शिव पुराण में कोरोना वायरस

27 मार्च 2020   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (637 बार पढ़ा जा चुका है)

शिव पुराण में कोरोना वायरस

शिवपुराण में कोरोना वायरस

सोशल मीडिया में एक बात दावा तेजी से वायरल हो रही है और उसमें दावा किया जा रहा है कि यह मन्त्र शिवपुराण का है और इसमें भगवान शिव से प्रार्थना की गई है कि हे महादेव आप करुणा के अवतार हैं, रुद्र रूप हैं, अशुभ का संहार करने वाले हैं, मृत्युंजय हैं | आज कोरोना जैसे वायरस ने महामारी फैलाई हुई है उससे हमारी रक्षा कीजिए | साथ ही यह भी दावा किया जा रहा है कि इस वायरस का जन्म चीन देश में हुआ है, मांसाहार के कारण हुआ है, और आज इसने सारे संसार को त्रस्त किया हुआ है | इस कोरोना वायरस से हमारी रक्षा कीजिए | इसका एक audio भी साथ ही वायरल हो रहा है | कई मित्रों ने हमसे पूछा कि क्या वास्तव में यह मन्त्र शिव पुराण से है ? सम्भवतः वे लोग इसलिए भी पूछना चाहते होंगे कि यदि शिव पुराण से हो तो इसका जाप आरम्भ कर दिया जाए |

तो यहाँ सबसे पहले तो एक बात कहना चाहेंगे कि ईश्वर से अपने कष्टों के समाधान के लिए प्रार्थना करना, मन्त्र का जाप करना कोई बुरी बात नहीं है – बल्कि ऐसा करने से एक प्रकार का मानसिक सम्बल प्राप्त होता है, क्योंकि अधिकाँश में मनुष्य धर्मभीरु है | तो आप निशंक होकर इस मन्त्र का भी जाप कर सकते हैं | नवरात्र चल रहे हैं तो बता दें कि श्री दुर्गा सप्तशती में तो इस प्रकार के अनेकों श्लोक उपलब्ध होते हैं जिनमें रोगों तथा अन्य सभी प्रकार की आधी व्याधियों से जन साधारण की रक्षा की बात कही गई है:

दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजन्तोः स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि | दारिद्रयदुःखभयहारिणि का त्वदन्या सर्वोपकारकरणाय सदार्द्र चित्ता ||

अर्थात, हे देवी, आप सभी प्राणियों के भय को हर कर स्वस्थ व्यक्तियों द्वारा चिन्तन करने पर उन्हें परम कल्याणकारी बुद्धि प्रदान करती हैं | आप दुःख दारिद्र्य को हरने वाली तथा सब पर उपकार करने के लिए आपका चित्त सदा ही दया से आर्द्र रहता है |

सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके |

शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ||

अर्थ स्पष्ट है |

शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे |

सर्वस्यार्तिहरे देवि नारायणि नमोऽस्तु ते ||

अर्थात, शरणागतों, दीनों एवं पीड़ितों की रक्षा में संलग्न रहने वाली तथा सबकी पीड़ा दूर करने वाली नारायणी देवी आपको नमस्कार है |

सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते |

भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवी नमोऽस्तु ते ||

अर्थात, आप सर्वस्वरूपा हैं, सर्वेश्वरी हैं तथा समस्त प्रकार की दिव्य शक्तियों से सम्पन्न दिव्य रूपा हैं, हमारी सभी भयों से रक्षा कीजिए, हम आपको नमन करते हैं |

और निम्नलिखित मन्त्र तो है ही रोगनाश के लिए...

रोगानशेषानपहंसि तुष्टा रुष्टा तु कामान् सकलानभीष्टान् |

त्वामाश्रितानां न विपन्नराणां त्वामाश्रिता ह्याश्रयतां प्रयान्ति ||

अर्थात, हे देवी ! आप प्रसन्न होने पर सब रोगों को नष्ट कर देती हैं और कुपित होने पर मनोवांछित सभी कामनाओं का नाश कर देती हैं | जो लोग आपकी शरण में हैं, उनपर विपत्ति तो आ ही नहीं सकती तथा ऐसे लोग अपनी शरण में आए हों को भी शरण दे सकते हैं |

इसी प्रकार के बहुत से मन्त्र न केवल दुर्गा सप्तशती में बल्कि बहुत से वैदिक ग्रन्थों में उपलब्ध होते हैं | और जैसा कि ऊपर लिखा, मन्त्र जाप श्रेष्ठ होता है | तो जो मन्त्र इस चित्र में दिया गया है वह तो किसी व्यक्ति ने बनाया ही कोरोना के सम्बन्ध में है और उसका जाप यदि आप करना चाहें तो अवश्य कीजिए | सम्भव है उससे लाभ भी हो | किन्तु, यह मन्त्र शिव पुराण का कदापि नहीं है, किसी व्यक्ति ने स्वयं इसकी रचना करके शिव पुराण के नाम से इसे प्रचारित कर दिया है | अच्छा होता यदि वह रचनाकार अपने स्वयं के नाम से ही इसका प्रचार करते, क्योंकि उन्होंने संसार के कल्याण की कामना से इस मन्त्र की रचना करके एक महान कार्य किया है |

बहरहाल, नवरात्र के दिनों में माँ भगवती सहित सभी देवी देवताओं से यह प्रार्थना तो की जा सकती ही है कि समस्त संसार को इस कोरोना नाम की आपत्ति से मुक्ति प्रदान करें | और विश्वास कीजिए, सच्चे मन से की गई प्रार्थनाएँ कभी निष्फल नहीं जातीं – किन्तु उसके साथ हमें अपने वैज्ञानिकों और डॉक्टर्स द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का पालन करना नहीं भूलना चाहिए – जैसे, साफ़ सफाई का ध्यान रखना, सामाजिक दूरी बनाए रखना इत्यादि | यदि ऐसा नहीं किया तो सारे मन्त्र निष्फल हो जाएँगे |

अगला लेख: षष्ठं कात्यायनी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मार्च 2020
The virus has shaken the nations of the world but not their mindset. The dread of this new killer has not taught them how stupid it is to make arms and weapons against each other when an invisible army of micro-organism is surrounding the humans. This army is producing new strains of soldiers to po
24 मार्च 2020
29 मार्च 2020
छठानवरात्र – देवी के कात्यायनी रूप की उपासनाविद्यासु शास्त्रेषु विवेकदीपेषुवाद्येषु वाक्येषु च का त्वदन्या |ममत्वगर्तेSतिमहान्धकारे,विभ्रामत्येतदतीव विश्वम् ||कल षष्ठी तिथि– छठा नवरात्र – समर्पित है कात्यायनी देवी की उपासना के निमित्त | देवी के इस रूपमें भी इनके चार हाथ माने जाते हैं और माना जाता है
29 मार्च 2020
24 मार्च 2020
सभी बारह राशियों के लिए गुरु का मकर में गोचरआज जब सारा विश्व कोरोना वायरस के आक्रमण से जूझ रहा है ऐसे में कुछलोगों का आग्रह कि गुरु के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों के विषय मेंलिखें – हमें हास्यास्पद लगा | किन्तु फिर भी, मित्रों केअनुरोध पर प्रस्तुत है सभी बारह राशियों पर गुरुदेव के मकर राश
24 मार्च 2020
27 मार्च 2020
चतुर्थ नवरात्र – देवी के कूष्माण्डारूप की उपासनाया देवी सर्वभूतेषु शान्तिरूपेण संस्थिता, नमस्तस्यैनमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः |कल चतुर्थनवरात्र है - चतुर्थी तिथि – माँ भगवती के कूष्माण्डा रूप की उपासना का दिन | इसदिन कूष्माण्डा देवी की पूजा अर्चना की जाती है | देवी कूष्माण्डा - सृष्टि कीआदिस्वरूपा आ
27 मार्च 2020
20 मार्च 2020
शुक्र का वृषभ में गोचरशनिवार 28 मार्च, चैत्र शुक्ल चतुर्थी को विष्टि करण और विषकुम्भयोग में दिन में 3:38 के लगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प,सौन्दर्य, बौद्धिकता,राजनीति तथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदिके कारक शुक्र का अपनी स्वयं की राशि वृषभ में प्रस्थान करेगा
20 मार्च 2020
23 मार्च 2020
गुरु का मकर में गोचरआज जब सारा विश्व कोरोना वायरस के आक्रमण से जूझ रहा है ऐसे में कुछलोगों का आग्रह कि गुरु के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों के विषय मेंलिखें – हमें हास्यास्पद लगा | किन्तु फिर भी, मित्रों केअनुरोध पर प्रस्तुत है गुरुदेव के मकर राशि में गोचर के सम्भावित परिणामों पर एकदृष्टि
23 मार्च 2020
25 मार्च 2020
द्वितीया ब्रह्मचारिणीनवदुर्गा– द्वितीय नवरात्र - देवी के ब्रह्मचारिणी रूप की उपासनाकल चैत्र शुक्लद्वितीया – दूसरा नवरात्र – माँ भगवती के दूसरे रूप की उपासना का दिन | देवी कादूसरा रूप ब्रह्मचारिणी का है – ब्रह्म चारयितुं शीलं यस्याः सा ब्रह्मचारिणी – अर्थात् ब्रह्मस्वरूप की प्राप्ति करना जिसका स्वभाव
25 मार्च 2020
25 मार्च 2020
आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडीपर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ...कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है - एक ऐसा शत्रु जिसे हमदेख नहीं सकते, छू नहीं सकते - पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभीभी किसी पर भी
25 मार्च 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x