होलिका दहन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

09 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (321 बार पढ़ा जा चुका है)

होलिका दहन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारा देश भारत पर्व एवं त्योहारों का देश है , यहां वर्षपर्यंत पर्व एवं त्योहार मनाए जाते रहते हैं | सबसे विशेष बात यह हैं कि सनातन धर्म के प्रत्येक त्यौहार एवं पर्वों में मानवता के लिए एक दिव्य संदेश छुपा होता है | इन्हीं त्योहारों में प्रमुख है रंगों का त्योहार होली | होली के दिन अनेक प्रकार के रंग एक में मिश्रित हो जाते हैं जो कि अनेकता में एकता का दिव्य संदेश देते है | होली के एक दिन पहले होलिका दहन की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है | पौराणिक मान्यताओं के अनुसार हिरण्यकश्यप के पुत्र प्रहलाद अपने दैत्यकुल परंपरा के विपरीत जाकर के भगवान श्री हरि का नाम स्मरण करने लगे | तब उस बालक को मारने के लिए हिरण्यकश्यप ने अनेकानेक उपाय किये , परंतु भक्त प्रहलाद ईश्वर के प्रति विश्वास की डोर को पकड़े रहा और उसका बाल भी बांका ना हुआ | हिरणाकश्यप की बहन होलिका को अग्नि में न जलने का वरदान प्राप्त था इसलिए उसने प्रहलाद को अपनी गोदी में बिठा कर के उस बालक को जलाने का प्रयास किया , परंतु परिणाम इसके विपरीत हुआ | प्रहलाद तो बच गए परंतु बुआ होलिका जल गई | तब से आज तक होली के एक दिन पहले होलिका दहन करने की परंपरा मनाई जाती रही है | होलिका दहन करने के पीछे जो रहस्य छुपा है उस पर ध्यान देना परम आवश्यक है | होलिका नकारात्मकता का प्रतीक है और प्रहलाद दृढ़ विश्वास का , यदि मनुष्य में किसी भी कार्य के प्रति दृढ़ विश्वास है तो नकारात्मकता स्वयं जलकर भस्म हो जाती है | अनेकों प्रकार की आधि - व्याधियां एवं रुकावटें भी व्यक्ति का मार्ग नहीं रोक पाती | जिस प्रकार प्रहलाद को भगवान श्रीहरि के चरण कमलों में अटूट विश्वास था उसी प्रकार प्रत्येक मनुष्य यदि श्रद्धा एवं विश्वास के साथ कोई भी कार्य करें दो होलिका रूपी नकारात्मकता उसे ना तो रोक सकती है और ना जला सकती है , और जिसका विश्वास डगमगा जाता है वही नकारात्मकता की होलिका में दहन हो जाता है | इसलिए प्रत्येक मनुष्य को कोई भी कार्य सकारात्मकता के साथ करते हुए पूर्ण विश्वास बनाए रखना चाहिए तभी वह प्रहलाद की भाँति सफल हो सकता है |*


*आज हमारे देश के लगभग प्रत्येक गांव में होलिका दहन की परंपरा मनाई जाएगी , परंतु आज हम कुछेक लकड़ियां इकट्ठा करके उनको जलाने तक ही सीमित ही रह गए हैं | होलिका के वास्तविक रहस्य एवं तथ्यों को ना हम जानते हैं और ना ही जानना चाहते हैं , यही कारण है कि आज नकारात्मकता रूपी होलिका प्रायः सभी को निरंतर दग्ध कर रही है | आज देश का जो परिवेश दिखाई पड़ रहा है उसमें नकारात्मकता अधिक प्रभावी दिख रही है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" होलिका दहन करके होली मनाने वाले सभी सनातन धर्मावलंबियों से यही कहना चाहूंगा कि होलिका दहन करने का अर्थ तभी पूर्ण हो सकता है जब अपने जीवन की संपूर्ण नकारात्मकता को निकाल कर बाहर कर दिया जाए और यह तभी संभव है जब मनुष्य प्रहलाद की भांति अपने लक्ष्य के प्रति अटूट श्रद्धा / विश्वास बनाए रखेगा अन्यथा किंचित लपटों से ही मनुष्य के विचार डगमगाने लगते हैं और वह सकारात्मकता को स्पर्श भी नहीं कर पाता है | दिव्य होलिकोत्सव के एक दिन पहले जब होलिका दहन करने जायं तो आपसी वैमनस्यता , कटुता एवं नकारात्मकता का दहन भी करने का प्रयास करें तभी होली मनाना सार्थक कहा जा सकता है अन्यथा यह मात्र दिखावा ही कहा जाएगा | सनातन धर्म इतना दिव्य है कि इसके प्रत्येक त्योहार एक दिव्य संदेश प्रस्तुत करते हैं परंतु हम उन संदेशों को ना तो समझना चाहते हैं ना ही उनका पालन करना चाहते हैं | यही कारण है कि आज सनातन धर्म के अनुयायी अपने पथ से भ्रष्ट होते जा रहे हैं |*


*होली के रंग में रंगने के पहले जीवन के समस्त विकारों कुविचारों एवं कुसंस्कारों का दहन करने के बाद जब हम होली मनाएंगे तो मुखमंडल के साथ-साथ जीवन भी दिव्य अलौकिक प्रकाश से प्रकाशित हो जाएगा |*

अगला लेख: एकता में शक्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*सृष्टि के आदिकाल में ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि करते हुए नर नारी का जोड़ा उत्पन्न किया , जिनके समागम से सन्तानोत्पत्ति हुई और सृष्टि गतिशील हुई | मानव जीवन में सन्तान उत्पन्न करके पितृऋण से उऋण हेने की परम्परा रही है | सन्तान उत्पन्न करने के लिए पुरुष एवं नारी वैवाहिक सम्बन्ध में बंधकर पति - पत्नी
03 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
18 मार्च 2020
*सनातन धर्म में त्रिदेव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) प्रमुख देवता माने गये हैं | ब्रह्मा जी सृजन , शिव जी संहार एवं श्रीहरि विष्णु को संसार का पालन करने वाला बताया गया है | संसार का पालन करने के क्रम में सृष्टि को अनेकानेक संकटों से बचाने एवं धर्म की पुनर्स्थापना करने
18 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*किसी भी समाज और राष्ट्र का निर्माण मनुष्य के समूह से मिलकर होता है और मनुष्य का निर्माण परिवार में होता है | परिवार समाज की प्रथम इकाई है | जिस प्रकार परिवार का परिवेश होता है मनुष्य उसी प्रकार बन जाता है इसीलिए परिवार निर्माण की दिशा में एक विकासशील व्यक्तित्व का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित होना चा
03 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*सृष्टि के आदिकाल में ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि करते हुए नर नारी का जोड़ा उत्पन्न किया , जिनके समागम से सन्तानोत्पत्ति हुई और सृष्टि गतिशील हुई | मानव जीवन में सन्तान उत्पन्न करके पितृऋण से उऋण हेने की परम्परा रही है | सन्तान उत्पन्न करने के लिए पुरुष एवं नारी वैवाहिक सम्बन्ध में बंधकर पति - पत्नी
03 मार्च 2020
29 फरवरी 2020
मृ
*परमपिता परमात्मा ने इस समस्त सृष्टि में जीवों की रचना की , जीवन देने के बाद जीवात्मा को एक निश्चित समय के लिए इस पृथ्वी लोक पर भेजा | जिस जीवात्मा का समय पूर्ण हो जाता है वह किसी न किसी बहाने से इस धरा धाम का त्याग कर देता है | नश्वर श
29 फरवरी 2020
16 मार्च 2020
*इस संसार का सृजन करने वाले परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को सब कुछ दिया है , ईश्वर समदर्शी है उसने न किसी को कम दिया है और न किसी को ज्यादा | इस सृष्टि में मनुष्य के पास जो भी है ईश्वर का ही प्रदान किया हुआ है , भले ही लोग यह कहते हो कि हमारे पास जो संपत्ति है उसका हमने अपने श्रम और बुद्धि से प्राप्त
16 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*किसी भी समाज और राष्ट्र का निर्माण मनुष्य के समूह से मिलकर होता है और मनुष्य का निर्माण परिवार में होता है | परिवार समाज की प्रथम इकाई है | जिस प्रकार परिवार का परिवेश होता है मनुष्य उसी प्रकार बन जाता है इसीलिए परिवार निर्माण की दिशा में एक विकासशील व्यक्तित्व का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित होना चा
03 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
21 मार्च 2020
*सनातन धर्म शास्वत तो है ही साथ ही दिव्य एवं अलौकिक भी है | सनातन धर्म में ऐसे - ऐसे ऋषि - महर्षि हुए हैं जिनको भूत , भविष्य , वर्तमान तीनों का ज्ञान था | इसका छोटा सा उदाहरण हैं कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी | बाबा तुलसीदास जीने मानस के अन्तर्गत उत्तरकाण्ड में कलियुग के विषय में ज
21 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x