धिक्कार है ऐसे लोगो पर

31 मार्च 2020   |  विजय कुमार तिवारी   (284 बार पढ़ा जा चुका है)

धिक्कार है ऐसे लोगोंं पर

विजय कुमार तिवारी

मन दहल उठता है।लाॅकडाउन में भी लाखों की भीड़ सड़कों पर है।भारत का प्रधानमन्त्री हाथ जोड़कर विनती करता है,आगाह करता है कि खतरा पूरी मानवजाति पर है।विकसित और सम्पन्न देश त्राहि-त्राहि कर रहे हैं।विकास और ऐश्वर्य के बावजूद वे अपनी जनता को बचा नहीं पा रहे हैं।आज का आंकड़ा है कि पूरी दुनिया में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या आठ लाख से उपर है और सैंतिस हजार से अधिक लोग काल के मुँह मेंं समा चुके हैं।यह कहाँं तक जायेगा,पता नहीं।इसने धर्म,जाति,ऊँच-नीच,धनी-गरीब,वाद-विचारधारा किसी को नही छोड़ा है।कोई भी सीमा इसके लिए अलंघ्य नहीं है।

इसकी कोई दवा नहीं है।बचाव के कुछ उपाय हैं-घर में रहना,लोगोंं से दूरी बनाकर रहना,साफ-सफाई पर ध्यान देना,मुँह ढक कर बाहर निकलना(यदि निकलना अपरिहार्य हो)आदि-आदि।हर माध्यम से सरकार और समझदार लोग,चेतावनी दे रहे हैं।समय-समय पर नीतिगत फैसले लिये जा रहे हैं।सरकारें,प्रशासनिक महकमा,मेडिकल व्यवस्था,पुलिस, स्वयं-सेवी संस्थायें और जिम्मेदार,समझदार लोग सुरक्षा व्यवस्था में रात-दिन लगे हैं।इन सबने अपनी जान जोखिम मेंं डाला है।कुछ लोग इसकी चपेट में आये भी हैं।प्रधानमन्त्री जी ने जो तत्परता दिखाई है,जिस तरह सीमित संसाधन होते हुए भी साहसपूर्वक बड़ी धनराशि मुहैया करवायी है,लोगों में विश्वास जगाने का प्रयास किया है और हर आवश्यक कदम उठाया है,हृदय से मैं उनका अभिनन्दन करता हूँ।उत्तर प्रदेश के मुख्यमन्त्री योगी जी को भी मैं नमन करता हूँ।उनकी निर्णय लेने की क्षमता की आज पूरी दुनिया कायल है।देश के सभी मुख्यमन्त्रियों को उनसे सीखना चाहिए।

इस विश्वव्यापी त्रासद स्थिति में भी कुछ पार्टियाँ और मुख्यमन्त्री अपने तिकड़मों से बाज नहीं आ रहे हैं।ये इतने जाहिल और गंवार हैं कि सारी सुविधा व्यवस्था होने के बाद भी हालात की समय से जानकारी प्राप्त नहीं कर पाते।विरोध में इतने पागल हैं कि अपना कर्तव्याकर्तव्य छोड़ बैठे हैं।यह समय काम करनेे का है।

चुनाव के समय राजनीति करो,बयानबाजी करो,जहर उगलो,प्रदूषण फैलाओ या आग लगाओ,जो मन में आये करो परन्तु चुनाव के बाद सरकार बन गयी तो प्रदेश की खुशहाली,तरक्की और राज्य में शान्ति की व्यवस्था करनी चाहिए।भीतर भीतर गन्दगी फैलाते हो,बेइमानी करते हो,जघन्य अपराधियों को प्रश्रय देते हो,जनता को परेशान करते हो,नेताओं की हत्या करवाते हो और सत्ता के मद में चूर रहते हो।लोकप्रिय होने के लिए हथकण्डे अपनाते हो,खास वर्ग को सुविधायें देते हो।तुमने जाति,धर्म,क्षेत्र के आधार पर जीत के लिए गणना कर ली है।तुम्हारी सोच उतनी ही आबादी तक जाती है,शेष की अवहेलना करते हो,रौंदते हो और दबा देना चाहते हो।जो करना चाहिए,वह नहीं करते और जो नहीं करना चाहिए उसमें पूरी उर्जा लगाते हो।ईश्वर ने उस मुकाम पर पहुँचाया है,जहाँ विरले पहुँच पाते हैं,फिर भी चूक जाते हो और अपयश के भागी बनते हो।

तुमने व्यवस्था को कमजोर और लचर बना दिया है,सही जानकारी समय से मिल नही पाती या उन्हें विशेष मुहिम में लगा रखा है।कुछ तो ऐसे हैंं कि फेडरल व्यवस्था को तहस-नहस करने पर उतारू हैं।संविधान का सुविधानुसार उपयोग करते हैं।मनोनुकूल निर्णय नहीं हो तो कुछ भी बोलने से नही हिचकते।पार्टियाँ एक विशेष समुदाय में ही अपना वोटबैंक क्यों देखती है?उनका सत्तर सालों में बहुत विकास होना चाहिए था,राजनीतिक चेतना,शिक्षा, संस्कृति का अभूतपूर्व स्वरुप उभरना चाहिए था,ऐसा तो नहीं है और जो है वह अब पूरी दुनिया समझ रही है।उनके और उनके संरक्षकों के चेहरों से आवरण हट रहा है,सच्चाई सामने आ रही है।

जातियों,धर्मों,विचारों में बंटी जनता से कहना है,"तुम क्यों सुनते हो जिन्होंने तुम्हें बढ़ने नहीं दिया,बरगलाया,भरमाया और टुकड़े फेंकते रहे।तुम्हें पढ़ने नहीं दिया,हिस्सेदारी नहीं दी।अपना इतिहाह देखो।तुम्हें,तुम्हारे ही खिलाफ खड़ा किया गया,तुम समझते रहे कि दुश्मन बगल वाला है।

अब तो जान पर आ पड़ी है।इतने जाहिल हो कि देश की व्यवस्था को चुनौती देते निकल पड़े हो,पैदल भूखे-प्यासे निकले हो,लाखों की भीड़ में निकले हो और जिन्होंने तुम्हें प्रेरित किया,उकसाया,मात्र निकलने ही नहीं दिया वल्कि साधन भी सुलभ करवाया ताकि उनकी सीमा से बाहर निकल जाओ।यह भयंकर बहुआयामी षडयन्त्र है।यह खेल सब समझ रहे हैं,परन्तु वे नहींं समझ रहे जिन्हें समझना और सावधान होना चाहिए।इतना ही नहीं,विशेष वर्ग के लोग अपने धार्मिक स्थलों में एकत्र हो रहे हैं,देश ही नहीं,अनेक देशों के प्रतिनिधि भी हैं।रिपोर्ट आ गयी है,बहुत लोग संक्रमित है,कुछ की मृत्यु भी हुई है।कार्र्वाई होने की सूचना है।

दिल्ली प्रयोगशाला बन गयी है और आज न कल इसके भयानक परिणाम होंगे ही।धिक्कार है ऐसे लोगों पर,ऐसे नेताओं पर,ऐसी पार्टियों पर जो जानबुझकर महामारी फैलाने में लगे हैं।इनकी मानसिकता आतंकवादियों की आत्मघाती सोच से मिलती-जुलती है।ऐसा भी हो सकता है कि बाहरी-भीतरी देश-विरोधी शक्तियाँ इनको प्रायोजित कर रही हों।गहरी छानबीन की जरुरत है और दोषियों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

सत्तर सालोंं में इन गरीब लोगों के लिए कोई पालिसी धरातल पर नहीं उतरी।केवल नारा दिया गया।जनसंख्या नियन्त्रण पर कुछ नहीं हुआ।मुफ्तखोरी की आदत डाली गयी।पुरुषार्थ छिनकर इनके मस्तिष्क में जहर भर दिया गया।हमारा विपक्ष दिशाहीन हो चुका है।देश के खिलाफ किसी भी हद तक जा सकता है और विरोधी ताकतों से हाथ मिला लेता है।आकंठ बेईमानी और भ्रष्टाचार में डूबा है।भाई-भतीजावाद को प्रश्रय देकर अयोग्य लोगों को देश का नेतृत्व देता रहा है और आगे भी देना चाहता है।ऐसे लोगों को पहचान लो।कब तक इनके झांसे में आते रहोगे? मीडिया का बड़ा वर्ग विरोधी ताकतों से मिला हुआ है और देश विरोध का काम कर रहा है।

सुखद है कि आज एक सजग नेतृत्व है जिसने पहली बार लोगों में उम्मीद जगायी है,दुनिया के मंचों पर भारत को सम्मान मिला है और देश सुरक्षित है।आज नहीं समझे तो स्वयं मरोगे और सबको मारोगे।

अगला लेख: मेरे आनंद की बाते



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2020
महर्षि अरविन्द का पूर्णयोगविजय कुमार तिवारीमहर्षि अरविन्द का दर्शन इस रुप में अन्य लोगोंं के चिन्तन से भिन्न है कि उन्होंने आरोहण(उर्ध्वगमन)द्वारा परमात्-प्राप्ति के उपरान्त उस विराट् सत्ता को मनुष्य में अवतरण अर्थात् उतार लाने की चर्चा की है।यह उनका एक नवीन चिन्तन है।गीता में दोनो बातें कही गयी हैं
26 मार्च 2020
05 अप्रैल 2020
5
5 अप्रैल 2020,रात 9 बजे,9 मिनट का प्रकाश-पर्वविजय कुमार तिवारीविश्वास करें,यह कोई सामान्य घटना घटित होने नहीं जा रही है और ना ही आज का प्रकाश-पर्व एक सामान्य प्रकाश-पर्व है।ब्रह्माण्ड की ब्रह्म-शक्ति का आह्वान हम सम्पूर्ण देशवासी प्रकाश-पर्व मनाकर करने जा रहे हैं।हमारे भीतर स्थित वह दिव्य-चेतना जागृ
05 अप्रैल 2020
27 मार्च 2020
जि
कहानीजिन्दगी सुखद संयोगों का खेल है।विजय कुमार तिवारीरमणी बाबू को भगवान में बहुत श्रद्धा है।उसके मन मेंं यह बात गहरे उतर गयी है कि अच्छे दिन अवश्य आयेंगे।अक्सर वे सुहाने दिनों की कल्पना में खो जाते हैं और वर्तमान की छोटी-छोटी जरुरतों की लिस्ट बनाते रहते हैं।गाँव के लड़के स्कूल साईकिल पर जाते थे तो व
27 मार्च 2020
13 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-3विजय कुमार तिवारी"मैं किसी से नहीं डरता,"मोहन चन्द्र पूरी बेहयायी पर उतर आये।प्रमोद बाबू ने अपने आपको रोका।सुबह की ताजी हवा में भी गर्माहट की अनुभूति हुई और दुख हुआ।हिम्मत करके उन्होंने कहा,"मोहन चन्द्र जी,दूसरों की जिन्दगी में टांग अड़ाना ठीक नहीं है।आपकी बात सही हो तब
13 अप्रैल 2020
12 अप्रैल 2020
खू
कहानीखूबसूरत आँखोंवाली लड़की-2विजय कुमार तिवारीप्रमोद बाबू भी इस माहौल से अछूते नहीं रहे।उनका मिलना-जुलना शुरु हो गया।कार्यालय में बहुत लोगों के काम होते जिसे बड़े ही सहृदय भाव से निबटाते और कोशिश करते कि किसी को कोई शिकायत ना हो।स्थानीय लोगों से उनकी अच्छी जान-पहचान हो गयी है।सुरक्षा बल के लोगों के
12 अप्रैल 2020
07 अप्रैल 2020
वि
विपत्ति में हीविजय कुमार तिवारीप्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित ह
07 अप्रैल 2020
03 अप्रैल 2020
कविताहर युग मेंं आते हैं भगवानविजय कुमार तिवारीद्रष्टा ऋषियों ने संवारा,सजाया है यह भू-खण्ड,संजोये हैं वेद की ऋचाओं में जीवन-सूत्र,उपनिषदों ने खोलें हैं परब्रह्म तक पहुँचने के द्वार,कण-कण में चेतन है वह विराट् सत्ता।सनातन खो नहीं सकता अपना ध्येय,तिरोहित नहीं होगें हमारे पुरुषोत्तम के आदर्श,महाभारत स
03 अप्रैल 2020
02 अप्रैल 2020
मे
मेरे आनन्द की बातेंविजय कुमार तिवारीकभी-कभी सोचता हूँं कि मैं क्योंं लिखता हूँ?क्योंं दुनिया को लिखकर बताना चाहता हूँ कि मुझे क्या अच्छा लगता है?मेरी समझ से जो भी गलत दिखता है या देश-समाज के लिए हानिप्रद लगता है,क्यों लोगों को उसके बारे में आगाह करना चाहता हूँ?क्यों दुनिया को सजग,सचेत करता फिरता हूँ
02 अप्रैल 2020
30 मार्च 2020
*बस! सिर्फ पन्द्रह दिन और !!**डॉ दिनेश शर्मा*मुझे लगता है कि कोरोना के खिलाफ इस महायुद्ध में कुछ अपवादों कोछोड़कर जिस तरह देश की बड़ी जनता ने पिछले आठ दिनों में धैर्य, संकल्प और साहस का परिचय दिया है - वो पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल बननेवाला है । जिस कठोर व्यवस्था और लॉक डाउन को मात्र एक प्रोविन्स में
30 मार्च 2020
01 अप्रैल 2020
कविताशहर प्रयोगशाला हो गया हैविजय कुमार तिवारीछद्मवेष में सभी बाहर निकल आये हैंं,लिख रहे हैं इतिहास में दर्ज होनेवाली कवितायें,सुननी पड़ेगी उनकी बातेंं,देखना पड़ेगा बार-बार भोला सा चेहरा।तुमने ही उसे सिंहासन दिया है,और अपने उपर राज करने का अधिकार।दिन में वह ओढ़ता-बिछाता है तुम्हारी सभ्यता-संस्कृति,उ
01 अप्रैल 2020
25 मार्च 2020
को
करोना और स्त्रीविजय कुमार तिवारीकल प्रधानमन्त्री ने देश मेंं कोरोना के चलते ईक्कीस दिनों के"लाॅकडाउन"की घोषणा की है।सभी को अपने-अपने घरों में रहना है।बाहर जाने का सवाल ही नहीं उठता।घर मेंं चौबिसों घण्टे पत्नी के साथ रह पाना,सोचकर ही मन भारी हो जाता है।किसी साधु-सन्त के पास इससे बचाव का उपाय नहीं है।
25 मार्च 2020
20 मार्च 2020
नि
निर्भया के बहानेविजय कुमार तिवारीअन्ततः आज २० मार्च २०२० को निर्भया के दोषियों को फांसी हो ही गयी।१६ दिसम्बर २०१२ को निर्भया के साथ दरिन्दों ने जघन्य अपराध किया था।पूरा देश उबल पड़ा था और हमारी सम्पूर्ण व्यवस्था पर नाना तरह के प्रश्न खड़े किये जा रहे थे।हमारा प्रशासन,हमारी न्याय व्यवस्था,हमारा राजनै
20 मार्च 2020
07 अप्रैल 2020
वि
विपत्ति में हीविजय कुमार तिवारीप्राचीन मुहावरा है,"विपत्ति में ही अच्छे-बुरे की पहचान होती है।"मानवता के सामने सबसे भयावह और संहारक परिस्थिति खड़ी हुई है।पूरी दुनिया बेबस और लाचार है।हमारे विकास के सारे तन्त्र धरे के धरे रह गये हैं।कुछ भी काम नहीं आ रहा है।स्थिति तो यह हो गयी है कि जो जितना विकसित ह
07 अप्रैल 2020
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x