एक विनम्र निवेदन

21 मार्च 2020   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (286 बार पढ़ा जा चुका है)

एक विनम्र निवेदन

🙏😊 एक विनम्र निवेदन 🙏😊

आप सभी से निवेदन है कृपा करके कल घरों में ही रहें, और सम्भव हो तो घरों में आपकी सहायता के लिए आने वाली महिलाओं (यानी कामवाली बाई जिन्हें आमतौर पर बोलते हैं), ड्राइवरों, प्रेस वालों, कार साफ़ करने वालों आदि की भी हार्दिक धन्यवाद सहित कल छुट्टी कर दें - लेकिन उनका वेतन न काटें । ऐसा आप स्वयं के, परिवार के, समाज व देश सभी के स्वास्थ्य के लिए करेंगे । ये जनता कर्फ्यू” कोई ऐसा कर्फ्यू नहीं है जहाँ पुलिस आपके हमारे सिरों पर खड़ी रहेगी, ये एक जागरूकता के लिए चलाया गया अभियान है । हम सब मिलकर कोरोना को तीसरे स्तर पर पहुँचने से रोक सकते हैं । नहीं तो दूसरे देशों का हाल हम सबने देखा ही है - जहाँ की जनसंख्या भी हमारे देश के मुक़ाबले बहुत कम है लेकिन कितनी तेज़ी से वहाँ महामारी फैली, कितनी लोगों को संक्रमित किया और कितनों की जान ले ली । हमें उस स्तर पर नहीं पहुँचना है । हमारी केन्द्र सरकार और सभी राज्य सरकारें अपने अपने स्तर पर बहुत अच्छे प्रयास कर रही हैं इसे रोकने के लिए - हमें अपने स्तर पर प्रयास करने होंगे - पैनिक हुए बिना - डरे बिना । साथ ही हमें अपने डॉक्टर्स और नर्सेज़ का धन्यवाद करना भी नहीं भूलना है जो रात दिन जान हथेली पर लेकर किसी बॉर्डर पर तैनात सिपाही की तरह हम सबका स्वास्थ्य सुरक्षित रखने में जुटे हुए हैं, और ऐसा केवलमात्र कल ही नहीं करना, जीवन के इन रक्षकों को तो सदा ही धन्यवाद देना चाहिए... 🙏😊

अगला लेख: १६ से २२ मार्च तक का सम्भावित साप्ताहिक राशिफल



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
13 मार्च 2020
शनिवार 14 मार्च2020 को दिन में 11:54 के लगभग पूर्वाभाद्रपद नक्षत्र पर भ्रमण करते हुए ही भगवान् भास्कर अपने शत्रु ग्रह शनि की राशि कुम्भसे निकल कर मित्र ग्रह गुरु की मीन राशि में भ्रमण करने के लिए प्रस्थान करेंगे जहाँशनि की तीसरी दृष्टि भी सूर्य पर रहेगी | सूर्य के मीन राशि में प्रस्थान के समय चैत्रक
13 मार्च 2020
27 मार्च 2020
शिवपुराण मेंकोरोना वायरससोशल मीडिया में एक बात दावा तेजी से वायरल हो रही हैऔर उसमें दावा किया जा रहा है कि यह मन्त्र शिवपुराण का है और इसमें भगवान शिव सेप्रार्थना की गई है कि हे महादेव आप करुणा के अवतार हैं, रुद्ररूप हैं, अशुभ का संहार करने वाले हैं,मृत्युंजय हैं | आज कोरोना जैसे वायरस ने महामारी फै
27 मार्च 2020
14 मार्च 2020
16 से 22 मार्च2020 तक का सम्भावित साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक ग
14 मार्च 2020
25 मार्च 2020
आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडीपर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ...कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है - एक ऐसा शत्रु जिसे हमदेख नहीं सकते, छू नहीं सकते - पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभीभी किसी पर भी
25 मार्च 2020
20 मार्च 2020
मानसिक रूप सेस्वस्थ समाज बनाएँ आज सुबह साढ़े पाँच बजे निर्भया के गुनाहगारदरिन्दों को फाँसी पर लटका दिया गया | निर्भया को न्याय दिलाने के लिए जिन लोगोंने भी एड़ी चोटी का जोर लगाया वे सभी बधाई के पात्र हैं | साथ ही समूचे देश की हीनहीं विश्व की भी निगाहें इस ओर लगी हुई थीं कि क़ानून का मखौल उड़ाकर बार बार
20 मार्च 2020
25 मार्च 2020
द्वितीया ब्रह्मचारिणीनवदुर्गा– द्वितीय नवरात्र - देवी के ब्रह्मचारिणी रूप की उपासनाकल चैत्र शुक्लद्वितीया – दूसरा नवरात्र – माँ भगवती के दूसरे रूप की उपासना का दिन | देवी कादूसरा रूप ब्रह्मचारिणी का है – ब्रह्म चारयितुं शीलं यस्याः सा ब्रह्मचारिणी – अर्थात् ब्रह्मस्वरूप की प्राप्ति करना जिसका स्वभाव
25 मार्च 2020
25 मार्च 2020
आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडीपर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ...कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है - एक ऐसा शत्रु जिसे हमदेख नहीं सकते, छू नहीं सकते - पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभीभी किसी पर भी
25 मार्च 2020
18 मार्च 2020
मंगल का मकर में गोचरचैत्र कृष्णचतुर्दशी यानी रविवार 22 मार्च को दिन में दो बजकर चालीस मिनट के लगभग विष्टि करण और शुभ योग में मंगलका गोचर अपनी उच्च राशि मकर में होगा | सूर्योदय के समय त्रयोदशी तिथि रहेगी, किन्तु मंगल के गोचर के समय चतुर्दशी तिथि होगी | इस समय मंगल उत्तराषाढ़नक्षत्र पर होगा | मकर राशि
18 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x