थकान और आलस्य को दुर करने के लिए घरेलू उपाय

11 फरवरी 2020   |  पूजा शर्मा   (2164 बार पढ़ा जा चुका है)

थकान और उसे होने वाली कमजोरी


वर्तमान समय में होने वाली सबसे बड़ी समस्या है।आजकल हर व्यक्ति थकान से पीड़ित है ऐसे में यह बहुत ही जरूरी है कि थकान और उसे होने वाली सुस्ती का उपचार किया जाए ताकि हमारी कार्य करने की शक्ति दोबारा पहले जैसी सही जाये।कुछ घरेलू उपाय हैं जिनकी सहायता से हम अपनी सारी थकान और सुस्ती को दुर कर सकते हैं।

1.व्यायाम से दूर करें शरीर की सुस्ती और थकान

सच बात तो यह है की थकावट के समय व्यायाम करने का मन किसी को नहीं करता है,लेकिन रिसर्च से यह पता चला है कि व्यायाम करने से हमारे शरीर की सारी सुस्ती और थकान दुर हो जाती है।व्यायाम से थकान और आलस्य दुर होने परहमारे शरीर में ऊर्जा को बढ़ती है और हम अच्छा भी महसूस करते हैं।योग तथा व्यायाम करने से हमारी सारी को मांसपेशियां खुल जाती हैं और हमें काफी आराम भी मिलता है।


2.पानी थकान दुर करने में सहायक

कभी-कभी हमारे शरीर में पानी की मात्रा कम होने के कारण हमारे शरीर में ऊर्जा की मात्रा कम हो जाती है जिसके कारण हमें थोड़े समय में ही थकान और सुस्ती महसुस होने लगती है।

ऐसी स्थिति में हमें अपने शरीर में पानी का स्तर बनाये रखना चाहिए, जिससे हमारे शरीर में पानी की कमी न हो।कई बार शरीर में पानी की कमी होने के कारण रोज के कामकाज में भी हमें बहुत थकान महसूस होने लगता है।इसलिए ये बहुत जरुरी है कि हम भरपूर मात्रा में पानी पियें।

3.जल्दी सोने से थकान दुर होता है

नींद हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण ही हिस्सा है।

नींद पूरी ना हो पाने के कारण हमारे शरीर और दिमाग कोआराम नही मिल पाता, जिससे सारे दिन हम थके और सुस्त महसुस करते हैं।

यदि हमें दिनभर की थकान और सुस्ती से दुर रहने के लिए हमें अच्छी नींद लेनी बहुत ही है ।

अच्छी नींद लेने से हमारे शरीर और दिमाग को पुरा आराम मिलता है और हम तरोताज़ा हो हो जाते है।

कई बार यदि आप अधिक थकान मासुस कर रहे है, तो आपको काम के बीच में 10-15 मिनट के लिए सो जाना चहिए जिससे आप अच्छा महसूस करेगे ।

4.शरीर की बायोलॉजिकल क्लॉक का ध्यान रखें

अलग-अलग लोग दिन के अलग-अलग समय में ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं।

कुछ लोगों को सुबह के समय उर्ज़ा के संचार जैसा महसूस होता है तो कुछ लोगों को देर रात तक जागने की आदत होती है।

हमें ध्यान रखना चाहिए कि हमारा शरीर दिन के किस समय में सबसे ज्यादा सक्रिय है और उसी के मुताबित हमें अपने दिनचर्या को प्लान करना चाहिए ताकि आप अपने काम को सही तरीके से कर पाएं।

5.अपना वजन कम करें

हमारे शरीर का वजन भी की अधिक सुस्ती और थकान का एक कारण यह भी है कि आपका हमारा शारीरिक वजन जरूरत से ज्यादा बढ़ गया हो।

जब आपके शरीर वज़न बढ़ जाता है तो किसी भी कार्य को करने में पहले आपको पहले की तुलना में अधिक एनर्जी खर्च करनी पड़ती है और इस कारण शरीर जल्दी थक जाता है।


अगला लेख: आईवीएफ या टेस्ट ट्यूब शिशु अन्य आम शिशुओं से कैसे भिन्न होते हैं?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 फरवरी 2020
आईवीएफ की सहायता से एक टेस्ट ट्यूब बेबी का जन्म होता है, जो कई प्रकार के मेडिकल और सर्जिकल प्रोसीजर से गुज़रना पड़ता है।आईवीएफ प्रक्रिया के द्वारा सफल फर्टिलाइजेशन के लिए महिला के अंडे और पुरुष के स्पर्म में कुछ सुधार किया जाता है।जब कोई महिला और पुरुष यानि की कोई दंपत्ति प्राकृतिक या सामान्य रूप से
18 फरवरी 2020
17 फरवरी 2020
यदि गर्भवती महिलाएं किसी कारण से अपने खान-पान का सही से ध्यान नहीं रख पाती।जिसके कारण महिलाओं के शरीर में पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं मिलता है।पर्याप्त मात्रा में महिला को पोषण न मिल पाने की वजह से महिला का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य सही नहीं रह पाता है।जिसके कारण महिला गर्भावस्था के समय बहुत ही
17 फरवरी 2020
30 जनवरी 2020
प्रेगनेंसी टेस्ट का महत्व क्या होता है?महिलाओं के द्वारा गर्भावस्था टेस्ट करवाना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। एक बार जब गर्भावस्था परीक्षण में महिलाओं के गर्भधारण का पता चल जाता है,तो तब महिलाओं को महिला उसके अनुसार अपनी रोज की जीवनशैली में परिवर्तन कर सकती है।इसके साथ ही साथ गर्भधारण का पता लगाने
30 जनवरी 2020
18 फरवरी 2020
तुलसी को मीठी तुलसी और तुलसी के बीजों को सब्जा सीड्स, तुकमेरिया के बीज और बेसिल सीड्स के नाम से हमलोग जानते हैं।जबकि तुलसी के बीज नाम ही सबसे ज्यादा जानना जाता है। तुलसी दो प्रकार की पायी जाती होती है जैसे :-राम और श्याम।श्याम तुलसी के पत्ते काले पत्तों के रूप में पाया जाता है,वही राम तुलसी के पत्त
18 फरवरी 2020
17 फरवरी 2020
यदि गर्भवती महिलाएं किसी कारण से अपने खान-पान का सही से ध्यान नहीं रख पाती।जिसके कारण महिलाओं के शरीर में पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं मिलता है।पर्याप्त मात्रा में महिला को पोषण न मिल पाने की वजह से महिला का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य सही नहीं रह पाता है।जिसके कारण महिला गर्भावस्था के समय बहुत ही
17 फरवरी 2020
07 फरवरी 2020
मासिक-धर्म में पेट दर्द के कारण क्या हैं :- मासिक-धर्म में पेट दर्द,गर्भाशय के संकुचन के कारण होता है।यदि आपके महावारी के समय बहुत ज़ोर से पेट सिकुड़ता है, तो यह आपके पेट के आस-पास के रक्त वाहिकाओं को दबा देता है जिस वजह से गर्भाशय में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है।ऑक्सीजन की कमी के कारण यह पेट दर्द और
07 फरवरी 2020
05 फरवरी 2020
आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स होने के कई कारण हो सकते है।जैसे बढ़ती हुए उम्र और आपके कुछ गलतियों के कारण आंखों के नीचे डार्क सर्कल्स हो सकता है ।आंखों के नीचे काले घेरे होने के निम्न कारण हैं:-एजिंग के साथ त्वचा का पतला होनाबढ़ने हुए उम्र प्रक्रिया त्वचा के पतले होने का कारण हो सकती है क्योंकि इससे क
05 फरवरी 2020
01 फरवरी 2020
कील-मुहांसे के कारण :-कील-मुहांसे पोर्स क्लॉग (जिसे हेयर फॉलिकल कहते हैं) के कारण होता है ।हर फॉलिकल के अंदर एक डीप हेयर शाफ़्ट (Hair shaft)पाया जाता है, जिसे "सिबेशियस ग्लैंड्स" ”(वसामय ग्रंथि) भी कहा जाता है।यह ग्लैंड्स आपके बालों और स्किन को नम करने के लिए सीबम नामक एक ऑयली सब्सटांस बनाता है।जब बह
01 फरवरी 2020
31 जनवरी 2020
स्टैफिलोकोकस ऑरियस बैक्टीरिया (Staphylococcus aureus bacteria)स्टैफिलोकोकस ऑरियस बैक्टीरिया स्तन संक्रमण का भी का कारक माना जाता है। जिसे मुख्यता स्टैफ संक्रमण (Staph infcetion) के नाम से भी जाना जाता है।स्ट्रेप्टोकोकस एग्लैक्टिया (Streptococcus agalactiae)स्ट्रेप्टो
31 जनवरी 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x