प्रेग्नेंसी के समय महिला के डिप्रेशन होने के क्या मुख्य कारण हैं

12 फरवरी 2020   |  पूजा शर्मा   (413 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेग्नेंसी के समय महिला के डिप्रेशन होने के मुख्य कारण निम्नलिखित हैं : -



  • हार्मोंनल बदलाव

  • प्रेग्नेंसी के समय महिला में मानसिक और शारीरिक दोनों तरह के कई बदलाव होते हैं।

महिला के डिप्रेशन में होने पर हार्मोंस सीधे महिला के दिमाग को प्रभावित करते हैं, जो महिला के इमोशन और मूड को नियंत्रित करता है।
ये हार्मोंस मासिक-धर्म के समय महिला में भावनात्मक बदलाव लाते हैं और यही हार्मोंस गर्भावस्था के समय महिला में डिप्रेशन का कारण भी बनते हैं।

  • आनुवंशिक कारण

जिन महिलाओं में पहले से ही व्यक्तिगत या आनुवंशिक तौर पर तनाव की बीमारी हो,तो उन महिलाओं में गर्भावस्था समय के तनावग्रस्त होने का खतरा कई गुणा अधिक बढ़ जाता है।

  • थायरॉइड
    आजकल महिलाओं में थायरॉइड की समस्या बहुत ही बढ़ गई है।
    यह देखा गया की जिन महिलाओं में पहले से ही थायरॉइड समस्या हो,तो उन महिलाओं के साथ प्रेग्नेंसी के समययह समस्या और भी अधिक बढ़ जाती है।

  • मेडिकली समस्याएँ

यदि किसी महिला को गर्भधारण करने में पहले भी कभी कोई दिक्कत हुई हो या पहले उसका गर्भपात हुआ हो,तो वह अपने बच्चे को लेकर बहुत ही ज्यादा डरी हुई होती हैं।
इस प्रकार के तनाव से ग्रसित महिलाओं को डिप्रेशन होने का ख़तरा बहुत ही बढ़ जाता है।

प्रेग्नेंसी के समय डिप्रेशन का इलाज

प्रेग्नेंसी के समय होने वाले डिप्रेशन को दुर करने के इलाज निम्नलिखित हैं : -

  • प्रेग्नेंसी के समय यदि महिआ डिप्रेशन का शिकार हो रही हैं तो सबसे पहले आपअपने घर वालों और अपने चिकित्सक से इस बारे में जरुर बात करे डॉक्टर ताकि आपका उपचार सही से हो सकें।

  • प्रेग्नेंसी के समय डिप्रेशन का शिकार हो चुकी महिलाओं को मनोचिकित्सा से मिलना चाहिए,जिससे वो अपनी भावनाओं पर काबू रखना सिख ले।

  • प्रेग्नेंसी के समय डिप्रेशन का शिकार हो चुकी महिलाओं को ओमेगा 3 जैसे ऑयली फिश, अखरोट आदि जरूरी फैटी एसिड वाले खाद्य-पदार्थ को खाना चाहिए जिससे महिला को डिप्रेशन कम करने में सहायता मिले।

  • यदि आप अपनी प्रेग्नेंसी के समय डिप्रेशन की शिकार हैं, तो आप लाइट थेरेपी का उपयोग कर सकती हैं,जिसमें महिला को आर्टिफीसियल सूरज की रौशनी के सामने रखा जाता है।

  • प्रेग्नेंसी के समय डिप्रेशन से गुज़र रही महिलाओं को एक्यूपंक्चर का प्रयोग करना चाहिए जिससे महिला का मूड फ्रेश और खुशहाल हो सके।

अगला लेख: आईवीएफ या टेस्ट ट्यूब शिशु अन्य आम शिशुओं से कैसे भिन्न होते हैं?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 फरवरी 2020
आईवीएफ की सहायता से एक टेस्ट ट्यूब बेबी का जन्म होता है, जो कई प्रकार के मेडिकल और सर्जिकल प्रोसीजर से गुज़रना पड़ता है।आईवीएफ प्रक्रिया के द्वारा सफल फर्टिलाइजेशन के लिए महिला के अंडे और पुरुष के स्पर्म में कुछ सुधार किया जाता है।जब कोई महिला और पुरुष यानि की कोई दंपत्ति प्राकृतिक या सामान्य रूप से
18 फरवरी 2020
17 फरवरी 2020
यदि गर्भवती महिलाएं किसी कारण से अपने खान-पान का सही से ध्यान नहीं रख पाती।जिसके कारण महिलाओं के शरीर में पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं मिलता है।पर्याप्त मात्रा में महिला को पोषण न मिल पाने की वजह से महिला का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य सही नहीं रह पाता है।जिसके कारण महिला गर्भावस्था के समय बहुत ही
17 फरवरी 2020
07 फरवरी 2020
मासिक-धर्म में पेट दर्द के कारण क्या हैं :- मासिक-धर्म में पेट दर्द,गर्भाशय के संकुचन के कारण होता है।यदि आपके महावारी के समय बहुत ज़ोर से पेट सिकुड़ता है, तो यह आपके पेट के आस-पास के रक्त वाहिकाओं को दबा देता है जिस वजह से गर्भाशय में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है।ऑक्सीजन की कमी के कारण यह पेट दर्द और
07 फरवरी 2020
07 फरवरी 2020
पुरुष बांझपन के क्या कारण है मुख्य रूप से पुरुष बांझपन के कारण को दो आधार जैसे स्वास्थ्य और जीवनशैली से सम्बंधित कारणों के आधार पर बाँटा जा सकता है।पुरुषों को कुछ ऐसी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जिसका समय पर उपचार नहीं कराया जाये तो यह बांझपन का कारण बन जाता है।पुरुष बांझपन के कारण निम्न हैं
07 फरवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x