नॉर्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव की प्रक्रिया के चरण

08 फरवरी 2020   |  बबीता राणा   (397 बार पढ़ा जा चुका है)

सामान्य प्रसव के तीन चरण और सामान्य डिलीवरी में कितना समय लगता है :

1. सामान्य डिलीवरी का पहला चरण

सामान्य डिलीवरी के पहले चरण के तीन फेज़ निम्न हैं :

अर्लि या लेटेंट फेज़
पहली गर्भावस्था में लेटेंट फेज़ छह से दस घंटे तक रहता है। कुछ मामलों में यह अधिक लंबा या कम समय का भी हो सकता है। इस चरण में सर्विक्स (cervix) 3-4 सेंटीमीटर तक खुल सकता है। ये फेज़ प्रसव के हफ्ते भर पहले या फिर बच्चे के जन्म से कुछ घंटे पहले शुरू होता है। इस समय प्रेग्नेंट महिला को बीच-बीच में संकुचन का अनुभव हो सकता है।

एक्टिव फेज़
एक्टिव फेज़ में सर्विक्स 4-7 सेंटीमीटर तक खुलता है। सर्विक्स पर प्रेशर बढ़ने के कारण यह फेज़ आपको असहज कर सकता है। इस दौरान होने वाला दर्द पीरियड्स के दर्द या कमर के निचले हिस्से के दर्द की तरह महसूस हो सकता है। एक्टिव फेज में वॉटर बैग ब्रेक होने की संभावना भी होती है।

ट्रांज़िशन फेज़
इस फेज़ के दौरान सर्विक्स 8 सेंटीमीटर तक खुल चुका होता है। यह ओपनिंग तब तक जारी रहती है जब तक यह 10 सेंटीमीटर तक नहीं खुल जाती। इस फेज़ में आपको नियमित रूप से कम अंतराल पर निचले पेलविक एरिया में तेज़ दर्द हो सकता है।

2.सामान्य डिलीवरी का दूसरा चरण
सामान्य डिलीवरी के दूसरे चरण में सर्विक्स पूरी तरह से खुल जाता है और संकुचन भी काफ़ी बढ़ जाता है। यह स्टेज सबसे मुश्किल मगर कम समय का होता है। माँ के पुश करने पर बच्चा पेल्विक क्षेत्र और बर्थ कैनाल के माध्यम से बाहर आने का रास्ता ख़ुद बना लेता है। सबसे पहले बच्चे का सिर बाहर आता है इसके बाद बच्चे के बाकि के अंगों को पुश करना आसान हो जाता है।

3.सामान्य डिलीवरी का तीसरा चरण
शिशु के जन्म के ठीक बाद, तीसरे चरण में प्लेसेन्टा गर्भाशय से बाहर आ जाता है। इसे दी आफ्टर बर्थ भी कहा जाता है। बच्चे के जन्म के बाद प्लेसेन्टा यूटेरिन वॉल से अलग होने लगती है। प्लेसेन्टा के अलग होने पर और माँ के पुश करने के बाद यह गर्भाशय से बाहर निकल आता है। इस दौरान भी माँ को हल्के संकुचन का अनुभव हो सकता है। ये बच्चे के जन्म के 5-6 मिनट बाद शुरू होता है और इसमें आधे घंटे का समय लग सकता है।

सामान्य प्रसव में आमतौर पर लगभग 12 से 14 घंटे लगते हैं। ऐसा तब होता है जब गर्भवती महिला की ये पहली नॉर्मल डिलीवरी होने जा रही हो। दूसरी या तीसरी डिलीवरी में पहली नॉर्मल डिलीवरी के अपेक्षा कम समय लगता है।

अगला लेख: ओवुलेशन स्पॉटिंग क्या है व कैसे करें पहचान!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 जनवरी 2020
प्रेगनेंसी टेस्ट का महत्व क्या होता है?महिलाओं के द्वारा गर्भावस्था टेस्ट करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। एक बार जब गर्भावस्था परीक्षण में महिलाओं के गर्भधारण का पता चल जाता है,तो तब महिलाओं को महिला उसके अनुसार अपनी रोज की जीवनशैली में परिवर्तन कर सकती है।इसके साथ ही साथ गर्भधारण का पता लगाने
30 जनवरी 2020
13 फरवरी 2020
चिकित्सीय विज्ञान में इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन यानी आईवीएफ तकनीक उन महिलाओं के लिए वरदान है जो माँ बनने की चाह रखते हुए भी गर्भावस्था का सुख नहीं ले पाती है। आईवीएफ तकनीक यानि टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया, बांझपन के उपचार में काफी कारगर
13 फरवरी 2020
28 जनवरी 2020
आईवीएफ़ जिसे बहुत से लोग टेस्ट ट्यूब बेबी के नाम से भी जानते हैं। आईवीएफ उन दम्पत्तियों के लिए वरदान है जो कई कारणों से बच्चे का सुख प्राप्त नहीं कर पाते हैं। आईवीएफ़ एक प्रकार की सहायक प्रजनन तकनीक है। इस तकनीक में सबसे पहले अधिक अंडों के उत्पादन के लिए महिला के गर्भा
28 जनवरी 2020
27 जनवरी 2020
आईयूआई ट्रीटमेंट जिसे कृत्रिम गर्भधारण भी कहा जाता है यह प्रजनन उपचार का एक प्रकार है। यह एक ऐसी तकनीक है जिसमें पुरुष शुक्राणुओं को प्लास्टिक की पतली कैथेटर ट्यूब के जरिए महिला की ओवेरी में इन्जेक्ट किया जाता है। इस प्रक्रिया को करते वक्त डॉक्टर इस बात का विशेष ध्यान
27 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x