गाँव का महत्त्व ::-- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 मार्च 2020   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (298 बार पढ़ा जा चुका है)

गाँव का महत्त्व ::-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारा देश भारत गांवों का देश हमारे देश के प्राण हमारे गांव हैं , आवश्यकतानुसार देश का शहरीकरण होने लगा लोग गाँवों से शहरों की ओर पलायन करने लगे परंतु इतने पलायन एवं इतना शहरीकरण होने के बाद आज भी लगभग साठ - सत्तर प्रतिशत आबादी गांव में ही निवास करती है | गांव का जीवन शहरों से बिल्कुल भिन्न होता है | प्रेम , आत्मिकता एवं आपसी बंधुत्व का जो उदाहरण एवं प्राकृतिक आनन्दमयी वातावरण जो गाँव में देखने को मिलता है वह शहरों में कहीं दृष्टिगत नहीं होता है | भारतीय संस्कृति आज भी गाँवों में ही फलती - फूलती है , इसके अतिरिक्त सम्पूर्ण देश का उदर भरण गाँवों से ही होता है क्योंकि बिना अन्न के मनुष्य रह नहीं सकता और अन्न उत्पादन गाँवों में ही होता है | इस विशाल देश की कृषि व्यवस्था के आधार गाँव ही हैं यदि गाँव के किसान कृषिकार्य का बहिष्कार कर दें तो सम्पूर्ण देश भुखमरी के कगार पर पहुँच जायेगा | गाँव से शहरों की ओर पलायन करके कुछ दिन शहर में निवास करने वालों को न तो गाँव अच्छा लगता है और न ही गाँव के लोग | आधुनिक जीवनशैली को आत्मसात कर लेने के बाद इन शहरी लोगों को अपने ही गाँव के लोग देहाती एवं गंवार लगने लगते हैं | गाँव के लोग गंवार बिल्कुल भी नहीं होते हैं क्योंकि कला - संस्कृति एवं परम्पराओं का सृजन गाँव में ही होता है | मनुष्य जीवन में विकास करने के क्रम में आगे बढ़ता चला जाता है और अपने मूल (गाँव) को तिरस्कृत करते हुए भूलता चला जाता है परंतु शहरी लोगों से तिरस्कृत होने के बाद भी किसी आपदा के समय यह गाँव ही इनका आश्रयस्थल बनते हैं , यही गाँवों की आत्मीयता एवं संस्कार का उदाहरण है | जहाँ शहरों में लोग एक दूसरे को पहचानना नहीं चाहते वहीं गाँव में यदि कोई अपरिचित भी आ जाता है तो वह भोजन सत्कार आदि सब कुछ पा जाता है | शायद इसीलिए गाँवों को भारत का प्राण कहा जाता है |*


*आज देश संकटकाल में है , कोरोना नामक वैश्विक संक्रमण ने हमारे भारत को भी अपनी चपेट लेना प्रारम्भ कर दिया है , पूरा देश तालाबंदी का पालन कर रहा है , ऐसे में सारे उद्योग - धंधे बन्द हो गये हैं तो लोगों को गाँव याद आ रहा है | आज गाँवों को गंवार व देहाती कहकर शहरों में रह रहे लोगों का अपने गाँव के प्रति प्रेम देखकर बाबा जी की चौपाई "स्वारथ लाइ करहिं सब प्रीती" बरबस ही स्मरण हो जाती है | अपने गाँव के प्रति प्रेम प्रदर्शित करते हुए जिस प्रकार लोग एक बड़ी संख्या में शहरों को छोड़कर गाँवों की पलायन कर रहे हैं वह मनुष्य के स्वार्थ को उजागर करता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" विचार करता हूँ कि जिस गाँव को लोग बेकार एवं देहात कहकर हंसी उड़ाते थे वही गाँव आज इन लोगों का आश्रयस्थल बन रहे हैं | यद्यपि गाँ के लोग यह जानते हैं कि शहरों से यह संक्रमण गाँव में भी आ सकता है परंतु फिर भी आत्मीयता के नाते अपनों को आश्रय दे रहे हैं | प्रत्येक मनुष्य को अपने मूल का सम्मीन एवं संरक्षण करते रहना चाहिए क्योंकि यदि मूल ही नहीं रह जायेगा तो मानव अस्तित्व विहीन हो जायेगा | हमारे देश का मूल हमारे गाँव हैं देश के किसी भी आपत्ति में एक संरक्षक एवं अभिभावक के रूप में गाँवों ने अपनी भूमिका निभाई है | आज संकट की इस घड़ी में प्रत्येक शहरवासी बड़ी आशा भरी निगाहों से गाँव की ओर देखते हुए शहरों से पलायन कर रहा है , वहीं कुछ लोगों ने अपने गाँव व परिजनों का इतना अपमान कर दिया है कि चाहकर भी वे गाँव नहीं जा सकते , इसीलिए कभी भी अपने जन्मदाता एवं जन्मभूमि को अपमानित नहीं करना चाहिए क्योंकि इनकी गणना स्वर्ग से भी ऊपर की जाती है |*


*पक्षी आसमान कितना भी ऊँचा उड़कर धरती पर रहने वालों की हंसी उड़ाता हुआ स्वयं में गर्वित हो परंतु उसको भोजन लेने के लिए धरती पर ही आना पड़ता है , उसी प्रकार मनुष्य चाहे जितना आधुनिक एवं शहरी हो जाय अन्ततोगत्वा उसको शरह गाँव में ही मिलता है |*

अगला लेख: बहुमूल्य हैं प्राण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 मार्च 2020
*इस समस्त सृष्टि में वैसे तो बहुत कुछ है जो मनुष्य को प्रभावित करते हुए उसके जीवन में महत्वपूर्ण हो जाता है परंतु यदि आंकलन किया जाय तो मनुष्य को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है समय | इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान हुए हैं परंतु उनका बल भी समय के आगे व्यर्थ ही हो गया है अत: यह सिद्ध हो जाता है कि सम
24 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*हमारे देश भारत में समय-समय पर अनेकों त्योहार मनाए जाते हैं | भारतीय सनातन परंपरा में प्रत्येक त्योहारों का एक वैज्ञानिक महत्व होता है इन्हीं त्योहारों में से एक है "नववर्ष संवत्सर" जो कि आज चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को माना जाता है | आदिकाल से यदि चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को नववर्ष माना जा रहा है तो इसका का
25 मार्च 2020
25 मार्च 2020
*मानव जीवन में जिस प्रकार निडरता का होना आवश्यक है उसी प्रकार समय समय पर भय का होना परम आवश्यक है | जब मनुष्य को कोई भय नहीं जाता तब वह स्वछन्द एवं निर्द्वन्द होकर मनमाने कार्य करता हुआ अन्जाने में ही समाज के विपरीत क्रियाकलाप करने लगता है | भयभीत होना कोई अच्छी बात नहीं है परंतु कभी कभी परिस्थितिया
25 मार्च 2020
26 मार्च 2020
*मानव जीवन में अनेकों प्रकार की एवं मित्र बना करते हैं कुछ शत्रु तो ऐसे भी होते हैं जिनके विषय में हम कुछ भी नहीं जानते हैं परंतु वे हमारे लिए प्राणघातक सिद्ध होते हैं | शत्रु से बचने का उपाय मनुष्य आदिकाल से करता चला आया है | अपने एवं अपने समाज की सुरक्षा करना मनुष्य का प्रथम कर्तव्य है , अपने इस क
26 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
*मनुष्य को ईश्वर ने विवेक दिया है जिसका प्रयोग वह उचित - अनुचित का आंकलन करने में कर सके | मनुष्य के द्वारा किये गये क्रियाकलाप पूरे समाज को किसी न किसी प्रकार से प्रभावित अवश्य करते हैं | सामान्य दिनों में तो मनुष्य का काम चलता रहता है परंतु मनुष्य के विवेक की असली परीक्षा संकटकाल में ही होती है |
07 अप्रैल 2020
27 मार्च 2020
*सनातन धर्म पूर्ण वैज्ञानिकता पर आधारित है , हमारे पूर्वज इतने दूरदर्शी एवं ज्ञानी थे कि उन्हेंने आदिकाल से ही मानव कल्याण के लिए कई सामाजिक नियम निर्धारित किये थे | मानव जीवन में वैसे तो समय समय पर कई धटनायें घटित होती रहती हैं परंतु मानव जीवन की दो महत्त्वपूर्ण घटनायें होती हैं जिसे जन्म एवं मृत्य
27 मार्च 2020
29 मार्च 2020
*अपने संपूर्ण जीवन काल में मनुष्य में अनेक गुणों का प्रादुर्भाव होता है | अपने गुणों के माध्यम से ही मनुष्य समाज में सम्मान या अपमान अर्जित करता है | यदि मनुष्य के गुणों की बात की जाए तो धैर्य मानव जीवन में एक ऐसा गुण है जिसके गर्भ से शेष सभी गुण प्रस्फुटित होते है
29 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*इस समस्त सृष्टि में ईश्वर ने एक से बढ़कर एक बहुमूल्य , अमूल्य उपहार मनुष्य को उपभोग करने के लिए सृजित किये हैं | मनुष्य अपनी आवश्यकता एवं विवेक के अनुसार उस वस्तु का मूल्यांकन करते हुए श्रेणियां निर्धारित करता है | संसार में सबसे बहुमूल्य क्या है इस पर निर्णय देना बह
06 अप्रैल 2020
21 मार्च 2020
*सनातन धर्म शास्वत तो है ही साथ ही दिव्य एवं अलौकिक भी है | सनातन धर्म में ऐसे - ऐसे ऋषि - महर्षि हुए हैं जिनको भूत , भविष्य , वर्तमान तीनों का ज्ञान था | इसका छोटा सा उदाहरण हैं कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी | बाबा तुलसीदास जीने मानस के अन्तर्गत उत्तरकाण्ड में कलियुग के विषय में ज
21 मार्च 2020
06 अप्रैल 2020
*समस्त सृष्टि में मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है | मनुष्य ने इस धरती पर जन्म लेने के बाद विकास की ओर चलते हुए इस सृष्टि में उत्पन्न सभी प्राणियों पर शासन किया है | आकाश की ऊंचाइयों से लेकर की समुद्र की गहराइयों तक और इस पृथ्वी पर संपूर्ण आधिपत्य मनुष्य ने स्थापित किया है | हिंसक से हिंसक प्रा
06 अप्रैल 2020
23 मार्च 2020
*संपूर्ण विश्व में हमारा देश भारत एकमात्र ऐसा देश है जहां अनेक धर्म , संप्रदाय के लोग एक साथ निवास करते हैं | धर्म , भाषा एवं जीवनशैली भिन्न होने के बाद भी हम सभी भारतवासी हैं | किसी भी संकट के समय अनेकता में एकता का जो प्रदर्शन हमारे देश में देखने को मिलता है वह अन्यत्र कहीं दर्शनीय नहीं है | हमें
23 मार्च 2020
01 अप्रैल 2020
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति को धर्म का पालन करने का निर्देश बार - बार दिया गया है | धर्म को चार पैरों वाला वृषभ रूप में माना जाता है जिसके तीन पैरों की अपेक्षा चौथे पैर की मान्यता कलियुग में अधिक बताया गया है , धर्म के चौथे पैर को "दान" कहा गया है | तुलसीदास जी मामस में लिखते हैं :-- "प्रगट चार
01 अप्रैल 2020
22 मार्च 2020
*मनुष्य जिस स्थान / भूमि में जन्म लेता है वह उसकी जन्म भूमि कही जाती है | जन्मभूमि का क्या महत्व है इसका वर्णन हमारे शास्त्रों में भली-भांति किया गया है | प्रत्येक मनुष्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना चाहता है क्योंकि लोगों का मानना है कि स्वर्ग में जो सुख है वह और कहीं नहीं है परंतु हमारे शास्
22 मार्च 2020
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x