मानव एवं प्रकृति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

12 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (301 बार पढ़ा जा चुका है)

मानव एवं प्रकृति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में मनुष्य जैसा कर्म करता उसको वैसा ही फल मिलता है | किसी के साथ मनुष्य के द्वारा जैसा व्यवहार किया जाता है उसको उस व्यक्ति के माध्यम से वैसा ही व्यवहार बदले में मिलता है , यदि किसी का सम्मान किया जाता है तो उसके द्वारा सम्मान प्राप्त होता है और किसी का अपमान करने पर उससे अपमान ही मिलेगा | ठीक उसी प्रकार इस संसार में सब कुछ प्रदान करने वाली प्रकृति मानव मात्र की माता है , क्योंकि उसी के माध्यम से मानव शरीर के ढांचे से लेकर के मानसिक विकास तक की जीवन को बनाने वाली अनेकानेक उपलब्धियां प्राप्त हुई हैं | जीवन जीने के लिए आवश्यक सुविधाएं एवं साधनों के भंडार प्रकृति से ही प्राप्त हुए हैं | आज मनुष्य जिन उपलब्धियों पर गर्व कर रहा है वह सब प्रकृति की ही देन है , परंतु जल्दी से जल्दी अधिकाधिक प्राप्त कर लेने की मंशा के कारण ही मनुष्य प्रकृति का दोहन करने लगा जिससे प्रकृति का संतुलन बिगड़ने लगा और अदृश्य जगत में बिक्षोभ की स्थिति उत्पन्न होने लगी | इसके कारण पर विचार किया जाय कि प्रकृति का संतुलन क्यों विगड़ रहा है तो यही परिणाम निकल कर आता है कि जिस प्रकार एक गाय का बच्चा जब तक धीमी गति से अपनी मां का दुग्धपान करता है तब तक वह गाय भी उसे प्रेम से दुग्धपान कराती है और चाटती रहती है , परंतु जब बच्चा थोड़ा बड़ा हो जाता है और वह दुग्धपान करने में उद्दंडता करने लगता है और अपनी मां के स्तनों को काटकर लहूलुहान करने लगता है तब गाय भी अपना व्यवहार बदल देती है और उसके ऐसा करने पर अपनी लातों की ठोकरों से उस बच्चे को अलग कर देती है | कहने का तात्पर्य है कि जब एक पक्ष का व्यवहार बदल जाता है तो दूसरे पक्ष का व्यवहार बदलने में तनिक भी समय नहीं लगता | यही उदाहरण प्रकृति के लिए भी दिया जा सकता है जब तक मनुष्य प्रकृतिप्रदत्त साधनों का उचित उपयोग करता रहता है तब तक प्रकृति भी सहयोगी की भूमिका में रहती है परंतु जब मनुष्य के द्वारा प्रकृति के दोहन का अनाधिकृत प्रयास किया जाता है तो प्रकृति असंतुलित होकर के मनुष्य के प्रति भी वैसा ही व्यवहार करने लगती है | जैसा व्यवहार आज मनुष्य प्रकृति के साथ कर रहा है बदले में प्रकृति भी उसी प्रकार के व्यवहार मनुष्य के साथ निभा रही है इसलिए प्रकृति के परिवर्तन पर कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए |*


*आज के परिवेश में मनुष्य के द्वारा अनुचित प्रयोग प्रकृति के साथ अपनाया जा रहा है | तेजी से चलने वाले वाहनों एवं कारखानों के लिए भूगर्भ से तेल एवं कोयला जैसे खनिज पदार्थों का दोहन प्रतिपल असाधारण गति से हो रहा है यही कारण है कि वायुमंडल प्रदूषण से भऱता चला जा रहा है | आवश्यकता से अधिक भूगर्भीय पदार्थों का दोहन करने से उनका भंडार भी कम हो रहा है तथा जब पृथ्वी के अंतस्थल से इन पदार्थों को निकाल लिया जा रहा है तो भूकंप आदि की संभावना अधिक बनती चली जा रही है और समय-समय पर इसका प्रकोप मानव मात्र को झेलना भी पड़ रहा है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि जिस गति से प्रकृति के साथ अनुचित व्यवहार मनुष्य के द्वारा किया जा रहा है उसी गति से प्रकृति भी मनुष्य के साथ दुर्व्यवहार कर रही है | वर्षपर्यंत होने वाली बरसात किसानों के लिए बिजली गिरा रही है , वहीं अनेक प्रकार के रोगों को भी जन्म देने में सहायक हो रही है | आज प्रकृति का अत्यधिक दोहन करके नये पदार्थों को प्राप्त करना आधुनिक वैज्ञानिकों को अपनी सफलता भले ही लग रही हो परंतु यदि इसके दूरगामी परिणाम देखे जायं तो यह समस्त विश्व के लिए घातक सिद्ध होने वाला है | वायु में प्रदूषण फैल गया है , अंतरिक्ष में मानव निर्मित उपग्रहों की संख्या बढ़ती जा रही है , जल की शुद्धता समाप्त हो रही है , धरती रेगिस्तान बनती जा रही है , परंतु मनुष्य अपने उद्दंडता से बाज नहीं आ रहा है | मनुष्य को सचेत करने के लिए समय-समय पर प्रकृति संदेश देती रहती है परंतु अपनी सफलता के मद में चूर हुआ मनुष्य उसके संदेश को समझ नहीं पा रहा है और यदि मनुष्य ने अपने हाथ पीछे ना खींचे तो आने वाला समय बहुत ही भयावह होने वाला है | यदि मनुष्य प्रकृति से अपने लिए सुंदर वातावरण एवं सुंदर व्यवहार की कामना करता है तो उसे भी प्रकृति के साथ समुचित व्यवहार करना ही होगा |*


*प्रकृति शरण में वापस लौटने का उद्घोष जब जन-जन के मन में प्रवेश करेगा तो प्रकृति पर आधिपत्य जमाने की वर्तमान उद्दंडता को पलायन करना ही पड़ेगा प्रकृति प्रकोप से बचने के लिए मनुष्य को ऐसा करने की आवश्यकता है |*

अगला लेख: एकता में शक्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 मार्च 2020
*हमारा देश भारत आदिकाल से संस्कृति एवं शिक्षा के विषय में उच्च शिखर पर रहा है | विश्व के लगभग समस्त देशों ने हमारे देश भारत से शिक्षा एवं संस्कृति का ज्ञान अर्जित किया है | इतिहास के पन्नों को देखा जाय तो जितना दिव्य इतिहास हमारे देश भारत का है वह अन्यत्र कहीं भी नहीं देखने को मिलता है | आदि काल से
11 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*किसी भी समाज और राष्ट्र का निर्माण मनुष्य के समूह से मिलकर होता है और मनुष्य का निर्माण परिवार में होता है | परिवार समाज की प्रथम इकाई है | जिस प्रकार परिवार का परिवेश होता है मनुष्य उसी प्रकार बन जाता है इसीलिए परिवार निर्माण की दिशा में एक विकासशील व्यक्तित्व का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित होना चा
03 मार्च 2020
14 मार्च 2020
*भारतीय सनातन परम्परा में जीवन के बाद की भी व्यवस्था बनाई गयी है | सनातन की मान्यता के अनुसार जीवन दो प्रकार का है प्रथम तो इहलौकिक एवं दूसरा पारलोकिक | मनुष्य इस धरती पर पैदा होता है और एक जीवन जीने के बाद मरकर इसी मिट्टी में मिल जाता है | यह मनुष्य का इहलौकिक जीवन है जहां से होकर मनुष्य परलोक को ज
14 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*सृष्टि के आदिकाल में ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि करते हुए नर नारी का जोड़ा उत्पन्न किया , जिनके समागम से सन्तानोत्पत्ति हुई और सृष्टि गतिशील हुई | मानव जीवन में सन्तान उत्पन्न करके पितृऋण से उऋण हेने की परम्परा रही है | सन्तान उत्पन्न करने के लिए पुरुष एवं नारी वैवाहिक सम्बन्ध में बंधकर पति - पत्नी
03 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*सृष्टि के आदिकाल में ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि करते हुए नर नारी का जोड़ा उत्पन्न किया , जिनके समागम से सन्तानोत्पत्ति हुई और सृष्टि गतिशील हुई | मानव जीवन में सन्तान उत्पन्न करके पितृऋण से उऋण हेने की परम्परा रही है | सन्तान उत्पन्न करने के लिए पुरुष एवं नारी वैवाहिक सम्बन्ध में बंधकर पति - पत्नी
03 मार्च 2020
23 मार्च 2020
*संपूर्ण विश्व में हमारा देश भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां अनेक धर्म , संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं | धर्म , भाषा एवं जीवनशैली भिन्न होने के बाद भी हम सभी भारतवासी हैं | किसी भी संकट के समय अनेकता में एकता का जो प्रदर्शन हमारे देश में देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दर्शनीय नहीं है | हमें
23 मार्च 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
22 मार्च 2020
*मनुष्य जिस स्थान / भूमि में जन्म लेता है वह उसकी जन्म भूमि कही जाती है | जन्मभूमि का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में भली-भांति किया गया है | प्रत्येक मनुष्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना चाहता है क्योंकि लोगों का मानना है कि स्वर्ग में जो सुख है वह और कहीं नहीं है परंतु हमारे शास्
22 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x