जीवन की सार्थकता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

14 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (269 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन की सार्थकता :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय सनातन परम्परा में जीवन के बाद की भी व्यवस्था बनाई गयी है | सनातन की मान्यता के अनुसार जीवन दो प्रकार का है प्रथम तो इहलौकिक एवं दूसरा पारलोकिक | मनुष्य इस धरती पर पैदा होता है और एक जीवन जीने के बाद मरकर इसी मिट्टी में मिल जाता है | यह मनुष्य का इहलौकिक जीवन है जहां से होकर मनुष्य परलोक को जाता है , परंतु पारलौकिक जीवन के लिए मनुष्य को कुछ करना होता है | प्रत्येक मनुष्य को अपना जीवन सार्थक बनाने का प्रयास करते रहना चाहिए , यह जीवन तभी सार्थक हो सकता है जब इहलौकिक जीवन के आगे जो पारलौकिक जीवन है उसकी कुछ तैयारी कर ली जाय | प्राय: इस संसार में जीवन तभी तक माना जाता है जब तक शरीर क्रियाशील रहे , परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से यह भोतिक जीवन आत्मा की यात्रा के पथ में पड़ा एक पड़ाव भर है | हमारे मनीषियों ने बताया है कि जीवन को सार्थक बनाने के लिए जीवन को समझना पड़ेगा | जीवन के भौतिक तथा आध्यात्मिक, दो पहलू है | पार्थिव जीवन को दिव्य जीवन से तथा भौतिक जीवन को आध्यात्मिक जीवन से भिन्न समझ लेने का परिणाम यह होता है कि इंद्रियों के इस भौतिक जीवन को हम सब कुछ समझ लेते है | इंद्रियों का जीवन विषय भोग के लिए ही है | ऐसे में मनुष्य किसी दिशा की ओर न जाकर जीवन के मार्ग में भटक जाता है | जीवन की दिशा निश्चित होने पर मनुष्य बिना किसी संदेह के अपने जीवन की नौका को उस ओर खेने लगता है | दिशा भ्रम होने पर वह हर समय संदेह में रहता है कि जीवन के मार्ग में सत्य क्या है और सही रास्ता क्या है ? अगर यही जीवन सब कुछ है तथा परमार्थ कुछ भी नहीं है तो उसकी सोच भौतिकतावादी होने लगती है | यह भौतिक जीवन अंतिम अवस्था नहीं है | यह आगे के दिव्य जीवन की एक कड़ी मात्र है | यदि यह दृष्टिकोण रखकर जिया जाए तो हम आध्यात्मिक मार्ग पर चल सकते हैं | जीवन में भौतिकता और आध्यात्मिकता, दोनों का होना अनिवार्य है |*


*आज के चकाचौंध भरे युग में मनुष्स भौतिकता में इतना लिप्त हो गया है कि आध्यात्मिकता उसको दिखाई ही नहीं पड़ती या फिर देख जानकर भी वह आध्यात्मिकता की ओर स्वयं को मोड़ना ही नहीं चाहता | आज संसार के विषय में जानने को प्रतिपल लालायित दिख रहा मनुष्य अपने विषय में जानना ही नहीं चाहता | इन्द्रियजन्य सुखों को ही जीवन का सार आज माना जा रहा है | आज के परिवेश ने मनुष्य को इतना अंधा कर दिया है कि साधारण लोगों की तो बात ही छोड़ दी जाय आज प्रत्येकके धर्म उच्च पदों पर बैठे हुए धर्माधिकारी एवं धर्मोपदेशक भी जीवन की सार्थकता को भूलकर भौतिक जीवन में लिप्त दिखाई पड़ रहे हैं | जबकि मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहाँ तक जानता हूँ उसके अनुसार भौतिकता साधन है और आध्यात्मिकता साध्य है | जीवन की सार्थकता इसी में है कि हम शरीर को साधन मानकर जीवन के कार्यक्रम का निर्माण करें | हमें साधन नहीं जुटाते रहना है क्योंकि ऐसा करते हुए हम स्वयं ही साधन बन जाते है | यदि आत्मोन्नति करनी है तो भौतिकता के मार्ग को छोड़कर आध्यात्मिकता का मार्ग अपनाना चाहिए | बिना आध्यात्मपथ पर बढ़े जीवन के सार को समझ पाना कठिन ही नहीं बल्कि असम्भव है | इस अलभ्य मानव जीवन को पाकर भी इसे भौतिकता में झोंककर खाने - सोने एवं भौतिक साधनों से सुख भोगने की लालसा करते रहने से जीवन की सार्थकता नहीं जानी जा सकती है | जीवन को सार्थक बनाने के लिए जीवन में आध्यात्मिकता का होना परम आवश्यक है | आध्यात्मिकता ग्रहण करने का यह अर्थ कदापि हुआ कि मनुष्य भौतिकता का त्याग कर दे , भौतिक संसार में जन्म लेने के बाद भौतिकता का त्याग तो नहीं हो सकता परंतु इसी के साथ आध्यात्मिक भी बनना कठिन नहीं है | यह विचार करने का विषय है |*


*प्रत्येक मनुष्य को स्वयं के विषय में जानने की लालसा अवश्य रखनी चाहिए जो स्वयं एवं स्वयं के जीवन रहस्यों को समझ गया उसी का जीवन सार्थक है |*

अगला लेख: एकता में शक्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 मार्च 2020
*भारतीय संस्कृति इतनी दिव्य व विशाल रही है कि यहाँ वर्ष के प्रति दिन, कोई न कोई उत्सव / त्यौहार मनाया जाता रहा है | ये त्योहार विविध कारणों तथा जीवन के विविध उद्देश्यों से जुड़े थे | इन्हें विविध ऐतिहासिक घटनाओं, विजय श्री तथा जीवन की कुछ अवस्थाओं जैसे फसल की बुआई, रोपाई और कटाई आदि से जोड़ा गया था |
03 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
12 मार्च 2020
*इस संसार में मनुष्य जैसा कर्म करता उसको वैसा ही फल मिलता है | किसी के साथ मनुष्य के द्वारा जैसा व्यवहार किया जाता है उसको उस व्यक्ति के माध्यम से वैसा ही व्यवहार बदले में मिलता है , यदि किसी का सम्मान किया जाता है तो उसके द्वारा सम्मान प्राप्त होता है और किसी का अपमान करने पर उससे अपमान ही मिलेगा |
12 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*किसी भी समाज और राष्ट्र का निर्माण मनुष्य के समूह से मिलकर होता है और मनुष्य का निर्माण परिवार में होता है | परिवार समाज की प्रथम इकाई है | जिस प्रकार परिवार का परिवेश होता है मनुष्य उसी प्रकार बन जाता है इसीलिए परिवार निर्माण की दिशा में एक विकासशील व्यक्तित्व का ध्यान विशेष रूप से आकर्षित होना चा
03 मार्च 2020
23 मार्च 2020
*संपूर्ण विश्व में हमारा देश भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां अनेक धर्म , संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं | धर्म , भाषा एवं जीवनशैली भिन्न होने के बाद भी हम सभी भारतवासी हैं | किसी भी संकट के समय अनेकता में एकता का जो प्रदर्शन हमारे देश में देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दर्शनीय नहीं है | हमें
23 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
03 मार्च 2020
*सृष्टि के आदिकाल में ब्रह्मा जी ने मैथुनी सृष्टि करते हुए नर नारी का जोड़ा उत्पन्न किया , जिनके समागम से सन्तानोत्पत्ति हुई और सृष्टि गतिशील हुई | मानव जीवन में सन्तान उत्पन्न करके पितृऋण से उऋण हेने की परम्परा रही है | सन्तान उत्पन्न करने के लिए पुरुष एवं नारी वैवाहिक सम्बन्ध में बंधकर पति - पत्नी
03 मार्च 2020
14 मार्च 2020
*धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य के द्वारा अनेकों प्रकार के कर्म संपादित होते हैं | अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों के अनुसार मानव महामानव बन जाता है | मानव मात्र की आकांक्षा , अभिलाषा एवं आवश्यकता आदि की पूर्ति के लिए हमारे महापुरुषों ने तीन प्रकार के साधन बताये हैं :- १- कर्म , २- चिन्तन
14 मार्च 2020
24 मार्च 2020
*ईश्वर ने सृष्टि के रचनाक्रम में पंचतत्वों (भूमि , जल , वायु , अग्नि एवं आकाश) की रचना की फिर इन्हीं पंचतत्वों के सहारे जीवों का सृजन किया | अनेक प्रकार के जीवों के मध्य मनुष्य का सृजन करके उसको असीमित शक्तियाँ भी प्रदान कीं | मनुष्य की इन शक्तियों में सर्वश्रेष्ठ ज्ञान एवं बुद्धि को बनाया , अपनी बु
24 मार्च 2020
09 मार्च 2020
*हमारा देश भारत पर्व एवं त्योहारों का देश है , यहां वर्षपर्यंत पर्व एवं त्योहार मनाए जाते रहते हैं | सबसे विशेष बात यह हैं कि सनातन धर्म के प्रत्येक त्यौहार एवं पर्वों में मानवता के लिए एक दिव्य संदेश छुपा होता है | इन्हीं त्योहारों में प्रमुख है रंगों का त्योहार होली | होली के दिन अनेक प्रकार के रं
09 मार्च 2020
10 मार्च 2020
*होली का त्यौहार हमारे देश का प्रमुख त्यौहार है | विविधता में एकता का दिव्य संदेश होली के त्यौहार में छुपा हुआ है | जिस प्रकार कई रंग मिलकर एक नया रंग बनाते हैं उसी प्रकार लोग आपसी भेदभाव भुलाकर आपस में मिल जाते हैं | होली का त्यौहार मात्र हमारे देश भारत में ही नहीं आती संपूर्ण विश्व में पूर्ण हर्ष
10 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x