जनता कर्फ्यू और हमारा देश

22 मार्च 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (13009 बार पढ़ा जा चुका है)

जनता कर्फ्यू और हमारा देश

विजय कुमार तिवारी

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी जी के आह्वान पर आज २२ मार्च २०२० को पूरे देश ने अपनी एकता,अपना जोश और अपना मनोबल पूरी दुनिया को दिखा दिया।इस जज्बे को मैं हृदय से सादर नमन करता हूँ।राष्ट्रपति से लेकर आम नागरिकों तक ने ताली,थाली, घंटी,शंख और नगाड़े बजाकर अपना आभार व्यक्त किया।मैं प्रधानमन्त्री जी की इस सहज सोच पर मुग्ध हूँ कि किस तरह उन्होंने इस कोरोना के विरुद्ध पूरे देश को एक कर दिया।उनको अपने देश की जनता की नब्ज पता है या यों कहें कि वे देश की भूमि पर ही नहीं,हमारे दिलों पर भी राज करते हैं।आज उन तमाम लोगों ने स्वयं को गौरवान्वित महसूस किया होगा जो दिन-रात समाज के लोगों की सेवा में तत्पर हैं।हमारी सेना,अर्धसैनिक बल,पुलिस,मेडिकल सुविधा से जुड़े लोग,घरों तक नित्य आवश्यक सामान पहुँचाने वाले,मीडिया के लोग,फायर बिग्रेड और ऐसे तमाम लोग जो किसी न किसी रुप में देश के नागरिकों की सेवा में संलग्न हैं जिन्हें ऐसे हालात में भी जान जोखिम में डालकर कार्य करना पड़ता है,आज उन्हें महसूस हुआ होगा कि देश के लोग उनके प्रति सम्मान का भाव रखते हैं और प्रधानमन्त्री उनके साथ हैं।प्रधानमन्त्री जी का यह सुझाव भी सराहनीय और मानवीय संवेदना से भरा है कि नौकरी देने वाले लोग अपने कर्मचारियों को वेतन से वंचित ना करें।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री श्री आदित्यनाथ योगी जी ने राज्य सरकार की ओर से अपने राज्य में दैनिक मजदूरी करने वाले लोगों और गरीबों के लिए बहुत सी घोषणायें की हैं।उनकी जय-जयकार हो रही है।मैं उम्मीद करता हूँ कि जनता अब पहचान रही होगी कि कौन उनके लिए शुभचिन्तक और अच्छा काम करने वाला है।

कोरोना ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया है।किसी भी देश के पास इसका कोई ईलाज नहीं है।इसका वायरस बहुत विनाशकारी और भयावह है।अभी तक पूरी दुनिया में इसने तेरह हजार से उपर लोगों को मौत दी है और तीन लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं।अपने देश में यह उन लोगों के साथ आया है जो विदेशों से आये हैं।यद्यपि हमने बहुत जल्दी बचाव के उपायों पर काम करना शुरु कर दिया और वो सारे जरुरी कदम उठाये हैं जिससे स्थिति कुछ हद तक नियन्त्रण में है।यह अपने देश में अपने दूसरे स्तर पर है।तीसरा स्तर आते ही यह विकराल रुप धारण कर लेता है और बहुत तेजी से बड़ी मात्रा में लोगों को अपनी चपेट में ले लेता है। इसका चौथा स्तर जानलेवा होता है।सरकार,प्रशासन और मेडिकल के लोगो ने मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से इससे लड़ने के तौर-तरीकों का खूब प्रचार किया है।लोग सजग और जागरूक हो रहे हैं।पूरे देश में पर्याप्त उत्साह है और आज के जोश को देखकर कहा जा रहा है कि लोगो ने अपने दिलों से इसका भय निकाल फेंका है।

हमें मानकर चलना चाहिए कि अभी यह लड़ाई लम्बी चलने वाली है।अतः हमें अपना धैर्य और जुझारुपन बनाये रखना होगा।आत्मबल,पुरुषार्थ और धैर्य ही हमें विजेता बनायेगा।अफवाहों से बच कर रहना होगा।मैं यह भी मानता हूँ और सभी से कहना चाहता हूँ कि हम ईश्वर पर विश्वास बनाये रखें और परहेज के सभी उपाय करें।

दुखद पहलू यह भी है कि कुछ लोग राजनीतिक विरोध करते-करते देश विरोध पर उतर आते हैं और अनावश्यक आरोप-प्रत्यारोप लगाना शुरु करके देश के कुछ लोगों को दिशाहीनता दिखाते हैं और स्वयं हास्यास्पद होते हैं।यह उनका पतन है। भाई अब कितना गिरोगे?देश आपको पहचान रहा है।उस सोच से बाहर निकलिये वरना देश आपको माफ करने वाला नहीं है।

एक बात मैं जोर देकर कहना चाहता हूँ।हमें ध्यान रखना चाहिए कि हमारे आसपास कोई भूखा या लाचार तो नहीं है,कोई किसी दुख या तकलीफ में तो नहीं है।यदि ऐसा कोई हो तो हमें उनकी मदद, बिना मांगे करनी चाहिए।लोगों के जीवन को बचाना सबसे बड़ा धर्म है।ऐसे हालात में मानवता के नाम पर अवश्य मदद कीजिये और यश के भागी बनिये।विश्वास रखिये-कोरोना हारेगा और हम जीतेंगे।

अगला लेख: मेरे आनंद की बाते



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अप्रैल 2020
मे
कभी खुला किसी के सामने,तो कभी बंद हो गयामेरा दिल एक अलमारी सा हो गयाहज़ारों तरह की किताबें छुपी हैं मेरे दिल मेकभी हंसी मज़ाक ,तो कभी तन्हाईकभी रहस्यमय परिस्थितियों मे कोई बात समझ ना आईकभी खुला किसी के सामने तो कभी बंद हो गयामेरा दिल एक
01 अप्रैल 2020
04 अप्रैल 2020
आओ मिलकर दिया जलाएँकोरोना के संकट की इस घड़ी में प्रधानमंत्री जी ने कल समस्त जनता का आह्वाहनकिया कि सभी 5 अप्रेल को रात्रि 9 बजे 9 मिनट के लिए आइए अपने घरों की लाइट्स बन्द करके घरों के दरवाजों या बाल्कनीमें मोमबत्ती, दिया या टॉर्च जलाकर देश के हर नागरिक के जीवनमें आशा का प्रकाश प्रसारित करने का प्रया
04 अप्रैल 2020
02 अप्रैल 2020
मे
मेरे आनन्द की बातेंविजय कुमार तिवारीकभी-कभी सोचता हूँं कि मैं क्योंं लिखता हूँ?क्योंं दुनिया को लिखकर बताना चाहता हूँ कि मुझे क्या अच्छा लगता है?मेरी समझ से जो भी गलत दिखता है या देश-समाज के लिए हानिप्रद लगता है,क्यों लोगों को उसके बारे में आगाह करना चाहता हूँ?क्यों दुनिया को सजग,सचेत करता फिरता हूँ
02 अप्रैल 2020
31 मार्च 2020
धि
धिक्कार है ऐसे लोगोंं परविजय कुमार तिवारीमन दहल उठता है।लाॅकडाउन में भी लाखों की भीड़ सड़कों पर है।भारत का प्रधानमन्त्री हाथ जोड़कर विनती करता है,आगाह करता है कि खतरा पूरी मानवजाति पर है।विकसित और सम्पन्न देश त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।विकास और ऐश्वर्य के बावजूद वे अपनी जनता को बचा नहीं पा रहे हैं।आज
31 मार्च 2020
25 मार्च 2020
आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडीपर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ...कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है - एक ऐसा शत्रु जिसे हमदेख नहीं सकते, छू नहीं सकते - पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभीभी किसी पर भी
25 मार्च 2020
21 मार्च 2020
🙏😊 एक विनम्र निवेदन 🙏😊आप सभी से निवेदन है कृपा करके कलघरों में ही रहें, और सम्भव हो तो घरोंमें आपकी सहायता के लिए आने वाली महिलाओं (यानी कामवाली बाई जिन्हें आमतौर पर बोलतेहैं), ड्राइवरों, प्रेस वालों, कार साफ़करने वालों आदि की भी हार्दिक धन्यवाद सहित कल छुट्टी कर दें - लेकिन उनका वेतन नकाटें । ऐस
21 मार्च 2020
30 मार्च 2020
*बस! सिर्फ पन्द्रह दिन और !!**डॉ दिनेश शर्मा*मुझे लगता है कि कोरोना के खिलाफ इस महायुद्ध में कुछ अपवादों कोछोड़कर जिस तरह देश की बड़ी जनता ने पिछले आठ दिनों में धैर्य, संकल्प और साहस का परिचय दिया है - वो पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बननेवाला है । जिस कठोर व्यवस्था और लॉक डाउन को मात्र एक प्रोविन्स में
30 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x