हर्दी के गुण दोष

05 मार्च 2020   |  Ramakant Mishra   (272 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रिय स्नेही मित्रों जय श्रीकृष्णा


*हल्दी के गुण व दोष*


आज आपको खेत में उगाई गई हल्दी जिसमे भरपूर करक्युमिन व टरमरोन नामक तत्व पाये जाते है के लाभ व दोष बहुत ही सरल शब्दों में बताने का प्रयास कर रहें है।



मित्रों हमारी सनातन संस्कृति के ऋषि-मुनि न केवल ज्ञान-धर्म का प्रचार-प्रसार करते थे,अपितु महान अनुसंधान भी किया करते थे,इसी क्रम में उन्होंने मानव जीवन को निरोगी व दीर्धायु बनाने के लिये कुछ कन्दों को भी हमारे भोजन में शामिल कराया इसमे एक महत्वपूर्ण कंद है **हल्दी**



यह हल्दी केवल भोज्यपदार्थ ही बनकर न रह जाये और इसकी उपयोगिता कम न हो जाये इस कारण इसको हमारी पूजा की थाली से भी जोड़ दिया,अर्थात हमारा कोई भी मंगल कार्य या पूजा इसके बिना अधूरी ही मानी जाती है।


**हल्दी के गुण**


1:- यकृत(लिवर) के बिषैले तत्वों को साफ करती है।

2:- मधुमेह के रोगियों को लाभ पहुँचाती है।

3:-शरीर मे रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है।

4:-कर्क रोग(कैंसर)से बचाब करती है।

5:- बजन को नियंत्रण करने में सहायक है।

6:- पाचनतंत्र को मजबूती देती है।

7:- शरीर की सूजन को कम करती है।

8:- एंटीबायोटिक व एंटीऑक्सीडेंट तथा एंटीफंगल होती है।

9:- ह्रदय रोगियों को लाभदायक है।

10:- दिमाग को चुस्त-दुरुस्त रखती है।

11:- जोड़ो व नसों के दर्द में लाभकारी है।

12:- मासिकधर्म के दर्द व रक्तस्राव को नियंत्रण करती है।

13:- गठिया रोग में राहत देती है।

14:- खाँसी-जुकाम में लाभकारी है।

15:-चेहरे की त्वचा पर कील-मुहांसों में लाभदायक है।

16:- सोरायसिस रोग में लाभ देती है और प्राकृतिक एन्टीसेफ्टिक है।

17:- बुढ़ापे की प्रकिर्या को धीमा करती है और जल्दी झुर्रियां नही आने देती।

18:- सनबर्न में लाभदायक है।

19:- स्ट्रेच मार्क्स (गर्भावस्था में खुजली या बाद में ढीली हुई त्वचा के निशानों)को धीरे-धीरे समाप्त करती है।

20:- पिगमेंटेशन व कटी-फ़टी एड़ीओ को दमकाकर सुंदरता बढ़ाती है।

21:- प्राकृतिक संसाधनों से उपलब्ध शहद के मिला कर प्रयोग करने पर संजीवनी के समान लाभ प्रदान करती है।

** हल्दी के दोष**


इन लोगो को हल्दी बिना किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक या योग्य वैध के परामर्श बिना नही खानी चाहिए।



किडनी स्टोन वालों को,गर्भवती महिलाओं को,पीलिया के रोगियों को,एनीमिया के रोगियों को,शुक्राणुओं व कीमोथेरेपी करा रहे व्यक्तियों को।

बिशेष:- **हल्दी के गुण-दोषों की अधिक जानकारी के लिये आप 9557782828 पर दोपहर 1 बजे से 2 बजे के बीच विस्तार से चर्चा कर सकते है,इति**


तँत्र-शास्त्रों को जानने वाले जो हल्दी की संजीवन/मारक क्षमता को सिद्ध करना जानते है के लिये अम्बा हल्दी भी उपलब्ध है।


(लेख अच्छा लगे तो कमेण्ट बाक्स में अपनी से अवगत अवश्य कराएं एवं शेयर भी करें।)


आपका अपना - पं0 रमाकान्त मिश्र (वकील)

कोइरीपुर सुलतानपुर

अगला लेख: विजेथुआ धाम



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x