आत्मसंयम

27 फरवरी 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (281 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्मसंयम

आत्मसंयम

बन्धुरात्मात्मनस्तस्य येनात्मैवात्मना जितः |
अनात्मनस्तु शत्रुत्वे वर्तेतात्मैव शत्रुवत्‌ ||

जितात्मनः प्रशान्तस्य परमात्मा समाहितः |
शीतोष्णसुखदुःखेषु तथा मानापमानयोः ||

श्रीमद्भगवद्गीता 6/6,7

जिसने मन को वश में कर लिया उसके लिए उसका अपना मन ही परम मित्र बन जाता है, लेकिन जिसका मन ही वश में नहीं उसके लिए उसका मन ही परम शत्रु बन जाता है | मन को वश में किये व्यक्ति को परम शान्ति स्वरूप परमात्मा का अनुभव होता है और उसके लिए सर्दी-गर्मी, सुख-दुःख, मानापमान सब एक सामान हो जाते हैं |

इसी बात पर एक बात का स्मरण हो आया | सुबह के काम काज से निबट कर चाय का प्याला लेकर बैठी ही थी कि एक पड़ोसी महिला का फोन आ गया पूर्णिमा जी, आपके यहाँ आ गई बाई ?” ऐसा आज ही नहीं हुआ, कई बार होता है | ज़रा सी भी देर हो जाए कामवाली के आने में तो फोन आने शुरू हो जाते हैं | और यदि काम वाली आ जाती है और उससे उन महिलाओं की बात कराते हैं तो फोन पर ही उसे डाटना शुरू हो जाता है देर से आने के लिये | मैं सोचने लगती हूँ कि उनके इस गुस्से का कामवाली पर तो कोई असर हुआ नहीं ? सत्य तो यह है कि उस पर कोई प्रभाव उनके गुस्से का नहीं होता, हाँ उन महिलाओं की अपनी ऊर्जा का ह्रास अवश्य होता है | इसी तरह कहीं ट्रैफिक सिगनल पर देख लीजिये लाल बत्ती होगी लेकिन पीछे खड़ी गाड़ियों के हॉर्न बजने लगेंगे जबकि निकलना होगा बत्ती हरी होने पर ही, पर सिगनल पर खीझ ज़रूर निकालेंगे | कई बार तो ऐसी घटनाएँ भी सुन मिलती हैं कि किसी ने अपनी कार आगे निकाल ली तो उस पर जानलेवा हमला ही कर दिया | ऐसे ही न जाने कितनी बातें दिन प्रतिदिन के जीवन में देखने को मिलती हैं | और इस सबका कारण बहुत हद तक लोगों में धैर्य का अभाव है, आत्मसंयम का अभाव है, जिसके कारण क्रोध तथा अन्य अनेक प्रकार के विकार जन्म लेते हैं |

आत्मसंयम अर्थात मन को वश में करना, इन्द्रियों को वश में रखना | मन यदि वश में है तो किसी भी प्रकार का लोभ मोह व्यक्ति को पथ भ्रष्ट नहीं कर सकता | मनुष्य की पहचान उसके मन से ही होती है और मन की गति बहुत तीव्र होती है | मन पर नियन्त्रण रखने वाला व्यक्ति आत्मसंयम के साथ जीवन सुखपूर्वक व्यतीत करता है, किन्तु अनियन्त्रित गति के साथ दौड़ रहे मन के साथ जो चलता है उसे भारी कष्ट उठाना पड़ सकता है, उसी प्रकार जैसे अनियन्त्रित गति से वाहन दौड़ाने पर दुर्घटना की सम्भावना होती है | उदाहरण के लिये एक छात्र को ही ले लीजिये | अपना कोर्स तैयार करते समय, परीक्षा की तैयारी करते समय यदि उसका मन इधर उधर भागेगा तो उसका मन पढ़ाई में नहीं लगेगा और परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने से वंचित रह जाएगा | परीक्षा भवन में भी बहुत से विद्यार्थी सब कुछ याद होते हुए भी केवल इसीलिये मात खा जाते हैं कि प्रश्नपत्र सामने आते ही धैर्य खो बैठते हैं और जल्दी जल्दी प्रश्नपत्र हल करने की घबराहट में या तो आधा अधूरा करके आते हैं या फिर ग़लत उत्तर लिख कर आ जाते हैं | यदि पढ़ाई करते समय ही उन्हें अपने मन पर नियन्त्रण रखना, भावनाओं पर नियन्त्रण रखना, धैर्य के साथ प्रश्नों को समझ कर उनका उत्तर देने की शिक्षा दी जाए तो उनके प्रदर्शन में बहुत सुधार हो सकता है |

इस प्रकार आत्म संयम का अर्थ हुआ धैर्य | जीवन के हर क्षेत्र में धैर्यवान रहने की आवश्यकता है | प्रेम का क्षेत्र हो, व्यवसाय का क्षेत्र हो कोई भी क्षेत्र हो जब हम अपनी भावनाओं को उन्मुक्त रूप से प्रवाहित होने देते हैं तो अपनी बहुत सारी ऊर्जा समाप्त कर देते हैं | जो शक्ति कार्य करने में व्यय होनी चाहिये थी वह व्यर्थ की भावनाओं के प्रवाह में नष्ट हो जाती है | जब मन पूर्ण रूप से स्थिर एवं एकाग्र होता है तभी उसकी शक्ति सकारात्मक कार्यों में व्यय होती है | क्रोध, ईर्ष्या, द्वेष, लोभ, मोह, स्वार्थ ये सब मन के भटकने के ही कारण हैं | और मन की इस भटकन के साथ कोई भी कार्य एकाग्रता से नहीं हो पाता |

अपने ध्येय की प्राप्ति के प्रयास में मन की एकाग्रता के लिए हम सभी सबसे पहले आत्म संयम का प्रयास करें यही कामना है...

अगला लेख: सूर्य का मीन में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मार्च 2020
डॉ दिनेश शर्मा के यात्रा वृत्तान्त की एक और कड़ी... बहुत सुन्दर औरमार्मिक...लाल छतरी वाली लड़की : दिनेश डाक्टरसबसे पहले मैंने उसे शाम के समय सड़क के किनारे बने मंदिर कीसीढ़ियों के पास देखा था | हाथ में फूल, अगरबत्तीलिए वह अपने आराध्य की प्रतिमा के सामने आंख बन्द किये बड़े श्रद्धा भाव से चुपचापकुछ फुसफुसा
03 मार्च 2020
20 फरवरी 2020
शिव पञ्चाक्षर स्तोत्रम्कल फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी, महाशिवरात्रि का पावन पर्व... सभी को महाशिवरात्रि की हार्दिकशुभकामनाएँ...भोले बाबा के अभिषेक के लिए पारम्परिकरूप से कुछ विशिष्ट वस्तुओं का उपयोग किया जाता है | जिनमें प्रमुख वस्तुओं के नामतथा उनकी उपादेयता निम्नवत है...सुगन्धित जल : भौतिक सुख सुविधाओं
20 फरवरी 2020
23 फरवरी 2020
24 फरवरी से 1 मार्च 2020 तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफलगणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई औरशुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत है इस सप्ताह का सम्भावित राशिफल...नीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सव
23 फरवरी 2020
13 फरवरी 2020
पुरुष का प्रेम समुंदर सा होता है..गहरा, अथाह..पर वेगपूर्ण लहर के समान उतावला। हर बार तट तक आता है, स्त्री को खींचने, स्त्री शांत है मंथन करती है, पहले ख़ुद को बचाती है इस प्रेम के वेग से.. झट से साथ मे नहीं बहती। पर जब देखती है लहर को उसी वेग से बार बार आते तो समर्पित हो जाती है समुंदर में गहराई तक,
13 फरवरी 2020
26 फरवरी 2020
आज काफी दिनों के बाद शब्दनगरी के लेखों परगई तो डॉ दिनेश शर्मा के कुछ और यात्रा संस्मरण देखे... आइये हम भी उनके साथ कुछयात्राएं कर लें...नशा माटो के शराबखाने का समुद्रके किनारे चलते चलते रास्ते में एक शान्त सी दूकान देखी तो कुछ पीने और सुस्तानेके इरादे से उसमें ही घुस गया | यह दरअसल एक शराब खाना था ज
26 फरवरी 2020
28 फरवरी 2020
होलाष्टकसोमवार दो मार्च को दिन में 12:53 केलगभग विष्टि करण और विषकुम्भ योग में फाल्गुन शुक्ल अष्टमी तिथि का आरम्भ हो रहाहै | इसी समय से होलाष्टक आरम्भ हो जाएँगे जो सोमवार नौमार्च को होलिका दहन के साथ ही समाप्त हो जाएँगे | नौ मार्च कोसूर्योदय से पूर्व तीन बजकर चार मिनट के लगभग पूर्णिमा तिथि का आगमन ह
28 फरवरी 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x