औरत होने की कैसी सजा रे ?

25 जनवरी 2015   |  डॉ. शिखा कौशिक   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

धुँधला धुँधला है सारा जहां रे ,
औरत होने की कैसी सजा रे ?
दिल के सब अरमां धूं -धूं कर जलते ,
घूँघट के भीतर कितना धुँआ रे !
..................................
कैसी ले किस्मत दुनिया में आती ,
खिलने से पहले ही ये है मुरझाती ,
ये तो हंसकर है सब कुछ सह जाती ,
अपने आंसू भी खुद ही पी जाती ,
इसको लगी किसकी ये बददुआ रे !
औरत होने की कैसी सजा रे ?
.........................................
मर्दों ने कैसा जाल बिछाया ?
आकर फंसी जिसमें औरत की काया ,
आहें भरे वो , कितनी भी तड़पे ,
ज़ालिम शिकारी को रहम नहीं आया ,
अबला बनाकर लेता मज़ा रे !
औरत होने की कैसी सजा रे ?
...................................
घूंघट से जिस दिन निकलेगी औरत ,
खुद अपनी किस्मत बदलेगी औरत ,
आँखों से आंसू फिर न बहेंगें ,
न ये नज़ारे धुंधले रहेंगें ,
हर दिल से निकलेगी ये ही सदा रे !
औरत होने की कैसी सजा रे ?


शिखा कौशिक 'नूतन'




अगला लेख: कन्या-दान -कहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x