कुछ और आग लगाओ - दिनेश डॉक्टर

27 फरवरी 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (260 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ और आग लगाओ - दिनेश डॉक्टर

बदकिस्मती से कुछ दिनों से फिर वैसे ही हिन्दू मुस्लिम वाले खतरनाक मेसेज आने शुरू हो गए थे । एक को ब्लॉक करो- दूसरा भेज देता था । उसको ब्लाक करो कोई तीसरा भेज देता था । मुझे पूरा यकीन है कि वैसे ही झूठ फैलाने वाले नफरत भरे मेसेज मुसलमानों के ग्रुप्स में भी भेजे जा रहे थे । कौन लोग थे ये ? भारतीय तो हो नही सकते । हिन्दू हो सकते है, मुसलमान हो सकते है, हो सकता है अमरीकी, रूसी , चाइनीज या पाकिस्तानी हों । भारतीय या हिंदुस्तानी तो बिल्कुल नही हो सकते । भारतीय होते तो ज़रूर सोचते कि अगर इस मुल्क के लोग मजहब या सियासत की वजह से नफरती जुनून में आपस में लड़ेंगे तो किस हद की अफरातफरी, कत्लेआम और विनाश होगा ! कितने लोग कपड़ों, दाढ़ी, चोटी या जनेऊ की वजह से मरेंगे !! कितने घरों में आग लगा कर लूटे जाएंगे ! कितनी बच्चियों बहनों और औरतों का बलात्कार होगा ! कितनी बसें जलेंगी ! कितनी पटरियां उखड़ेंगी ! इंटरनेट बन्द हो जाएगा ! बिजली पानी राशन का अकाल होगा !


कभी सोचा है - आधा घंटे को बिजली चली जाए तो हज़ारों फोन खड़क जाते है । नल में एक घंटा पानी न आये तो आसमान सर पर उठा लिया जाता है । सड़क पर कुछ देर जाम लग जाए तो दिमाग का पारा उबलने लगता है । बच्चों को घर लौटने में थोड़ी देर हो जाए तो दस्त लग जाते है और धड़कने बढ़ जाती है ।

जिन मुल्कों में राजनीतिक, जातीय या धार्मिक संघर्ष हुए है - वहां का इतिहास भी पढ़ लेते । ये ऐसी जंगल की आग है जो बुझाए नही बुझती और वश से बाहर हो जाती है । क्या इस तरह के नफरत भरे, झूठे और गैरजिम्मेदार मेसेज फारवर्ड करने वाले इस देश को यूगोस्लाविया बनाना चाहते है जो कई टुकड़ों में बंटने से पहले सालों मौत और बर्बादी की दहशत के मंजर का गवाह बना ।


कुछ घंटो की तकलीफ लोगों से बरदाश्त नही होती । कौन है वे लोग जो इस मुल्क के नागरिकों को बरसों तकलीफ में डालकर इसकी बर्बादी की साजिश कर रहे थे और हैं? जिन्हें आम लोगों की जेबों में पैसा, स्कूल में पढ़ते बच्चे, सुकून की ज़िंदगी, हर हाथ में मोबाइल और अपने जीवन को कड़ी मेहनत और संघर्ष करके सुधारते लोग, बच्चों को चैन से पालती माएँ, कालेज जाती नौजवान पीढ़ी बर्दाश्त नही हो रही थी और है । होगा क्या ? दस बीस पचास हज़ार लोग मरेंगे - लाखोँ बर्बाद होंगे । रहना तो फिर भी इसी देश में पड़ेगा पर हर तरफ नफरत की खाइयां और चौड़ी हो जाएंगी । दिलों में दरारें और गहरी हो जाएंगी । और जिस गंगा जमुनी तहजीब की बातें होती है उन्ही गंगा जमुना के प्रदूषित जल में सालों तक लाशें तैरंगी और खून बहेगा । यह मुल्क न तो सदियों पुरानी 'ग़ज़वाये हिन्द' की कबीलाई सोच का निशाना है और न ही इस देश के बाशिंदों में किसी खालिस पूजा पाठ करने वाले हिन्दू राष्ट्र का DNA मौजूद है ।


अगर मेरी बात समझ नही आती तो ठीक है फिर ! कर दो बर्बाद इस मुल्क की शांति को उन मुल्कों की तरह जहां बरसों से लोगों को चैन की नींद नसीब नही हुई, चेहरों पर भोली मुस्कराहटें नही खेली और मौत का साया कभी दूर नही हटा । मैं एक बार फिर उन भोले और नासमझ दोस्तों से दरख्वास्त करूंगा कि सोशल मीडिया पर हर पोस्ट को फारवर्ड करने से पहले जांच लीजिए कि उसका मकसद क्या है ! वो पोस्ट कहीं आपको कट्टर हिन्दू, कट्टर मुसलमान बना कर इस देश को बरबाद करने में औज़ार तो नही बनाना चाहती ?


यार समझो ! कुछ लोग हज़ारों मील दूर बैठे बैठे सारा सोचा समझा नफरतों का सच दिखने वाला बेहद झूठा खतरनाक खेल - खेल रहें है और हम दिमाग को ताक पर रक्खे इस मजहबी और सियासी साजिश के शिकार हो रहे हैं , उनकी बेसिर पैर की झूठी पोस्ट्स को बेवकूफ बन कर बिना सोचे समझे फारवर्ड किये जा रहे है । सब कुछ लुटा के होश में आये तो क्या किया ? मेरे हमवतनों अभी भी मौक़ा है सम्भल जाओ । दिल को छुए तो इस पोस्ट को सब लोगों से शेयर करो ।

अगला लेख: मुझे मार दीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x