पापा ‘आफ’ हो गए : दिनेश डाक्टर

18 मार्च 2020   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (277 बार पढ़ा जा चुका है)

पापा ‘आफ’ हो गए : दिनेश डाक्टर

आज काफी समय के बाद डॉ दिनेश शर्मा की लिखी एक बड़ी मार्मिक कहानी पढने को मिली “पापाआफहो गए”... प्रस्तुत है आपके लिए...

पापाआफहो गए : दिनेश डाक्टर

श्रीनाथ के बड़े लड़के ने दिवाकर को फोन पर सूचना दी कि पापाआफहो गए | पहले तो दिवाकर को कुछ समझ में नहीं पड़ा कि लड़का क्या कह रहा है पर जब उसने लड़के की अंग्रेजी भाषा की योग्यता पर गौर किया तो सारी बात समझ में गयी कि श्रीनाथ चल बसा |

दिवाकर को दरअसल इस समाचार का बहुत दिनों से इंतज़ार था | पता नहीं क्यों पर कुछ दिनों से दिवाकर ऐसी कामना करने लगा था कि अच्छा हो श्रीनाथ बार ही जाए | दोनों बेटियाँ तो पहले ही शादी होकर अपने घर जा चुकी थीं | बड़े बेटे का भी विवाह हो गया था | उसके बड़े बेटे के विवाह के बाद से ही कुछ गड़बड़ा गया था |

हर बार जब वो ऋषिकेश आता था तो मामा के यहाँ से उसे श्रीनाथ और उसके परिवार के बारे में अजीब से व्यथित करने वाले समाचार ही मिलते थे | कभी पता लगता था कि श्रीनाथ पता नहीं किस मंतव्य और भाव से पुत्रवधू को मानसिक उद्वेग दे रहा है | कुछ लोगों ने ऐसा भी बताया कि उसकी पुत्रवधू पर कुदृष्टि है और मंतव्य पूरा नहीं होने से उससे अभद्र व्यवहार करता है और बात बात पर उसका अपमान करता है | उसकी पत्नी जब भी कोई हादसा होता था तो मामा , मामी की शरण में आकर रोते रोते ह्रदय का सारा दुःख उड़ेल कर चली जाती थी |

पहली बार श्रीनाथ दिवाकर को मामा के घर ऋषिकेश में मिला था जहाँ वह विद्यार्थी की तरह रहता था | आर्थिक रूप से श्रीनाथ उन दिनों विपन्न स्थिति में था | उसका विवाह हो चुका था पर पत्नी और बच्चे पूर्वी उत्तर प्रदेश के किसी गाँव में, उसके पैतृक घर में ही रह रहे थे | पिता की पचास वर्ष की अल्पायु में आकस्मिक मृत्यु के बाद दिवाकर गाँव ही में रह रहा था | एक दिन अचानक ही श्रीनाथ दिवाकर से मिलने उसके गाँव पहुँच गया | शायद मामा लोगों ने ही उसे दिवाकर के हित में उसे वहां भेजा था | उन दिनों श्रीनाथ थोडा थोडा पूजा पाठ, कर्मकांड सीख कर काम चला लेता था | इसमें कोई संदेह नहीं की श्रीनाथ बुद्धिमान तो था | चालाक शब्द उसके लिए और भी उपयुक्त होगा | श्रीनाथ की प्रेरणा से दिवाकर ने एक शांति पाठ हवन करवा दिया | उसी रात श्रीनाथ ने जब अपनी आर्थिक विपन्नता और अन्य मजबूरियों की सारी बात रुंधे कंठ से दिवाकर को बताई तो दिवाकर, जो खुद अच्छी स्थिति में नहीं था , श्रीनाथ के लिएकुछकरने को प्रेरित हुआ | फलस्वरूप अगले दिन उसने श्रीनाथ को अच्छा ख़ासा माल दे कर विदा किया | आँखों में छलकते आंसुओं से श्रीनाथ ने यह कह कर विदा ली कि आज तक किसी ने उसे तो इतना धन दिया और ही सम्मान | दिवाकर था तो समझदार पर परले सिरे का भावुक मूर्ख भी था | अपनी परवाह किये बिना किसी के लिए कुछ करने में उसके हृदय में एक अजीब किस्म का मादक रस टपकता था जो उसे अंदर तक गहन शांति और संतुष्टि देता था और शायद कहीं उसके सामंती किस्म के अहंकार का पोषित भी करता था | खैर श्रीनाथ ने दिवाकर के इस रसास्वाद केएडिक्शनको ठीक से पढ़ और समझ लिया और गाँठ में बाँध लिया |

दिवाकर की बहुत सी कमजोरियों में एक कमजोरी उसकाकंट्रोल फ्रीकयानी के हर स्थिति पर खुद का नियंत्रण करने की प्रवृत्ति का होना भी था | शायद जिन लोगों पर अल्पायु में परिवार का भरण पोषण करने की जिम्मेदारी चाहे अनचाहे आन पड़े , उनमे ऐसी प्रवृत्ति एक डिफेंस मेकेनिज्म की वजह से पैदा हो ही जाती है | दिवाकर में भी ऐसा ही कुछ पनपना शुरू हो गया था | पिता की मृत्यु के बाद वो खुद मुख्तारी के आलम में अपने सारे निर्णय खुद लेने लगा | किसी से सलाह लेना या विमर्श करना उसे अपनी कमजोरी जान पड़ता था | इसी मूर्खता में उसने बहुत नुक्सान भी उठाये | सहारनपुर में अपने मुसलमान दोस्तों के साथ प्लास्टिक के बैग बनाने की फेक्ट्री लगा कर उसमे अच्छा ख़ासा नुक्सान भी उठाया पर सबक फिर भी नहीं सीखा | समय समय पर ऐसी बहुत सी बेवकूफियां और वो भी जल्दबाजी में वो समय समय पर करता ही रहा | हालाँकि तुक्के में इस प्रवृति के कई फायदे भी कालांतर में उसे हुए |

पूरी कहानी पढने के लिए क्लिक करें:

https://shabd.in/post/112532/papa-of-ho-gae-dinesh-doctor


अगला लेख: मंगल का मकर में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 मार्च 2020
सप्तम नवरात्र – देवी केकालरात्रि रूप की उपासनात्रैलोक्यमेतदखिलं रिपुनाशनेन त्रातंसमरमूर्धनि तेSपि हत्वा ।नीता दिवं रिपुगणाभयमप्यपास्तमस्माकमुन्मदसुरारि भवन्न्मस्ते ।।देवी का सातवाँ रूप कालरात्रि है | सबका अन्त करने वाले कालकी भी रात्रि अर्थात् विनाशिका होने के कारण इनका नाम कालरात्रि है | इस रूप में
30 मार्च 2020
21 मार्च 2020
🙏😊 एक विनम्र निवेदन 🙏😊आप सभी से निवेदन है कृपा करके कलघरों में ही रहें, और सम्भव हो तो घरोंमें आपकी सहायता के लिए आने वाली महिलाओं (यानी कामवाली बाई जिन्हें आमतौर पर बोलतेहैं), ड्राइवरों, प्रेस वालों, कार साफ़करने वालों आदि की भी हार्दिक धन्यवाद सहित कल छुट्टी कर दें - लेकिन उनका वेतन नकाटें । ऐस
21 मार्च 2020
24 मार्च 2020
सभी बारह राशियों के लिए गुरु का मकर में गोचरआज जब सारा विश्व कोरोना वायरस के आक्रमण से जूझ रहा है ऐसे में कुछलोगों का आग्रह कि गुरु के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों के विषय मेंलिखें – हमें हास्यास्पद लगा | किन्तु फिर भी, मित्रों केअनुरोध पर प्रस्तुत है सभी बारह राशियों पर गुरुदेव के मकर राश
24 मार्च 2020
20 मार्च 2020
शुक्र का वृषभ में गोचरशनिवार 28 मार्च, चैत्र शुक्ल चतुर्थी को विष्टि करण और विषकुम्भयोग में दिन में 3:38 के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प,सौन्दर्य, बौद्धिकता,राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदिके कारक शुक्र का अपनी स्वयं की राशि वृषभ में प्रस्थान करेगा
20 मार्च 2020
23 मार्च 2020
गुरु का मकर में गोचरआज जब सारा विश्व कोरोना वायरस के आक्रमण से जूझ रहा है ऐसे में कुछलोगों का आग्रह कि गुरु के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों के विषय मेंलिखें – हमें हास्यास्पद लगा | किन्तु फिर भी, मित्रों केअनुरोध पर प्रस्तुत है गुरुदेव के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों पर एकदृष्टि
23 मार्च 2020
26 मार्च 2020
तृतीय नवरात्र - देवी के चंद्रघंटा रूपकी उपासनादेव्या यया ततमिदं जगदात्मशक्त्या,निश्शेषदेवगणशक्तिसमूहमूर्त्या |तामम्बिकामखिलदेवमहर्षिपूज्यां भक्त्यानताः स्म विदधातु शुभानि सा नः ||कल आश्विन शुक्ल तृतीया है – तीसरा नवरात्र - देवी केचन्द्रघंटा रूप की उपासना का दिन | चन्द्रःघंटायां यस्याः सा चन्द्रघंटा
26 मार्च 2020
22 मार्च 2020
सभी के लिए 23 मार्च से 29मार्च तक का साप्ताहिक राशिफलइन दिनों सारा विश्व कोरोना जैसीमहामारी से जूझ रहा है, ऐसे में सभी का सारे काम रुके हुए हैं | सबसे पहलीआवश्यकता है इस महामारी से मुक्ति प्राप्त करने की, न कि अपने कार्य अथवा किसीअन्य विषय में सोचने विचारने की | हम सभी आत्म संयम का परिचय दें और घर स
22 मार्च 2020
25 मार्च 2020
को
करोना और स्त्रीविजय कुमार तिवारीकल प्रधानमन्त्री ने देश मेंं कोरोना के चलते ईक्कीस दिनों के"लाॅकडाउन"की घोषणा की है।सभी को अपने-अपने घरों में रहना है।बाहर जाने का सवाल ही नहीं उठता।घर मेंं चौबिसों घण्टे पत्नी के साथ रह पाना,सोचकर ही मन भारी हो जाता है।किसी साधु-सन्त के पास इससे बचाव का उपाय नहीं है।
25 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x