सेक्स के समय दर्द क्यों होता है?

17 फरवरी 2020   |  पूजा शर्मा   (427 बार पढ़ा जा चुका है)

स्त्री और पुरुष के द्वारा शारीरिक संबंध बनाते समय दर्द होने के कारण


को चिकित्सकीय और गैर चिकित्सकीय कारणों की श्रेणी में रखा गया है ।

चिकित्सकीय कारण वह है,जो चिकित्सक पद्धति के द्वारा ठीक हो सकता है, जैसे महिला की योनि का सूखापन, महिला की योनि के आस-पास खुजली या जलन या किसी प्रकार का इन्फेक्शन होना चिकित्सकीय कारण है।

मगर गैर चिकित्सकीय कारणों को भावनात्मक कारणों को शामिल किया जाता है जैसे पहली बार महिला और पुरुष के द्वारा संबंध स्थापित होने का भय, बिना मन के संबंध स्थापित करते समय डर लगना आदि शामिल है।

सेक्स के समय शारीरिक संबंध में दर्द को कैसे कम किया जाता है?

महिला और पुरुष के द्वारा शारीरिक संबंध स्थापित करते समय चिकित्सकीय कारणों को सही पद्धति के द्वारा ठीक किया जा सकता है।

जैसे महिला की योनि में सूखेपन की समस्या होने पर एक अच्छे लुब्रिकेटिंग मलहम या क्रीम का प्रयोग करके इस समस्या को दूर किया जा सकता है।

इसी प्रकार महिला की योनि के आस-पास खुजली या जलन होने पर, महिला की योनि में होने वाले किसी इन्फेक्शन के कारण भी हो सकता है, इसे चिकित्सक की मदद से इलाज के द्वारा दूर किया जा सकता है।

इसके अतिरिक्त शारीरिक संबंध स्थापित करने से पूर्व थोड़ा समय आपस महिला और पुरुष को आपस में बातचीत करके और फोरप्ले के माध्यम से भावनात्मक अहसासों को जाग्रत करके महिला के मन के डर को दुर किया जा सकता है।तब शारीरिक संबंध स्थापित करने पर किसी भी प्रकार का दर्द होने की संभावना खत्म हो जाती है

सेक्स में दर्द से बचाव के लिए सही सेक्स का पोजीशन कौन सी हो सकती है?

सेक्स के समय होने वाले दर्द से बचाव के लिए और सेक्स का पूर्ण आनंद लेने के लिए आप अपनी सुविधानुसार और अपनी पसंद के मुताबित निम्नलिखित में से कोई भी सेक्स पोजीशन को अपना सकते हैं:-

  • बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन

बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन में महिला या पुरुष पीठ के बल लेटे होते हैं, और दूसरा साथी अपने लेटे हुए साथी के ऊपर लेट कर संबंध स्थापित करता है।
बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन में साथी अपनी पसंद और सुविधानुसार कोई भी ऊपर या नीचे सेक्स करते समय रह सकता है।शारीरिक सम्बन्ध बनाते समय में बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन सबसे जादा पसंद किया जाता है।इसका मुख्य कारण यह है कि इस सेक्स पोजीशन में दोनों साथी एक दूसरे की आँखों में देखते हुए एक-दूसरे के साथ शारीरिक सम्बन्ध संबंध बना सकते हैं।साथ ही साथ बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन में दोनों साथी एक-दूसरे को हाथों और चुंबन करते हुए अपने प्रेम सम्बन्धों को बहुत प्रगाड़ बना सकते हैं।बदली हुई मिशनरी सेक्स पोजीशन में पुरुष या महिला दोनों में से किसी भी साथी को अपनी कमर या कूल्हे को अधिक हिलाने की आवश्यकता नहीं होती है,इसलिए जिन लोगों को कमर या कूल्हे में किसी भी प्रकार की समस्या है उन लोगों के लिए यह सेक्स उनके लिए यह सेक्स पोजीशन सबसे अच्छा होता है।यदि किसी भी प्रकार की समस्या होने पर महिला अपने कमर या कूल्हे के नीचे एक तकिया को रखकर अपने आप को थोड़ा ऊपर कर सकती है।इससे के माध्यम से पुरुष साथी को अपने लिंग को महिला के योनि में प्रवेश करने में सुविधा हो जाती है और दोनों महिला और पुरुष दोनों बिना किसी दर्द के सेक्स सम्बन्ध की प्रगाढ़ता का अनुभव कर सकते हैं।

  • स्पूनिंग सेक्स पोजीशन

स्पूनिंग सेक्स पोजीशन में महिला और पुरुष दोनों साथी इस प्रकार लेटते होते हैं,जिससे महिला और पुरुष दोनों का चेहरा एक ही दिशा में होता है।
दूसरे शब्दों में कह सकते हैं की एक साथी अपने दूसरे साथी के पीछे लेटता है।
स्पूनिंग पोजीशन में महिला और पुरुष किसी को भी अपने शरीर को अधिक हिलाने की आवश्यकता नहीं होती है,इस सेक्स पोजीशन से महिला और पुरुष बिना किसी दर्द के आसानी से संबंध को स्थापित कर सकते हैं।
स्पूनिंग सेक्स पोजीशन में थोडा भिन्नता लाने के लिए आप अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को एक तकिये के द्वारा थोड़ा ऊंचा कर सकते हैं।इसके द्वारा आप दर्द रहित सेक्स का आनंद ले सकते हैं।

  • खिला हुआ कमल सेक्स पोजीशन

खिला हुआ कमल सेक्स पोजीशन में एक साथी चौकड़ी बांध कर बैठता है और दूसरा साथी उसे देखते हुए उसकी गोद में आलिंगन करता हुआ बैठता है।मगर इस सेक्स पोजीशन से
आपके कमर और कूल्हे में दर्द हो सकता है औए हो सकता है आप चाहते हुए भी इस सेक्स पोजीशन का आनंद न ले पाए।अतः आप कमल सेक्स पोजीशन में थोड़ा परिवर्तन कर सकते हैं।

आप चौकड़ी में बैठने की जगह आप किसी कुर्सी या सोफ़े का प्रयोग कर सकते हैं और उसी प्रकार से बैठ कर खिले हुए कमल पोजीशन का आनंद ले सकते हैं।
इस तरह आप बिना किसी समस्या के सम्बन्धों का आनंद ले सकते हैं।

  • बदली हुई काऊ गर्ल सेक्स पोजीशन

बदली हुई काऊ गर्ल सेक्स पोजीशन में आप आपने पुरुष साथी को एक आरामदायक कुर्सी पर बैठने को कहें तथा उस कुर्सी के दोनों ओर नरम गद्दीदार हाथ बने हों।उसके बाद आप उस कुर्सी में इस प्रकार बैठें,जैसे आप अपने साथी की गोद में लेटी होंऔर आपके दोनों पैर आपके साथी के दोनों हाथों पर झूल जाएँ।तथा आपका पुरुष साथी फर्श की सहयता से अपने पैरों को फर्श में टिका सके और अपनी महिला साथी के साथ बहुत ही आसानी से सेक्स का आनंद ले सकें।
इस पोजीशन से महिला और पुरुष दोनों ही सेक्स का भरपूर आनंद ले सकते हैं।

  • स्टेंडिंग डॉगी सेक्स पोजीशन

सेक्स सम्बन्धों का आनंद लेने के लिए डॉगी पोजीशन को युगल सबसे जादा पसंद करते हैं।यदि यदि आपके या आपके साथी के
घुटनों और कमर में कोई तकलीफ है,तो आप स्टेंडिंग डॉगी सेक्स पोजीशन में थोड़ा परिवर्तन कर सकते हैं।इस सेक्स पोजीशन में महिला साथी पलंग या किसी भी ठोस और लंबी चीज़ की मदद से थोड़ा आगे की ओर झुक जाती है,इस सेक्स पोजीशन में पुरुष अपनी महिला साथी के पीछे से महिला की योनि में अपना लिंग डालकर संबंध स्थापित करता है।


  • टेबल टॉप सेक्स पोजीशन

टेबल टॉप सेक्स पोजीशन,मिशनरी सेक्स पोजीशन का ही बदला हुआ रूप है।इस सेक्स पोजीशन में महिला साथी पलंग की जगह किसी मेज़ या किसी ऊंची स्थान पर लेट जाती है।इसके बाद पुरुष अपनी महिला साथी के पैरों के बीच में आकर संबंध स्थापित कर सकता है।





अगला लेख: गुदा सम्भोग से एसटीडी का खतरा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 फरवरी 2020
प्रेगा न्यूज़ और प्रेगा न्यूज़ एडवांस मैनकाइंड फार्मा द्वारा बनाया गया एक किट है ,जो घर पर गर्भावस्था की पुष्टि करने मदद करता है ।यह किट किसी भी अच्छे मेडिकल दुकान पर आसानी से मिल जाता है,लेकिन प्रेगा न्यूज़ किट खरीदने से पूर्व आपको किट की एक्सपायरी डेट की जांच कर लेनी चाहिए ताकि रिजल्ट गलत आने की सम्
15 फरवरी 2020
14 फरवरी 2020
IVF की प्रक्रिया आईवीएफ प्रकिया में इन-विट्रो-फर्टिलाइज़ेशन, गर्भधारण की एक आर्टिफिशयल सहायक प्रजनन प्रक्रिया के नाम से जानी जाती है। आईवीएफ उपचार एक प्रकार की फर्टिलिटी प्रकिया है।जिन महिला,पुरूषों के जोडों को प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने में समस्या होती है,वो आईवीएफअर्थात् टेस्ट ट्यूब बेबी की
14 फरवरी 2020
12 फरवरी 2020
सिक्वेनशियल एम्ब्रयो ट्रान्सफर एक एक ऐसी प्रक्रिया है जो महिलाओं के गर्भाशय में एम्ब्रयो ट्रांसप्लांट करने के लिए प्रयोग किया जाता है।इस प्रक्रिया में मुख्यता इन-विट्रो फर्टिलाइजेशनट्रीटमेंट में प्रयोग किया जाता है।इस परीक्षण में महिला के गर्भाशय में स्वस्थ और अच्छी तरह से तैयार किया हुआ एम्ब्रयो क
12 फरवरी 2020
27 फरवरी 2020
सेक्स पावर बढ़ाने के कुछ प्राकृतिक तरीकेअधिकांश लोगों को अपनी सेक्स क्रिया के दौरान पूर्ण आनंद नहीं मिलता है, इसका एक कारण सेक्स पावर या कामेच्छा की कमी है।लेकिन इस स्थिति में चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इस समस्या के लिए डॉक्टर की सलाह के साथ कई प्राकृतिक तरीके भी उपलब्ध हैं जिनका उपयोग य
27 फरवरी 2020
24 फरवरी 2020
हमारे शरीर की सुंदरता में हमारी ऊपरी त्वचा का बहुत महत्व होता हैं इसलिए इसकी देखभाल करना जरूरी होता हैं। शरीर की त्वचा के संक्रमणों में से एक्जिमा एक ऐसी बीमारी है जिसे हम स्किन डिसऑर्डर भी कहते है। जो शरीर के किसी भी हिस्से को प्रभावित
24 फरवरी 2020
11 फरवरी 2020
थकान और उसे होने वाली कमजोरी वर्तमान समय में होने वाली सबसे बड़ी समस्या है।आजकल हर व्यक्ति थकान से पीड़ित है ऐसे में यह बहुत ही जरूरी है कि थकान और उसे होने वाली सुस्ती का उपचार किया जाए ताकि हमारी कार्य करने की शक्ति दोबारा पहले जैसी सही जाये।कुछ घरेलू उपाय हैं जिनकी सहायता से हम अपनी सारी थकान और स
11 फरवरी 2020
27 फरवरी 2020
गर्भपात एक महिला को भावनात्मक रूप से तोड़ सकता है। एक महिला को पूरी तरह से स्वस्थ होने और फिर से गर्भवती होने में थोड़ा समय लग जाता है। गर्भपात के कुछ हफ्तों बाद ही आपका मासिक धर्म वापस सामान्य हो जाता है, इसलिए गर्भपात को लेकर कोई खास घबराने की ज़रूरत नहीं है।गर्भपात के
27 फरवरी 2020
10 फरवरी 2020
शुक्राणु डोनेट की प्रक्रिया कैसे होती है:- शुक्राणु एक स्वस्थ पुरुष के द्वारा एक शुक्राणु बैंक या प्रजनन क्लिनिक के द्वारा महिला को दान किया जाता है।डोनर स्पर्म का प्रयोग महिला के शरीर के अंदर एक अंडे को फर्टिल्लाइज़ करने के लिए किया जाता है।इसे मुख्यता डोनर इन्सेमिनेशन केनाम से जाना जाता है।शुक्राण
10 फरवरी 2020
17 फरवरी 2020
यदि गर्भवती महिलाएं किसी कारण से अपने खान-पान का सही से ध्यान नहीं रख पाती।जिसके कारण महिलाओं के शरीर में पर्याप्त मात्रा में पोषण नहीं मिलता है।पर्याप्त मात्रा में महिला को पोषण न मिल पाने की वजह से महिला का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य सही नहीं रह पाता है।जिसके कारण महिला गर्भावस्था के समय बहुत ही
17 फरवरी 2020
19 फरवरी 2020
शोध में पाया गया है की के गुदा संभोग से एसटीडी का खतरा 30 गुना तक बढ़ जाता है।इससे ह्यूमन पेपोलिना वायरस से अनल वाट्स और कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।साथ ही साथ क्लैमिडिया, गोनोरिया होने का खतरा भी अधिक बढ़ जाता है।सिफ्लिस और हर्पीस जैसे संक्रमण कंडोम का प्रयोग करने से
19 फरवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x