मेरा नबाब।

26 मार्च 2020   |  ललिता बोथरा   (312 बार पढ़ा जा चुका है)

जब से करोना महामारी फैलने लगी है उस दिन से मुझे नवाब (डांग) परिवर्तन देखने को मिला ।आजकल ये परिवार के साथ
ज्यादा रहना पसंद करता है।बाहर गेट के पास पहले गली का
कोई कुत्ता आ जाता था तो वह दौड़ कर उससे मिलने की कोशिश
करता पर आजकल वो उनके पास नहीं जाता। गाड़ी में भी घुमने
की जिद नहीं करता। उछलने कुदने वाला नवाब शांत रहने लगा।
ऐसा लगता है कि ये हम लोगों से ज्यादा समझदार है बहुत प्यारा है
मैं इसे हमारे से पहले खाना देती हु पर ये सारे खाना खाने के बाद
आता तय है।

अगला लेख: रंग मंच



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
29 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
रं
13 मार्च 2020
17 मार्च 2020
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x