टक्कर सुपर वायरस और सुपर पावर्स की - सुवीर अग्निहोत्री

24 मार्च 2020   |  दिनेश डॉक्टर   (303 बार पढ़ा जा चुका है)

टक्कर सुपर वायरस और सुपर पावर्स की - सुवीर अग्निहोत्री

The virus has shaken the nations of the world but not their mindset. The dread of this new killer has not taught them how stupid it is to make arms and weapons against each other when an invisible army of micro-organism is surrounding the humans. This army is producing new strains of soldiers to pounce upon humans and devour them . In a single day the virus can silently wipe us all out. If the billions spent on developing , selling and buying arms and weapons of colossal destruction, are spent on research on the micro-beings lurking around with deadly potential , we may then have a greater edge in this war thrust upon our race.


We often proudly believe to be living in an age of science. Yet we are stupidly oblivious that we ourselves most unscientific in temper. The nations of the world as they call so themselves cannot shed prejudices and selfishness because these are the stuff nations are made from. But until the quarantines , namely nations, race and stupid “isms “ are dismantled , the lock downs as now we face, the masks, sanitisers, etc will be our future. It is time the super powers realise the hollowness of such super-sense labels and work in unison as a species on the nation earth up against the real foes.

The leaders need to read poetry, instead of political science.

अगला लेख: धर्म का मर्म- असग़र वज़ाहत



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अप्रैल 2020
🔘 युगान्धर टाइम्स न्यूज नेटवर्क कुशीनगर। जनपद के पडरौना नगर से सटे गांव अमवा जंगल से कोतवाली पुलिस ने दिल्ली के निजामुद्दीन के मरकज से लौटे दो जमातियों व तीन मददगारों को दबोच लिया। जमातियों में दो के हाटा स्थित एक मस्जिद में भी रुकने की बात सामने आई है। जमातियों सहित सात के विरुद्ध विभिन्न धाराओं म
07 अप्रैल 2020
01 अप्रैल 2020
मरकज़ की घटना पर जनाब असग़र वज़ाहत साहेब के विचारधर्म का मर्म- असग़र वज़ाहतदिल्ली में निजामुद्दीन इलाके के मरकज़ में जो घटना घटी उसने बहुत से सवाल खड़े कर दिए हैं। सबसे पहली बात यह की बिना प्रशासन को विश्वास में लिए इतने लोगों का जमा करना और वह भी इस माहौल में जमा करना कितना उचित है और कितना नहीं । दूसरी
01 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x