मन का निग्रह :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (325 बार पढ़ा जा चुका है)

मन का निग्रह :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर मनुष्य सभी प्राणियों पर आधिपत्य करने वाला महाराजा है , और मनुष्य पर आधिपत्य करता है उसका मन क्योंकि मन हमारी इंद्रियों का राजा है | उसी के आदेश को इंद्रियां मानती हैं , आंखें रूप-अरूप को देखती हैं | वे मन को बताती हैं और मनुष्य उसी के अनुसार आचरण करने लगता है | कहने का आशय यह है कि समस्त चराचर को दास बनाने वाला मनुष्य अपने मन का दास है | गलत काम करने को मन करता है और मनुष्य उसे करने लगता है | गलत काम कराते समय मन मनुष्य पर हावी हो जाता है और काम कराकर वह भाग जाता है , और जब मनुष्य को होश आता है, तब वह पश्चाताप करने लगता है कि ऐसा गलत काम कैसे कर लिया ? यह पश्चाताप करने वाली मनुष्य की आत्मा है और गलत काम कराने वाला हमारा मन है | इसीलिए हमारे महापुरुषों ने मन का निग्रह करने का सुझाव बारम्बार दिया है , जिससे कि मनुष्य मन के पार जा सकें , क्योंकि जब तक मनुष्य मन के प्रभाव में दबा रहेगा, तब तक वह आत्म तत्व में अवगाहन नहीं कर सकेगा | परमात्मा तक पहुंचने में मन सदैव बाधक रहा है उसके लिए आत्मा का ही मार्ग है , ऐसा इसलिए क्योंकि आत्मा और परमात्मा एक ही हैं | आत्मा परमात्मा का लघु रूप है और परमात्मा आत्मा का विस्तार है , इसलिए दोनों दृश्य नहीं हैं, सूक्ष्म हैं | जो भी भावरूप होता है, वह सूक्ष्म होता है, अनुभवगम्य होता है जैसे प्रेम , करुणा , दया , वात्सल्य आदि भाव | मन को केवल अनुभव किया जा सकता है , आप अनुभव कर सकते हैं कि आप प्रेम करना चाहते हैं या घृणा चाहते हैं | आश्चर्य की बात है कि मन अधिकतर मामलों में हमेशा नीच कर्म की ओर ही प्रेरित करता है, क्याेंकि वह इंद्रियों का राजा है | इंद्रिया अपने राजा मन से भोग मांगती हैं | आंख को सुंदर रूप देखने का अधिक से अधिक अवसर मिले , जीभ को स्वाद मिले , हाथ को स्पर्श सुख चाहिए | कहने का अर्थ है कि सभी इंद्रिया अपना भोग-विलास मन से मांगती हैं और निरंकुश व चंचल मन को इनकी मांगें पूरी करनी पड़ती हैं | इसलिए यह चंचल रहता है, चारों ओर भागता रहता है | इस स्थिति में मन को स्थिर करना कठिन हो जाता है | इसी चंचलता के कारण मन विवेक को त्याग देता है क्योंकि मन महास्वार्थी है उसे भोग चाहिए | अगर मन विवेकशील बन जाए, तो इंद्रियों की जो अनैतिक मांगें हैं उन्हें कैसे पूरा कर सकता है क्योंकि विवेक उसे गलत काम नहीं करने देगा इसलिए मन के साथ विवेक कभी नहीं रहता , मन और विवेक का बैर है | मनुष्य ज्यों ही विवेकी बन जाता है, वह मन के पार चला जाता है | इसी क्रिया को संयम या मन का निग्रह कहते हैं | इस प्रकार अपने विवेक विवेक का प्रयोग करते हुए मन को संयमित रखकर हमारे महापुरुषों ने मानव कल्याण के लिए अनेक सिद्धियां प्राप्त की थीं |*


*आज मनुष्य पहले की अपेक्षा अधिक विवेकवान होने के बाद भी अपने मन को संयमित नहीं कर पा रहा है | आज समस्त विश्व में जो भी अत्याचार , व्यभिचार आदि का कोहराम मचा हुआ है उसका एकमात्र कारण मनुष्य के मन की चंचलता है | मन का निग्रह करने में असफल मनुष्य मन का दास हो गया है | आज की स्थिति यह है कि मनुष्य अपने मन के ऊपर नियंत्रण न कर पाने के कारण अनेकों कृत्य / कुकृत्य करता चला जा रहा है | अपने इन कुकृत्यों को सम्पन्न कर लेने के बाद परिणाम की आशंका में मनुष्य की आत्मा व्याकुल हो जाती है परंतु तब तक बहुत देर हो चुकी होती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यदि यह कह दूँ कि आज जो वैश्विक महामारी कोरोना के रूप में सम्पूर्ण मानवजाति को असमय काल कवलित कर रही है उसका एक कारण मन का संयमित न होना भी है तो अतिशयोक्ति न होगी | जैसा कि आज सभी जान गये हैं कि यह संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है इसीलिए अनेकों देश की सरकारें अपने देशवासियों से सामाजिक दूरी बनाये रखने का निवेदन बार - बार कर रही हैं | यद्यपि यह निवेदन मनुष्य की भलाई के लिए ही है परंतु "मन है कि मानता नहीं" को चरितार्थ करते हुए मनुष्य अपने घरों में नहीं रह पा रहा है क्योंकि आज मनुष्य का अपने मन पर संयम नहीं रह गया है | "मन का निग्रह" करने का सूत्र मनुष्य भूलता चला जा रहा है | अनेकों लोग पूजा - पाठ - जप आदि करते रहते हैं और उनका मन यत्र तत्र घूमता रहता है | ऐसी पूजा / जप करने का कोई अर्थ नहीं है | मनुष्य को यदि मनुष्य बने रहना है तो यह आवश्यक है कि मनुष्य अपने मन का निग्रह करे अन्यथा असंयमित मन मनुष्य को दानव बना देता है | आज समाज में इन दानवरूप मानवों की संख्या यदि बढ़ रही है तो उसका एक कारण प्राचीन शिक्षा प्रणाली का लुप्त हो जाना भी कहा जा सकता है | मन का निग्रह करने में मनुष्य तब तक नहीं सफल हो सकता जब तक उसमें संस्कार न हों और यह संस्कार आज न तो विद्यालय में मिल पा रहा है और न ही परिवार में इसीलिए मनुष्य निरंकुश होकर कोरोना जैसी महामारी के विस्तार में सहायक बनकर समस्त मानवजाति के लिए खतरा बन रहा है |*


*मन का निग्रह करके ही मनुष्य एक आदर्श स्थापित करने में सहायक हो सकता है | अत: मनुष्य को धीरे धीरे ही सही परंतु अपने चंचल मन के ऊपर आधिपत्य करने के लिए सतत प्नयत्नशील बने रहना चाहिए |*

अगला लेख: दान का महत्त्व :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 मार्च 2020
*सनातन धर्म में त्रिदेव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) प्रमुख देवता माने गये हैं | ब्रह्मा जी सृजन , शिव जी संहार एवं श्रीहरि विष्णु को संसार का पालन करने वाला बताया गया है | संसार का पालन करने के क्रम में सृष्टि को अनेकानेक संकटों से बचाने एवं धर्म की पुनर्स्थापना करने
18 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
11 अप्रैल 2020
🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺🌲🌺 ‼️ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼️ 🐍🏹 *लक्ष्मण* 🏹🐍 🌹 *भाग - २* 🌹🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸🍏🩸*➖➖➖ गतांक से आगे ➖➖➖**लक्ष्मण की जन्म से ही भगवान श्रीराम से बहुत प्रेम करते थे | लक्ष्मण जी के माता , पिता , गु
11 अप्रैल 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
14 मार्च 2020
*भारतीय सनातन परम्परा में जीवन के बाद की भी व्यवस्था बनाई गयी है | सनातन की मान्यता के अनुसार जीवन दो प्रकार का है प्रथम तो इहलौकिक एवं दूसरा पारलोकिक | मनुष्य इस धरती पर पैदा होता है और एक जीवन जीने के बाद मरकर इसी मिट्टी में मिल जाता है | यह मनुष्य का इहलौकिक जीवन है जहां से होकर मनुष्य परलोक को ज
14 मार्च 2020
14 मार्च 2020
*धरा धाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य के द्वारा अनेकों प्रकार के कर्म संपादित होते हैं | अपने संपूर्ण जीवन काल में अपने कर्मों के अनुसार मानव महामानव बन जाता है | मानव मात्र की आकांक्षा , अभिलाषा एवं आवश्यकता आदि की पूर्ति के लिए हमारे महापुरुषों ने तीन प्रकार के साधन बताये हैं :- १- कर्म , २- चिन्तन
14 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x