भारत के युवा सन्यासी स्वामी विवेकानंद की जीवनी

19 मार्च 2020   |  मोनिका चौधरी   (363 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वामी विवेकानंद (swami vivekananda in hindi) - इस लेख में आप साहित्य, दर्शन और इतिहास के प्रकाण्ड विव्दान और भारत के एक युवा सन्यासी स्वामी विवकानंद के बारे में पढ़ेंग-

bharat-ke-yuva-sanyasi-swami-vivekanand-ki-jivani

स्वामी विवेकानंद भारत के एक युवा सन्यासी थे जिन्होंने अपने विचारों से अनेकों भारतीय और दुनिया के दूसरे लोगो को अच्छे और सदाचार के रास्ते पर चलना सिखाया है | साथ ही स्वामी विवेकानंद "योग", "राजयोग", और ज्ञानयोग जैसे ग्रंथों के रचनाकार रहे हैं , जिन ग्रंथों को आज भी पढ़ा जाता है और मनुष्य उसका पालन भी करते हैं , तो चलिए पढ़ते हैं स्वामी विवेकानंद के उज्जवल जीवन (swami vivekananda biography in Hindi) और उनके द्वारा की गयी रचनाओं के बारे में -


पूरा नाम नरेंद्रनाथ विश्वनाथ दत्त

जन्म 12 जनवरी 1863

जन्मस्थान कलकत्ता (पं. बंगाल)

पिता विश्वनाथ दत्त

माता भुवनेश्वरी देवी

घरेलू नाम नरेन्द्र और नरेन

मठवासी बनने के बाद स्वामी विवेकानंद

गुरु का नाम रामकृष्ण परमहंस

शिक्षा 1884 मे बी. ए. परीक्षा उत्तीर्ण

विवाह विवाह नहीं किया

संस्थापक रामकृष्ण मठ, रामकृष्ण मिशन

फिलोसिफी आधुनिक वेदांत, राज योग

साहत्यिक कार्य राज योग, कर्म योग, भक्ति योगमें , मेरे गुरु, अल्मोड़ा से कोलंबो तक दिए गए व्याख्यान

अन्य महत्वपूर्ण काम न्यूयार्क में वेदांत सिटी की स्थापना, कैलिफोर्निया में शांति आश्रम और भारत में अल्मोड़ा के पास ”अद्धैत आश्रम” की स्थापना।

कथन “उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाये”

मृत्यु तिथि 4 जुलाई, 1902

मृत्यु स्थान बेलूर, पश्चिम बंगाल, भारत



स्वामी विवेकानंद का परिवार(swami vivekananda in hindi)-

स्वामी विवेकांनद का असली नाम नरेंद्र और नरेन् था जो बाद में मठवासी बनने के बाद स्वामी विवेकानंद नाम हो गया | स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 में कोलकाता में हुआ था , विलक्षण प्रतिभा और तीव्र दिमाग के धनि स्वामी विवेकानंद ने कोलकाता की धरती पर जन्म लेकर वहां की धरती को पवित्र कर दिया था | स्वामी विवेकानंद पिता का नाम विश्वनाथ दत्त था , जो पेशे से कोलकाता हाईकोर्ट के प्रतिष्ठित और सफल वकील थे , इसलिए उनके पिता के चर्चे शहर भर में होते थे | उनकी माँ का नाम भुवनेश्वरी देवी था, जो बहुत धार्मिक और शांत थी , उन्होंने रामायण , महाभारत जैसे सभी ग्रन्थ पढ़े और उनका बराबर ज्ञान भी उनको था |


स्वामी विवेकांनद से जुडी कुछ खास बातें -

1. विवेकानंद का साली नाम नरेंद्र और नरेन् था |

2. विवेकांनद बचपन से ही नटखट और काफी तेज बुद्धि के व्यक्ति थे |

3. नरेंद्र बहुत तरवृ बुद्धि के थे , अगर वो किसी चीज़ को एक बार देख लेते थे तो कभी नहीं भूलते थे |

4. स्वामी विवेकानंद अपने युवा दिनों में आधुनिक चीज़ो में दिलचस्पी लेते थे ,और वे हमेशा भगवान् की तस्वीर या मूर्ति को सामने रखकर ध्यान करते थे |

और साथ ही उन्हे सन्यासियों की बातें बहुत प्रभावित करती थीं |

5. स्वामी विवेकांनद दुनियाभर में ध्यान, अध्यात्म, राष्ट्रवाद हिन्दू धर्म, और संस्कृति का वाहक बने


स्वामी विवेकानंद की शिक्षा -

नरेंद्र की प्राथमिक शिक्षा घर में ही हुई, इसके बाद वह कई स्थानों पर पढ़ने गए| स्वामी विवेकानंद को कुश्ती, बॉक्सिंग, दौड़, घुड़दौड़, तैराकी का शौक था उनका स्वास्थ्य बहुत अच्छा था | 1871 में स्वामी विवेकांनद ने ईश्वर चंद विद्यासागर के मेट्रोपोलिटन संसथान में एडमिशन लिया था | 1879 में, के कलकत्ता वापिस आ जाने के बाद प्रेसीडेंसी कॉलेज की एंट्रेंस परीक्षा में फर्स्ट डिवीज़न लाने वाले वे पहले विद्यार्थी थे ।खेलकूद में भी विवेकानंद बहुत निपुड़ थे | इसी बीच में उनके पिता की मृत्यु हो गयी और वो समय उनके लिए बेहद दुखद था |

1884 में उन्होनें कला विषय से ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी कर ली थी। स्वामी विवेकानंद जी ने यूरोपीय इतिहास का अध्ययन जेनेरल असेम्ब्ली इंस्टीटूशन में किया था | और साथ ही उन्होंने सारे ग्रंथो ग्रंथों जैसे - रामायण , महाभारत का अध्ययन किया |

स्वामी विवेकानंद को बंगाली भाषा की भी अच्छी समझ थी उन्होनें स्पेंसर की किताब एजुकेशन का बंगाली में अनुवाद किया |


स्वामी विवेकानंद के विचार (swami vivekananda quotes)-

Quote 1: उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति ना हो जाये।

Quote 2: खुद को कमजोर समझना सबसे बड़ा पाप हैं।

Quote 3 : सत्य को हज़ार तरीकों से बताया जा सकता है, फिर भी हर एक सत्य ही होगा।

Quote 4 : दिल और दिमाग के टकराव में दिल की सुनो।

Quote 5 : “जब तक जीना, तब तक सीखना” – अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक हैं।


स्वामी विवेकानंद की किताबें (swami vivekananda books in hindi)-

कर्मयोग

ज्ञानयोग

जनाना योग

राजा योग

भारत के युवा सन्यासी स्वामी विवेकानंद की जीवनी

अगला लेख: best motivational quotes in hindi,



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मार्च 2020
इन दिनों कोरोना वायरस नाम के वायरस ने दुनियाभर में कोहराम मचा रखा है ,जिसे अब महामारी (pandemic) घोसित कर दिया गया है | लेकिन ये पहली कोई बीमारी नहीं है जिससे दुनिया बेहाल है इससे पहले भी बहुत सी गंभीर मह
24 मार्च 2020
20 मार्च 2020
सुकन्या समृद्धि योजना (sukanya samridhi yojna) - जिसे प्रधानमंत्री समृद्धि योजना भी कहा जाता है -चलिए आपको बताते हैं ,सुकन्या योजना(sukanya yojna)के बारे में विस्तार से - सुकन्या समृद्दि योजना (sukanya yojna)-हमारे देश में ऐसे न जाने कि
20 मार्च 2020
23 मार्च 2020
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (pradhanmantri kisan samman nidhi yojna)- अगर आप भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (pm kisan yojana) के बारे में जानना चाहते हैं ,तो ये लेख आपके लिए है | प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का
23 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x