं जिससे कि किसी दूसरे को कष्ट हो | इसका कारण बताते हुए तुलसीदासजी श्रीरामचरितमानस में लिखते हैं :-- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" अनेक प्रकार के मोह से ग्रसित होकर के मनुष्य ऐसे कृत्य करता है | धनबल , जनबल एवं बाहुबल के अहंकार में मनुष्य अपनी ही सगे संबंधियों को पहचानना बंद कर देता है | इसका एक ही कारण है जिसे मोह कहा गया है | इस मोह से कोई भी बच नहीं पाया है ! यही भगवान की माया है !! यही इस नश्वर संसार का सत्य है |*


*आज संसार में मोह की प्रबलता पहले की अपेक्षा अधिक दिखाई पड़ रही है , जहां पूर्वकाल में हमारे पूर्वजों ने मोह का त्याग करते हुए अनेकों कीर्तिमान स्थापित किए थे वही आज मोह ने संसार को अपने चक्रव्यूह में जकड़ लिया है | यद्यपि इस मोह का प्राकट्य सृष्टि के साथ ही हुआ है परंतु आज इसकी प्रबलता कुछ अधिक ही दिखाई पड़ रही है | यदि आज मोह की प्रबलता है तो इसका कारण मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यही मानता हूं कि आज मनुष्य ने अपने पूर्वजों से सीख लेना बंद कर दिया है | मोह से छुटकारा पाने का एकमात्र साधन सत्संग से मनुष्यों ने किनारा कर लिया है | जब मनुष्य को मोह जकड़ता है तो उसके हृदय में काम - क्रोध स्वयं प्रकट हो जाते हैं | तुलसीदास जी ने स्पष्ट कर दिया है कि मनुष्य के हृदय में जितने भी मानस रोग प्रकट होते हैं उसका एकमात्र कारण मनुष्य का मोह ही है और इस मोह से बड़े-बड़े तपस्वी भी नहीं बच पाए हैं | जिस दिन मनुष्य मोह आदि से छुटकारा पा जाता है उसी दिन उसको संसार में सब कुछ समान दिखाई पड़ने लगता है , परंतु इस मायामय संसार में स्वयं को मोह से बचा लेने वाला बिरला ही दिखाई पड़ता है | आज यदि इसकी अधिकता है तो उसका यही कारण है कि मनुष्य का अपने मन पर नियंत्रण नहीं है | अपने भाव पर नियंत्रण न कर पाने के कारण मनुष्य मोह रूपी भंवर में फंसता चला जाता है | इस मोह से बचने का एक ही उपाय है और वह है सत्संग | सत्संग करने वाला मनुष्य मोह से स्वयं को बचाने में सफल हो जाता है परंतु आज मनुष्यों ने सत्संग में जाना बंद कर दिया है | यही कारण है कि आज संसार मोह का प्रबल साम्राज्य दिखाई पड़ रहा है जिसके कारण मनुष्य काम क्रोध के वशीभूत होकर अपने कृत्य कर रहा है |*


*हमारे महापुरुषों मनुष्यों को बार-बार चेतावनी देते हुए इन षडरिपुओ से बचने का उपाय बताया है परंतु आज हम इन उपायों पर ध्यान नहीं देना चाहते हैं और अनेक प्रकार की व्याधियों से ग्रसित हो रहे हैं |*

अगला लेख: हमारा गणतन्त्र दिवस :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जनवरी 2020
*ईश्वर द्वारा प्राप्त इस दिव्य जीवन में प्रकाश प्राप्त करने के लिए प्रत्येक मनुष्य सतत प्रयासरत रहता है | सूर्य चंद्रमा के द्वारा मिल रहे प्राकृतिक प्रकाश के अतिरिक्त मनुष्य ने प्रकाश के कई भौतिक संसाधनों का भी आविष्कार किया है | जहां प्रकाश मनुष्य को ऊर्जावान बनाता है वही अंधकार मनुष्य को निष्क्रिय
28 जनवरी 2020
13 फरवरी 2020
*चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को दुर्लभ कहां गया है क्योंकि यह मानव शरीर अनेक जन्मों तक कठोर तपस्या करने के बाद प्राप्त होता है | इस शरीर को पा करके मनुष्य अपने क्रियाकलाप एवं व्यवहार के द्वारा लोगों में प्रिय तो बनता ही है साथ ही मोक्ष भी प्राप्त कर सकता है | अपने संपूर्ण जीवन काल में प्रत्येक
13 फरवरी 2020
26 जनवरी 2020
*प्राचीनकाल में हमारे देश भारत में राजाओं का शासन होता था , जो कि कुल परंपरा के अनुसार चला करता था | राजा के चुनाव में प्रजा का कोई अर्थ नहीं होता था | आदिकाल से लेकर के अंग्रेजों के शासन तक यही परंपरा चलती रही जिसे राजतंत्र कहा गया है , परंतु जब हमारे देश के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के अथक परिश
26 जनवरी 2020
01 फरवरी 2020
*हमारा देश भारत आदिकाल से "वसुधैव कुटुम्बकम्" को आधार मानकर "विश्व बन्धुत्व" की भावना का पोषक रहा है | मानव जीवन में भाव एवं भावना का विशेष महत्त्व होता है | मनुष्य में भावों का जन्म उसके पालन - पोषण (परिवेश) एवं शिक्षा के आधार पर होता है | भारतीय शिक्षा पद्धति इतनी दिव्य रही है कि इसी शिक्षा एवं ज्
01 फरवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x