झुमके का रहस्य

18 मार्च 2020   |  Arshad Rasool   (293 बार पढ़ा जा चुका है)

बरेली ही क्या दुनिया भर के लोगों को यह सवाल परेशान करता रहा है कि आखिर, झुमका गिरा तो गिरा कहां? कई मौकों पर लोगों का बरेली आना-जाना लगा रहता है। ऐसे तमाम लोगों का यही सवाल रहता है कि झुमका गिरा कहां था? सवाल सुनकर बरेली वालों की जुबान पर खामोशी के अलावा कुछ नहीं होता है। सही बात तो यह है कि उनको ही नहीं मालूम कि झुमका कहां गिरा था?


इस गाने को राजा मेहंदी अली खां ने लिखा था। इसमें साठोत्तरी कविता के सभी तत्व मौजूद हैं। सन 1966 की फिल्म "मेरा साया" के इस गीत की धुन मदन मोहन ने तैयार की थी और आवाज आशा भोसले ने दी थी। यह गाना लोगों की जुबान पर इस कदर चढ़ा कि खुद बरेली वाले पूछते कि झुमका किस बाजार में गिरा?


सन 1966 में राजा मेहदी अली खां के उठाए गए सवाल का जवाब अब लगभग पांच दशक बाद मिल पाया है। लंबी खोजबीन के बाद मालूम हुआ, या यूं कहें कि तय किया गया है कि बरेली के डेलापीर तिराहे पर झुमका गिरा था। बरेली वालों ने तय किया है कि उसी डिजाइन के झुमके को डेलापीर तिराहे पर 14 मीटर के उसी दायरे में रखा जाए, जहां वह गिरा था। यह भी तय किया गया कि झुमके को बड़े साइज में लटकाया जाए, ताकि लोगों के पूछने पर बताया जा सके कि उसका स्मारक बना है, जाकर देख लो।


फिल्म मेरा साया में साधना के ऊपर यह गीत फिल्माया गया था। सवाल यह है कि इस गीत में बरेली के बाजार का जिक्र क्यों आया? जबकि फिल्म की कहानी का बरेली से दूर तक वास्ता नहीं है। खोजबीन पर यह बात सामने आई है दादा हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन के बीच नज़दीकियां बढ़ रही थीं। उन दिनों किसी कवि सम्मेलन में दोनों लोग बरेली आए थे। इस दौरान किसी ने उनसे पूछा कि यह सब कब तक चलेगा? अब तो अपना प्यार स्वीकार कर लीजिए। इस पर तेजी बच्चन ने कह दिया कि मेरा झुमका तो बरेली के बाजार में ही गिर गया। राजा मेहंदी अली खां को भी यह किस्सा मालूम था। मेहंदी. मंटो के भी दोस्त थे, मेरा साया के गीत लिखने की बारी आई तो उन्हें अचानक यह किस्सा याद आ गया। उन्होंने गीत में हीरोइन के झुमके को बरेली में ही गिरा दिया।


सुना यह भी जाता है झुमका नाम का एक सिपाही था। बरेली के बाजार में सिपाही झुमका का क़त्ल कर दिया गया था। बरेली को पांचाल नाम से भी जाना जाता है। बरेली के रामनगर का नाता पांचाली द्रौपदी से रहा है। चूंकि द्रौपदी भी झुमके की बहुत शौकीन रही थीं, इसलिए शायद वहां से प्रेरित होकर यह गाना तैयार किया गया हो। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 में बरेली पहुंचे। उन्होंने इस गाने का जिक्र करते हुए कहा, लोग बरेली आते हैं तो झुमके के बारे में पूछते हैं, पर उन्हें मिलता कुछ नहीं।

अगला लेख: जग में मचा है रोना धोना



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x