महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

08 मार्च 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (3716 बार पढ़ा जा चुका है)

महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की सभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

सारी की सारी प्रकृति ही नारीरूपा है अपने भीतर अनेकों रहस्य समेटे शक्ति के अनेकों स्रोत समेटे - जिनसे मानवमात्र प्रेरणा प्राप्त करता है... और जब सारी प्रकृति ही शक्तिरूपा है तो भला नारी किस प्रकार दुर्बल या अबला हो सकती है ?

आज की नारी शारीरिक, मानसिक, अध्यात्मिक और आर्थिक हर स्तर पर पूर्ण रूप से सशक्त और स्वावलम्बी है और इस सबके लिए उसे न तो पुरुष पर निर्भर रहने की आवश्यकता है न ही वह किसी रूप में पुरुष से कमतर है |

पुरुष – पिता के रूप में नारी का अभिभावक भी है और गुरु भी, भाई के रूप में उसका मित्र भी है और पति के रूप में उसका सहयोगी भी - लेकिन किसी भी रूप में नारी को अपने अधीन मानना पुरुष के अहंकार का द्योतक है | हम अपने बच्चों को बचपन से ही नारी का सम्मान करना सिखाएँ चाहे सम्बन्ध कोई भी हो... पुरुष को शक्ति की सामर्थ्य और स्वतन्त्रता का सम्मान करना चाहिए...

देखा जाए तो नारी सेवा और त्याग का जीता जागता उदाहरण है, इसलिए उसे अपने सम्मान और अधिकारों की किसी से भीख माँगने की आवश्यकता नहीं...

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की सभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ - इस आशा और विश्वास के साथ कि हम अपने महत्त्व और प्रतिभाओं को समझकर परिवार, समाज और देश के हित में उनका सदुपयोग करेंगी...

इसी कामना के साथ सभी को आज का शुभ प्रभात...

मुझमें है आदि, अन्त भी मैं, मैं ही जग के कण कण में हूँ |

है बीज सृष्टि का मुझमें ही, हर एक रूप में मैं ही हूँ ||

मैं अन्तरिक्ष सी हूँ विशाल, तो धरती सी स्थिर भी हूँ |

सागर सी गहरी हूँ, तो वसुधा का आँचल भी मैं ही हूँ ||

मुझमें है दीपक का प्रकाश, सूरज की दाहकता भी है |

चन्दा की शीतलता मुझमें, रातों की नीरवता भी है ||

मैं ही अँधियारा जग ज्योतित करने हित खुद को दहकाती |

और मैं ही मलय समीर बनी सारे जग को महका जाती ||

मुझमें नदिया सा है प्रवाह, मैंने न कभी रुकना जाना |

तुम जितना भी प्रयास कर लो, मैंने न कभी झुकना जाना ||

मैं सदा नई चुनती राहें, और एकाकी बढ़ती जाती |

और अपने बल से राहों के सारे अवरोध गिरा जाती ||

मुझमें है बल विश्वासों का, स्नेहों का और उल्लासों का |

मैं धरा गगन को साथ लिये आशा के पुष्प खिला जाती ||

अगला लेख: १६ से २२ मार्च तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 फरवरी 2020
शुक्र का मेष में गोचर शनिवार 29 फरवरी यानी फाल्गुन शुक्लपञ्चमी 25:33 (अर्द्धरात्रि में एक बजकर तैंतीस मिनट) केलगभग बालव करण और ब्रह्म योग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि,विवाह, परिवार सुख, कला,शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता,राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र मीन राशि से निकल
27 फरवरी 2020
14 मार्च 2020
16 से 22 मार्च2020 तक का सम्भावित साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक ग
14 मार्च 2020
12 मार्च 2020
ने
प्रिय स्नेही मित्रों जय श्रीकृष्णा, सादर नमस्कारनेता नेता में फर्क(आज मैं कुमार प्रियांक के लेख को अपने ब्लाग के माध्यम से आप लोगो के समक्ष एक घटना का जिक्र करने जा रहा हूँ जो कि हमें बिह्वल कर दिया है।) 1990 की गर्मियों की बात है। इंडियन रेलवे (ट्रैफिक) सर्विस की दो महिला प्रशिक्षु लखनऊ से
12 मार्च 2020
22 मार्च 2020
सभी के लिए 23 मार्च से 29मार्च तक का साप्ताहिक राशिफलइन दिनों सारा विश्व कोरोना जैसीमहामारी से जूझ रहा है, ऐसे में सभी का सारे काम रुके हुए हैं | सबसे पहलीआवश्यकता है इस महामारी से मुक्ति प्राप्त करने की, न कि अपने कार्य अथवा किसीअन्य विषय में सोचने विचारने की | हम सभी आत्म संयम का परिचय दें और घर स
22 मार्च 2020
18 मार्च 2020
मंगल का मकर में गोचरचैत्र कृष्णचतुर्दशी यानी रविवार 22 मार्च को दिन में दो बजकर चालीस मिनट के लगभग विष्टि करण और शुभ योग में मंगलका गोचर अपनी उच्च राशि मकर में होगा | सूर्योदय के समय त्रयोदशी तिथि रहेगी, किन्तु मंगल के गोचर के समय चतुर्दशी तिथि होगी | इस समय मंगल उत्तराषाढ़नक्षत्र पर होगा | मकर राशि
18 मार्च 2020
21 मार्च 2020
🙏😊 एक विनम्र निवेदन 🙏😊आप सभी से निवेदन है कृपा करके कलघरों में ही रहें, और सम्भव हो तो घरोंमें आपकी सहायता के लिए आने वाली महिलाओं (यानी कामवाली बाई जिन्हें आमतौर पर बोलतेहैं), ड्राइवरों, प्रेस वालों, कार साफ़करने वालों आदि की भी हार्दिक धन्यवाद सहित कल छुट्टी कर दें - लेकिन उनका वेतन नकाटें । ऐस
21 मार्च 2020
06 मार्च 2020
रंग की एकादशी – कुछ भूली बिसरी यादेंआज फाल्गुनशुक्ल एकादशी है, जिसे आमलकी एकादशी और रंग की एकादशी के नाम से भी जाना जाता है | इस दिनआँवले के वृक्ष की पूजा अर्चना के साथ ही रंगों का पर्व होली अपने यौवन मेंपहुँचने की तैयारी में होता है | बृज में जहाँ होलाष्टकयानी फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से होली के उत्सव
06 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x